‘मॉनसून शूटआउट’ का नया गाना ‘अंधेरी रात’ में दिया हुआ रिलीज़ THE फैक्ट्री कार्नर ने मनाया बालदिवस कई खतरनाक बीमारियों को दूर भगाता है अमरूद, जानिए अभिनेत्री नमिता ने फिल्म निर्माता वीरेंद्र चौधरी संग रचाई शादी DSP ने शादी का झांसा देकर महिला कांस्टेबल से बनाए शारीरिक सम्बन्ध सुस्त मांग से सोने में गिरावट, चांदी स्थिर मिनटों में निखरी और बेदाग त्वचा पाने के लिए दही का करें इस्तेमाल JIO का ऐलान, कल से बंद हो जायेगी ये सर्विस मिस्र के उत्तरी प्रांत में चरमपंथियों का हमला, 85 लोगो की मौत, 80 घायल ईरान: 4.3 की तीव्रता से आया भूकंप, 35 घायल दिल्ली के न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में चलती बस में युवक की चाकू मारकर की हत्या अब इन दोनों कपल का हुआ ब्रेकअप, 4 सालों से कर रहे थे डेट ईरान के पश्चिमी प्रांत में भूकंप के झटके, 36 लोग घायल क्या नोटबंदी के समय किसी सूटवाले को लाइन में देखा था: राहुल गांधी RSS प्रमुख मोहन भागवत का बड़ा बयान, कहा- अयोध्या में राम मंदिर बनेगा इसके अलावा कुछ नहीं टमाटर के दाम 80 रुपये प्रति किलोग्राम हुए, यह हैं वजह सागरिका संग विवाह बंधन में बंधने पर जहीर को इस खिलाड़ी ने दी ये नेक सलाह... 27 नवंबर को गुजरात में PM मोदी, पांच दिन में 17 जनसभाओं को करेंगे संबोधित अक्टूबर में किराया बढ़ाने की वजह से दिल्ली मेट्रो में रोजाना घटे 3 लाख यात्री लिखे गए नोट होंगे वैध: RBI
प्लास्टिक में पैक फ़ूड का सेवन पुरुषों के लिए है खतरनाक!
sanjeevnitoday.com | Sunday, July 16, 2017 | 11:38:58 AM
1 of 1

नई दिल्ली। प्लास्टिक में पाए जाने वाले हानिकारक रसायनों से पुरुषों में गंभीर बीमारियां होने की आशंका रहती है। सूत्रों के अनुसार, एडिलेड विश्वविद्यालय व दक्षिण ऑस्ट्रेलियाई स्वास्थ्य एवं मेडिकल अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों ने 1,500 से ज्यादा पुरुषों में थैलेट्स नामक रसायन की मौजूदगी की संभावना की जांच की है। 


एडिलेड विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर जुमिन शी ने कहा कि परीक्षण किए गए पुरुषों में थैलेट्स की पहचान करीब हर (99.6 फीसदी) 35 साल व उससे ज्यादा आयु वाले लोगों के पेशाब के नमूने में पाया गया है। ऐसा प्लास्टिक के बर्तनों या बोतलों में रखे खाद्य पदार्थ को खाने से हुआ है। 


शी ने एक बयान में कहा, "हमने ज्यादा थैलेट्स स्तर वाले पुरुषों में दिल संबंधी बीमारियां, टाइप-2 मधुमेह व उच्च रक्त दाब को बढ़ा हुआ पाया है। "उन्होंने कहा, "हम अभी भी थैलेट्स के स्वतंत्र रूप से बीमारी से जुड़े होने से सटीक कारण को नहीं समझ सके हैं। हम मानव अंत:स्रावी प्रणाली पर रसायनों के प्रभाव को जानते हैं, जो हार्मोन के स्राव को नियंत्रित करते हैं, जो शरीर के वृद्धि, उपापचय व लैंगिक विकास व कार्य को नियमित करते हैं।"


शी ने कहा कि यह विशेष बात है कि पश्चिम के लोगों में थैलेट्स का स्तर ज्यादा है, क्योंकि वहां बहुत सारे खाद्य पदार्थो को अब प्लास्टिक में पैक किया जाता है। उन्होंने कहा कि पहले के शोध में पाया गया है कि जो सॉफ्ट ड्रिंक पीते हैं और पहले से पैक खाद्य सामग्री को खाते हैं, उनके पेशाब में स्वस्थ लोगों की तुलना में थैलेट्स की मात्रा ज्यादा पाई गई।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.