BIGG BOSS 11: साफ-सुथरी नहीं होने के कारण घर वालो ने ढिंचैक पूजा से बनाई दूरी नोटबंदी के एक साल पुरे होने पर 8 नवंबर को विपक्ष मनाएंगा 'काला दिवस' दोस्त ने किया विश्वासघात, पत्नी के साथ कर दिया कुछ ऐसा... एक बार फिर ‘गोलमाल 5’ में नजर आ सकती है करीना 7 साल बाद फिर से एक हुए ये दो दोस्त, एक-दूसरे को लगाया गले! ससुराल वालों को भरोसे में लेकर दामाद ने साली के साथ खेला ऐसा 'खेल' ISSF World Cup: निशानेबाजी में हीना-जीतू ने जीता गोल्ड मैडल Fake ID बनाकर लड़कियों को नौकरी के लिए बुलाया और फिर... 2019: ईद के मौके पर सलमान देंगे अपने फैंस को ये खास गिफ्ट दिल्ली: हिजबुल मुजाहिदीन चीफ सैयद सलाउद्दीन का बेटा टेरर फंडिंग केस में गिरफ्तार अब पंजाब में जानवर पालने पर लगेगा टैक्स, सरकार ने जारी किया नोटिफिकेशन वसुंधरा सरकार ने विधानसभा की सेलेक्ट कमेटी को भेजा विवादित अध्यादेश बिहार: सुशील मोदी के ट्वीट का लालू के बेटे तेजस्वी ने किया पलटवार दो परमाणु रिएक्टरों का काम जल्‍द शुरू होगा: कोरिया अशोक गहलोत ने BJP पर लगाया जासूसी का आरोप! B'day Special: पेरिस के रियल एस्टेट बिजनेसमैन को डेट कर रही है मल्ल‍िका शेरावत चाचा ने 2 साल की भतीजी को बनाया अपनी हवस का शिकार नशे में धुत युवक ने दिनदहाड़े महिला को बनाया हवस का शिकार रुपया 11 पैसा सुधरकर 64.91 के स्तर पर खुला कादर खान को जन्मदिन की बधाई देने के चक्कर में ट्रोल हुए शत्रुघ्न सिन्हा
चिकित्सकों की कमी के चलते स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल
sanjeevnitoday.com | Saturday, August 12, 2017 | 02:15:42 AM
1 of 1

उत्तरकाशी। जिले में स्वास्थ्य सेवाओं का हाल बदहाल है। जिला अस्पताल से लेकर सुदूरवर्ती गांवों तक के एलोपैथिक अस्पताल चिकित्सकों की कमी से जूझ रहे हैं। चिकित्सकों की यह कमी मरीजों पर भारी पड़ रही है। खासकर महिला चिकित्सकों की स्थित तो जिले में सबसे बदहाल है।

पहाड़ पर डॉक्टर चढ़ने को तैयार नहीं हो रहे। सीमांत जिले में बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं को संजीवनी देने के लिए भेजे गए 10 चिकित्सकों में से चार चिकित्सकों ने अपनी पहुंच दिखते हुए अपना ट्रांसफर फिर से मैदानी क्षेत्रों में कर दिया है। जिले के चार सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, 8 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, 7 अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, 20 स्टेट एलोपैथिक डिस्पेंसरी व 85 स्वास्थ्य उप केंद्रों का संचालन 38 चिकित्सकों के भरोसे चल रहा। 

यह भी पढ़े: यहां जिंदा लोगों को किया जाता है कब्र में दफन!
अधिकांश चिकित्सालय तो ऐसे हैं जहां चिकित्सक न होने के कारण अभी भी ताले लटके हुए हैं। जिले के तहसील व जिला मुख्यालय के अस्पतालों का हाल भी अच्छा नहीं है। जिला महिला अस्पताल में दो चिकित्सक तो हैं। लेकिन, इसमें एक ही चिकित्सक ऐसी है जो प्रसव पीड़िता की गंभीर स्थित में ऑपरेशन के जरिये प्रसव करा सकती है। वह चिकित्सक इन दिनों अवकाश पर है। 


इस कारण स्थिति और भी गंभीर बन गई है। ऐसी स्थिति में अगर कोई प्रसव पीड़िता गंभीर स्थिति में आ गई तो चिकित्सकों के पास उसे रेफर करने के अलावा कोई और उपाय नहीं है। महिला चिकित्सालय में शिशुओं को टीका करण के विभाग में भी केवल एक ही नर्स है। हर दिन अस्पताल में 8 बच्चों का जन्म होता है। साथ ही बुधवार के दिन टीकाकरण करने वालों भी भीड़ लगी रहती है। वहीं यमुना घाटी में गर्भवती महिलाओं को अल्ट्रासाउंड के लिए भटकना पड़ा रहा है।

सीएचसी नौगांव में मशीन तो हैं लेकिन रेडियोलॉजिस्ट नहीं है। पुरोला में मशीन खराब पड़ी है। रेडियोलॉजिस्ट न होने से यमुना घाटी में तैनात डिप्टी सीएमओ को सप्ताह में दो दिन नौगांव में अल्ट्रासाउंड की सेवा देनी पड़ रहा है। सीएमओ डॉ. कल्पना गुप्ता ने बताया कि पहाड़ों में चिकित्सकों की कमी तो है। इस संबंध में निदेशालय को भी जानकारी है। इतने चिकित्सक और सुविधाएं हैं। उनके जरिये बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं को देने का प्रयास किया जा रहा है।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.