छह पैसे मजबूत होकर 64.27 रुपए प्रति डॉलर पर हुआ बंद नवरात्र के मौके पर जगमगा उठे माता मंदिर, इस अवसर पर पीएम मोदी और सीएम योगी 9 दिन का रखेंगे उपवास भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरा मैच आज 1.30 बजे से होगा प्रसारित अरविंद केजरीवाल चेन्नई दौरे पर, कमल हासन से आज करेंगे मुलाकात 'केदारनाथ' की शूटिंग के लिए सारा अली खान के नखरे देख आप भी रह जाएंगे हैरान नवरात्रि 2017: आज से शारदीय नवरात्र प्रारंभ, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा एवं कलश स्थापना विधि (गुरुवार, 21 सितंबर) एक झलक पेट्रोल-डीजल के दामों पर US में राहुल गांधी ने एक बार फिर बेरोजगारी और सांप्रदायिकता के मुद्दे को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना राशिफल : 21 सितंबर : कैसा रहेगा आपके लिए गुरुवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें देश और दुनिया के इतिहास में 21 सितंबर की महत्वपूर्ण घटनाएं आंखो की रौशनी को कमज़ोर होने से बचाता है केला किसी कार्य को करते समय जल्दी थक जाने का ये हो सकता है कारण... चावल से जुड़े ये तथ्य जानकर हैरान रह जायेंगे आप स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होता है लाल चंदन हमें कई तरह की बीमारियों से बचाता है नारियल तेल बेटा मां से रोज करता था बलात्कार, मां ने दूसरे बेटे से करवा दिया कत्ल इंटरव्यू के समय इन बातों का रखें ध्यान शिविर में 126 मरीजों का स्वास्थ्य जांचा एशियाई शेरनी महक का ऑपरेशन के बाद स्वास्थ्य में आया सुधार मंत्रिमंडल ने दंतचिकित्‍सक विधेयक, 2017 को दी मंजूरी
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में एंटी रैबीज इंजेक्शन का टोटा
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 06:15:09 AM
1 of 1

सीतापुर। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में एंटी रैबीज इंजेक्शन का टोटा है। हालत यह है कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी जिला मुख्यालय पर इंजेक्शन आने की बात कह रहे हैं, जबकि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर इंजेक्शन नहीं मिल रहे हैं। नतीजतन पूरे जिले के मरीजों की भीड़ जिला अस्पताल में उमड़ रही है। 

लोगों को इलाज के लिए दौड़ न लगानी पड़े। इसलिए जिला व महिला अस्पताल के अलावा जिले में 20 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और 61 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं। सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मौजूद जरूर हैं, लेकिन वहां पर लोगों को उचित इलाज नहीं मिल पा रहा है। इन दिनों जिन लोगों को कुत्ता, बिल्ली, बंदर व सियार जैसे जानवर काट रहे हैं, उन्हें अपने क्षेत्र के प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर इलाज नहीं मिल पा रहा है। नतीजा ऐसे मरीजों को जिला अस्पताल की दौड़ लगानी पड़ रही है। 

रेउसा में नहीं मिल रहा इलाज
रेउसा जिला मुख्यालय से करीब 62 किलोमीटर दूर है। भज्जा पुरवा निवासी बलिराम व नन्हकू का कहना है कि उनका गांव रेउसा कस्बे से 12 किलोमीटर दूर है। दस दिन पहले कुत्ते ने काटा था। तब से लगातार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का चक्कर काट रहे हैं, लेकिन एंटी रैबीज इंजेक्शन नहीं लग सका। जिला अस्पताल गांव से 74 किलोमीटर दूर है। ऐसे में आने-जाने में 100 रुपये खर्च हो जाएंगे। इसी तरह से इस क्षेत्र के अन्य मरीजों ने भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर इंजेक्शन मौजूद न होने की बात कही।

कमलापुर में भी नहीं इंजेक्शन
कमलापुर में बने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भी एंटी रैबीज के इंजेक्शन नहीं हैं। इस क्षेत्र के ग्राम जगदीशपुर निवासी पहाड़ी लाल, पिपरी निवासी सोमवारी लाल व छजन निवासी मुल्लू कहते हैं कि उन लोगों को कुत्ते ने काटा था। बीत एक सप्ताह से अधिक समय से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का चक्कर काट रहे हैं। हर बार यही कहा जाता है कि स्वास्थ्य केंद्र पर इंजेक्शन नहीं है। ऐसे में दो ही विकल्प बचे हैं, या तो प्राइवेट चिकित्सक से इलाज कराएं, या फिर जिला अस्पताल जाकर इंजेक्शन लगवाएं।

सांडा क्षेत्र के मरीज परेशान
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सांडा क्षेत्र के ग्रामीण परेशान हैं। इस क्षेत्र के ग्राम गोड़ियन पुरवा ताहपुर निवासी रघुवर निषाद व लहसड़ा निवासी मंगू जायसवाल आदि का कहना है कि यहां का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिर्फ दिखावा ही है। दोनों का कहना है कि एक सप्ताह पूर्व कुत्ते ने काटा था, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र इंजेक्शन लगवाने गए थे, लेकिन वहां बताया गया कि इंजेक्शन मौजूद ही नहीं है। ऐसे में इंजेक्शन आने का इंतजार किया जा रहा है। जाने कब इंजेक्शन आएंगे और न जाने कब उसकी सुविधा लोगों को उपलब्ध होगी। 

मौजूद हैं पर्याप्त इंजेक्शन
एंटी रैबीज इंजेक्शन जिला मुख्यालय पर उपलब्ध हैं। जिन स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षकों ने इंजेक्शन का उठान नहीं किया है, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। मरीजों को इंजेक्शन का लाभ दिया जाएगा।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.