अब एक और स्टार किड बॉलीवुड में एंट्री करने को तैयार, शेयर की फोटोज चुनाव चिन्ह "दो पत्तियां " हुआ AIADMK का, शशिकला गुट कर सकता है केस फाइल UP: बागपत में 3 मौलवियों की दबंगो ने की जमकर धुनाई, चलती ट्रैन से फेंका बाहर हौंडा एक्टिवा की बिक्री में भारी इजाफा, बेच दिए इतने लाख मॉडल जॉर्जिया: पुलिस अभियान में तीन संदिग्ध आतंकी ढेर कोटा नगर निगम ने लगाया बाहरी छात्रों पर ये टैक्स! कभी ख़ुशी... की ‘पू’ अब दिखती है इतनी हॉट, इस एक्टर के साथ करेंगी डेब्यू बिना स्मार्टफोन के बुक होगी कैब, जानिए किसी बॉलीवुड एक्ट्रेस से कम नहीं है क्रिकेटर हार्दिक पंड्या की होने वाली भाभी, देखें तस्वीरें पत्रकार की हत्‍या मामले में अखबारों ने संपादकीय पेज पर छोड़ी खाली जगह J&K: पथराव के मामले में पहली बार सरकार ने उठाया ये कदम अर्जुन तेंदुलकर का कूच बिहार ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन, झटके पांच विकेट 'पद्मावती' को ब्रिटिश सेंसर बोर्ड ने दिखाई हरी झंडी, 1 दिसंबर को होंगी रिलीज VIDEO: 'एंटरटेनमेंट की रात' में मौनी रॉय ने कुछ इस अंदाज में किया डांस महिला की जगह दे दी पुरुष की बॉडी, क्रिया क्रम के दौरान हुआ खुलासा PICS: जीवनसंगिनी को लाने के लिए घोड़ी पर सवार हुए भुवनेश्वर कुमार विवाह बंधन में बंधे जहीर-सागरिका, सामने आई पहली तस्वीर राय लक्ष्मी का 'जूली 2' से एक जबरदस्त इंटीमेट सीन हुआ लीक इस औरत को पिछले एक माह में 5 बार काट चुके है सांप CM योगी के इकलौते मुस्लिम मंत्री मोहसिन रजा का निकाह पंजीकरण हुआ रद्द
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में एंटी रैबीज इंजेक्शन का टोटा
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 06:15:09 AM
1 of 1

सीतापुर। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में एंटी रैबीज इंजेक्शन का टोटा है। हालत यह है कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी जिला मुख्यालय पर इंजेक्शन आने की बात कह रहे हैं, जबकि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर इंजेक्शन नहीं मिल रहे हैं। नतीजतन पूरे जिले के मरीजों की भीड़ जिला अस्पताल में उमड़ रही है। 

लोगों को इलाज के लिए दौड़ न लगानी पड़े। इसलिए जिला व महिला अस्पताल के अलावा जिले में 20 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और 61 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं। सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मौजूद जरूर हैं, लेकिन वहां पर लोगों को उचित इलाज नहीं मिल पा रहा है। इन दिनों जिन लोगों को कुत्ता, बिल्ली, बंदर व सियार जैसे जानवर काट रहे हैं, उन्हें अपने क्षेत्र के प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर इलाज नहीं मिल पा रहा है। नतीजा ऐसे मरीजों को जिला अस्पताल की दौड़ लगानी पड़ रही है। 

रेउसा में नहीं मिल रहा इलाज
रेउसा जिला मुख्यालय से करीब 62 किलोमीटर दूर है। भज्जा पुरवा निवासी बलिराम व नन्हकू का कहना है कि उनका गांव रेउसा कस्बे से 12 किलोमीटर दूर है। दस दिन पहले कुत्ते ने काटा था। तब से लगातार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का चक्कर काट रहे हैं, लेकिन एंटी रैबीज इंजेक्शन नहीं लग सका। जिला अस्पताल गांव से 74 किलोमीटर दूर है। ऐसे में आने-जाने में 100 रुपये खर्च हो जाएंगे। इसी तरह से इस क्षेत्र के अन्य मरीजों ने भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर इंजेक्शन मौजूद न होने की बात कही।

कमलापुर में भी नहीं इंजेक्शन
कमलापुर में बने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भी एंटी रैबीज के इंजेक्शन नहीं हैं। इस क्षेत्र के ग्राम जगदीशपुर निवासी पहाड़ी लाल, पिपरी निवासी सोमवारी लाल व छजन निवासी मुल्लू कहते हैं कि उन लोगों को कुत्ते ने काटा था। बीत एक सप्ताह से अधिक समय से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का चक्कर काट रहे हैं। हर बार यही कहा जाता है कि स्वास्थ्य केंद्र पर इंजेक्शन नहीं है। ऐसे में दो ही विकल्प बचे हैं, या तो प्राइवेट चिकित्सक से इलाज कराएं, या फिर जिला अस्पताल जाकर इंजेक्शन लगवाएं।

सांडा क्षेत्र के मरीज परेशान
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सांडा क्षेत्र के ग्रामीण परेशान हैं। इस क्षेत्र के ग्राम गोड़ियन पुरवा ताहपुर निवासी रघुवर निषाद व लहसड़ा निवासी मंगू जायसवाल आदि का कहना है कि यहां का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिर्फ दिखावा ही है। दोनों का कहना है कि एक सप्ताह पूर्व कुत्ते ने काटा था, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र इंजेक्शन लगवाने गए थे, लेकिन वहां बताया गया कि इंजेक्शन मौजूद ही नहीं है। ऐसे में इंजेक्शन आने का इंतजार किया जा रहा है। जाने कब इंजेक्शन आएंगे और न जाने कब उसकी सुविधा लोगों को उपलब्ध होगी। 

मौजूद हैं पर्याप्त इंजेक्शन
एंटी रैबीज इंजेक्शन जिला मुख्यालय पर उपलब्ध हैं। जिन स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षकों ने इंजेक्शन का उठान नहीं किया है, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। मरीजों को इंजेक्शन का लाभ दिया जाएगा।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.