B' day special: सिमी ग्रेवाल ने मनाया 70वां जन्मदिन, जामनगर के महाराजा से था अफेयर क्यों नहीं आ रहे है ATM से 200 रुपये के नोट? ये रहा जवाब कादर खान ना बोलते ना चलते, तस्वीर वायरल BSF ने सुचेतगढ़ इलाके से पाकिस्तानी घुसपैठिये को किया गिरफ्तार इस शिव मंदिर की मूर्तियों को छूने से डरते है लोग उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच कभी भी हो सकता है परमाणु युद्ध : किम इन यॉन्ग हर महीने लाखों रुपए कमाती है 8 साल की ये लड़की मुख्यमंत्री राजे ने की, अजमेर से अन्नपूर्णा रसोई के दूसरे चरण की शुरुआत बच्चो के ट्विटर पर बने फर्जी अंकाउट को लेकर भड़के सचिन इस अनोखी शादी के बारें में जानकर आप भी रह जाएंगे दंग! Park में खेलते हुए लड़के को मिला दुनिया का दुर्लभ ब्राउन डायमंड B'day special: 47वें जन्मदिन पर कुंबले को नहीं किया कोहली ने विश संतोषी की मां कोईली देवी ने कहा -"मेरी बेटी भूख से मर रही थी और वो आधार मांग रहे थे" अनोखा गांव: यहां पर सिर्फ प्लास्टिक की बोतलों से बने हुए है घर ट्रक ड्राइवर ने 35 ओवर के मैच में 40 छक्के जड़कर बनाया तिहरा शतक पनामा पेपर लीक मामले को सामने लाने वाली पत्रकार की हुई मौत ताजमहल भारतीय मजदूरों के खून-पसीने से बना है: CM योगी 21 और 22 अक्टूबर 2017 को मनाई जाएगी युगावतार बहाउल्लाह के जन्म की 200वी वर्षगांठ विराट-अनुष्का की ये तस्वीर देख थम जाएंगी आप की निगाहे कैदी ने हाथ की नस काटकर जान देने का किया प्रयास
फादर्स डेःथैंक्यू पापा, मुझे हौंसलों के पर देने के लिये
sanjeevnitoday.com | Sunday, June 18, 2017 | 06:01:39 AM
1 of 1

मेरे प्यारे पापा,
कैसे लिखूं, क्या लिखूं, समझ नहीं आ रहा। इससे पहले कभी कोई पत्र लिखा भी तो नहीं है। पहले सोचा आपको फोन करूं। और अपने दिल की वो सारी बातें आपसे कह डालूं जो अब तक नहीं कहीं। सबसे पहले कहूं थैंक्यू पापा मुझे ये सिखाने के लिये कि सबसे जरूरी है, खुद पर भरोसा करना। थैंक्यू पापा ये बताने के लिये कि हर परिस्थिति में आप मेरे साथ हैं। थैंक्यू पापा कि मुझे इस दुनिया में जीने का सलीका सिखाने के लिये। 
  लेकिन न जाने कौन सा संकोच है जो मेरे दिल के एहसास जुबान पर आ ही नहीं पाते। इसलिये आज ये पत्र मैं आपको लिख रहीं हूं। 
   सच कहूं तो पापा आपका होना मेरे वजूद का होने जैसा है। दुनिया को लगता है मैं एक आत्मविश्वास से भरी लड़की हूं। पर ये किसी को नहीं पता कि मेरा आत्मविश्वास दरअसल आपका दिया हुआ भरोस है। 


आज बचपन की बहुत सारी बातें याद आ रही हैं। मुझे आज भी याद है रविवार के दिन जब खाली सड़क के लालच में मैं भरी दोपहरी मैं साइकिल सीखने निकल पड़ती थी। आप पहले तो धूप खत्म होने का इंतजार करने के लिये कहते, लेकिन जब मैं जिद करती तो आप भी निकल पड़ते, मेरे पीछे-पीछे। कैरियर पकड़े मेरे पीछे पीछे आप भी भागते। मुझे हौंसला देते, डरो मत मैं हूं। गिरोगी नहीं। मारो पैडल मारो। गिरने लगोगी तो संभाल लूंगा। सच बताऊं तो आज भी जब मैं कभी गिरने लगती हूं तो आपकी आवाज आती है, डरो मत आगे बढ़ो मैं संभाल लूंगा। गिरने नहीं दूंगा। और मैं जिंदगी के पैडल मारने लगती हूं पूरी ताकत से। 
  और एक दिन मुझे बिना बताये धीरे से आपने मेरा कैरियर छोड़ दिया था। और मैं पैडल मारती हुई आगे निकल गई थी। आप बिल्कुल बच्चों की तरह उछल पड़े थे। अपने दोनों हाथों को उठाकर आप जोर से चिल्लाये थे। देखा मैं कह रहा था न कि डरो मत पैडल मारो। मैंने गुस्से में कहा था अगर मैं गिर जाती तो, आपने कहा था, गिरती कैसे भागकर पकड़ लेता। 
थैंक्यू पापा मुझे हौंसला देने के लिये। मुझे यकीन दिलाने के लिये कि मैं जब भी गिरूंगी आप मुझे संभाल लेंगे।
  और वो पढ़ते पढ़ते मेरा सो जाना और आपका कमरे के भीतर चुपके से आकर मेरा माथा सहलाना कैसे भूल सकती हूं। आज एक राज खोलूं। जब आप मेरी बिखरी किताबें बेड से हटा रहे होते थे। मुझे चादर उढ़ा रहे होते थे। मैं सोने का बहाना बना रही होती थी। एक इंतजार सा रहता था कि अब आप कमरे में आएंगे और चादर उढ़ाते उढ़ाते मेरा माथा सहलायेंगे। कितना सुकून होता था, आपकी उस छुअन में।


पापा सच कहूं, तो आज भी कई बार जब मैं थककर चूर हो जाती हूं। रात को सोने बेड पर जाती हूं तो लगता आप अभी आयेंगे और चादर उढ़ायेंगे। पापा वो सुकून की नींद अब नहीं आती।
    पापा पता है, कब से मुझे बुखार नहीं चढ़ा। या शायद चढ़ा भी तो महसूस नहीं किया। पता है क्यों क्योंकि मुझे पता है अब कोई पूरी रात मेरे माथे को नहीं सहलायेगा। मेरे पैरों और हाथों को नहीं दबायेगा। पूरी रात आप मेरे सिरहाने बैठकर काट देते थे। मां बार बार आकर कहतीं, अब सो जाओ कल दफ्तर भी तो जाना है। बुखार भी उतर गया है। लेकिन आप वहां से हिलते नहीं थे। और पूरी रात जागकर मेरे जगने से पहले सुबह- सुबह दफ्तर निकल जाते। उन सारी जागकर काटी हुई रातों के लिये थैंक्यू पापा।
अरे हां, आपको ध्यान है पापा मैंने पहली बार जब रोटी बनाई थी। आपने क्या चटखारे लेकर खाई थी। आपने कहा था मां से ज्यादा अच्छी रोटी मेरी बनी है। और मैं मां को चिढ़ाने लगी थी। देखा, आपसे भी अच्छी रोटी बनाना सीख गई हूं। मुझे बाद में पता चला कि वह कच्ची पक्की रोटी कितनी बेस्वाद थी। थैंक्यू पापा मेरी कमियों को छिपाने के लिये।
 आपने पहली बार जब मुझे स्कूटी लाकर दी थी, तो मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा था। आपने कहा था अब मेरी परी पर लगाकर उड़ेगी। हां, पापा आपने ही तो पर दिये हैं उड़ने के लिये मुझे। हौंसलों के पर। 
  और सबसे ज्यादा दुनिया के उलट ये बताने के लिये कि बेटी की शादी भले ही हो जाये पर उसका घर कभी नहीं छूटता। आपने मेरी विदाई के वक्त कहा था। बेटा याद रखना ये घर जितना पहले तुम्हारा था, उतना ही आज भी है। जब भी कभी कुछ कहना हो, मांगना हो बेहिचक मांगना। पापा थैंक्यू मुझे मेरे घर से पराया न करने के लिये। 
     आज भी फोन पर मेरी आवाज सुनकर मेरी हर कही अनकही बात जान लेते हैं। मेरी उदासी भांप लेते हैं। और गंभीर होकर पूछते हैं बिटिया कोई बात तो नहीं। खुश हो न। जब मैं कहती हूं कुछ नहीं बस दफ्तर से लौटीं हूं थकी हुई हूं, तो आप कहते हैं, बेटिया मेहनत आदमी को आत्मविश्वास देती है। मुझे पता है तुम एक दिन बहुत सफल इंसान बनोगी। पर बिटिया पूरी तरह से सफल इंसान वही होता है जो एक बेहतर इंसान भी होता है।  बिटिया अपनी जरूरतें मुझसे बेझिझक कहना। जब भी बुलाओगी तुरंत आ जाऊंगा।  आपकी ये बात सुनकर मैं हंस देती हूं पापा अब अब आपकी उम्र दौड़भाग करने की नहीं है। कब तक जवान रहेंगे। तो आप हंसकर कहते हैं। जब तक तुम बड़ी नहीं हो जाती। आपकी ये बात सुनकर याद आती है, मेराज फैजाबादी की वो लाइन-मुझको थकने नहीं देता ये जरूरतों का पहाड़ मेरे बच्चे मुझे बूढ़ा होने नहीं देते...। 

 आपकी प्यारी बिटिया

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.