संजीवनी टुडे

News

राजधानी समेत उत्तर भारत में कोहरे की मार: 18 फ्लाइट्स और 50 ट्रेनें हुईं लेट

Sanjeevni Today 30-11-2016 13:52:31

नई दिल्ली। देश की राजधानी, आसपास के इलाकों और उत्तर भारत के कुछ राज्यों में बुधवार को घना कोहरा नजर आया। इस सीजन में पहली बार कोहरा पड़ा है। घने कोहरे के साथ-साथ न्यूनतम तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई। दिल्ली में न्यूनतम तापमान 11 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह इस सीजन के औसत से एक डिग्री कम है।

फ्लाइट्स को किया डायवर्ट
कोहरे की वजह से 18 फ्लाइट्स और 50 ट्रेनें लेट हो गईं। दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनैशनल एयरपोर्ट पर खराब विजिबिलिटी की वजह से कम से कम 13 फ्लाइट्स को डायवर्ट करना पड़ा। अधिकारियों ने बताया, 'रनवे पर विजिबिलिटी में आई कमी की वजह से 18 से ज्यादा फ्लाइट्स देर हुई हैं। इसकी वजह से एयरपोर्ट अधिकारियों को एलवीपी (लो विजिबिलिटी प्रोसिजर) के मुताबिक फ्लाइट्स का संचालन करना पड़ा।'

विजिबिलिटी में आयी कमी 
एयरपोर्ट और आसपास के इलाकों में सुबह साढ़े पांच बजे के करीब विजिबिलिटी 800 मीटर रेकॉर्ड किया गया हैं, जो तीन घंटे बाद घटकर 200 मीटर रह गई। रिलेटिव ह्यूमिडिटी भी 98 पर्सेंट दर्ज की गई। अधिकारी ने कहा, 'यह इस मौसम में पहला कोहरा है। दिन के वक्त आसमान साफ रहने की संभावना है। अधिकतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस के आसपास बने रहने की उम्मीद है।'

रेलवे में मंथन शुरू
रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि कोहरे का असर पटना, रांची, हावड़ा, भुवनेश्वर और अन्य स्थानों से दिल्ली के लिए चलने वाली 50 ट्रेनों पर पड़ा। ट्रेनों के सुरक्षित परिचालन को लेकर मंथन भी शुरू हो गया है। बताया जा रहा है कि इस बार ट्रेनों को कैंसल करने के बजाय फेरों को कैंसल करने की तैयारी है। इस प्लान के तहत राजधानी, शताब्दी ट्रेनों के फेरों को भी कैंसल किया जाएगा। जल्द ही रेलवे की ओर से पब्लिक नोटिस जारी किया जा सकता है। रेलवे का मानना है कि इससे ट्रैक पर ट्रेनों का दबाव कम होगा, वहीं ज्यादा ट्रेनों को कैंसल करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अगर फॉग काफी दिनों तक नहीं रहा तो फेरों को बहाल कर दिया जा सकता है।

18 घंटे देरी से चलाई जा रही ट्रेन
बुधवार को छाए घने कोहरे के कारण का सबसे ज्यादा असर रेल परिचालन पर पड़ा है। कोहरे की वजह से कई ट्रेनें घंटों देरी से चल रही हैं। सुबह 11 बजे तक के अपडेट के अनुसार तूफान एक्सप्रेस 18 घंटे, शहीद एक्सप्रेस 13 घंटे, पूर्वा एक्सप्रेस 8 घंटे, वैशाली एक्सप्रेस 7 घंटे, सिक्कम महानंदा एक्सप्रेस 12 घंटे, पटना राजधानी 5 घंटे और मुंबई राजधानी 2 घंटे की देरी से चल रही है। लोकल ट्रेनों की बात करें तो ये ट्रेनें भी 1 से 2 घंटे की देरी से चल रही हैं। ऐसे में यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

पटाखे वाला सिस्टम
कोहरे की वजह से रेलवे पटाखा सिस्टम का भी इस्तेमाल कर रहा है। इसमें स्टेशन एरिया के सिग्नल से 180 मीटर की दूरी पर ट्रैक और स्लीपर के बीच पटाखे फिट किए जाते हैं। जैसे ही ट्रेन उस पर से गुजरती है, पटाखे की आवाज आती है। इससे ड्राइवर को पता चल जाता है कि आगे सिग्नल है और वह उसी हिसाब से अपनी रफ्तार को बदल देता है।

रेलवे के द्वारा किया है यह उपाय...
विभागीय सूत्रों के अनुसार , बुधवार को ही रेलवे बोर्ड में अधिकारियों की बैठक बुलाई गई। नई व्यवस्था के लिए जोनल रेलवे से उन ट्रेनों से जुड़े आंकड़े मांगे गए हैं, जिनमें यात्रियों की अधिक भीड़ होती है। कोशिश होगी कि पब्लिक डिमांड वाली ट्रेनें रद्द करने के बजाय उनके फेरे घटाएं। डेली एक्सप्रेस व सुपरफास्ट ट्रेनें रद्द करने के बजाय हफ्ते में पांच से छह दिन चलाई जा सकती हैं।

फ्लाइ‌ट्स पर भी पड सकता है बुरा असर
कोहरे की वजह से ट्रेन ही नहीं फ्लाइट्स की भी रफ्तार रुक गई है। विभिन्न शहरों से दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पहुंचने वाली फ्लाइट्स घंटो देरी से चल रही हैं। अब तक दिल्ली आने वाली कुल 13 फ्लाइट्स को डायवर्ट किया जा चुकी है जबकि 6 से अधिक फ्लाइटस देरी से पहुंची। जयपुर से आने वाली फ्लाइट 2 घंटे 20 मिनट, अमृतसर से आने वाली 34 मिनट, चेन्नै से आने वाली 50 मिनट, मुंबई से आने वाली 40 मिनट और राजकोट से आने वाली फ्लाइट 1 घंटे 15 मिनट की देरी से चली।

यह भी पढ़े: यहां पर हवाई सफर से भी महंगा है बैलगाड़ी का किराया!

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े: ये लड़की बिलकुल सामान्य थी 10 साल तक और अब..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

Watch Video

More From national

Recommended