loading...
LIVE IPL-10 DD VS KXIP: पहले ओवर की लास्ट बॉल पर बिलिंग्स (0) रन पर हुये आउट, संजू सेमसन भीं आउट, तीन ओवर में बनाये सात रन नई करेंसी प्रिंटिंग को लेकर नहीं थम रहे मामले, 500 के नोट पर नहीं मिले गांधीजी रायपुर : अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक आर.के. विज ने सीसीटीएनएस योजना की समीक्षा देश में एक साथ चुनाव करवाना कितना फायदेमंद हो सकता है ? कैटरीना ने खोला राज, 'चिकनी चमेली' से क्यों शरमा रहे थे संजय दत्त! स्वतंत्रता सेनानी लक्ष्मीनारायण झरवाल की पार्थिव देह पंचतत्व में विलीन नौ लाख कम्पनिया नहीं दे रही है सालाना रिटर्न का ब्यौरा : हसमुख अधिया प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: अरहर और मक्का फसल का होगा बीमा किसानों को राहत IPL-10 DD VS KXIP: किंग्स इलेवन पंजाब ने टॉस जीतकर किया बॉलिंग का फैसला, दिल्ली चायेगी प्रीति जिंटा के शेरो को रोकना जन-जागरूकता का प्रयास जरूरी आईवान ग्रेगरी मैन बने उत्तराखंड विधानसभा के एंग्लो इंडियन सदस्य Video: पहली नजर में हुआ प्यार और कर ली शादी, ऐसा है ये कपल! जानिए, कैसे रिकॉर्ड करे अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन की स्क्रीन जुड़वा 2 के लिए जैकलिन ने अपनाया नया अवतार लोकसभा-विधानसभा चुनाव एक साथ करवाने के पक्ष में नीति आयोग 'द कपिल शर्मा शो' में दिखेगा सुमोना का ग्लैमरस अवतार IPL के अगले सीजन में खेलेगी राजस्थान रॉयल्स और चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम ...तो इसलिए छोड़ा श्रीजीता ने ब्वायफ्रैंड को अगले 2 साल में 10 लाख घर देगा ईपीएफओ Video: 'बेवॉच' के तीसरे ट्रेलर में दिखा प्रियंका का Action Look
बौद्ध कला का प्रमाण हैं 2,200 वर्ष पुरानी कान्हेरी गुफाएं
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 03:10:51 PM
1 of 1

मुम्बई विश्व में पर्यटन के लिए भी विश्व विख्यात है। यहां दूर-दूर से लोग घूमने आते हैं। मुम्बई एवं आस-पास कई ऐसे पर्यटन स्थल हैं जहां हम कम बजट और कम समय में छुट्टियों का आनंद उठा सकते हैं। ऐसा ही एक पर्यटन स्थल है मुम्बई महानगर के पश्चिमी क्षेत्र में स्थित कान्हेरी गुफाएं। बोरीवली के उत्तर में संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान के परिसर में स्थित कान्हेरी गुफाओं को देश की 15 रहस्यमयी गुफाओं में शुमार किया जाता है। संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान के मुख्य द्वार से कान्हेरी लगभग 6 किलोमीटर अंदर जंगल में स्थित है। प्रदूषण से जहरीली हो चुकी मुम्बई के वातावरण से यहां के घने और हरे भरे जंगल की प्रदूषण मुक्त हवा और दृश्यावली बेहद आनंदपूर्ण प्रतीत होती है।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

 
यह भारत की गुफाओं में विशालतम है क्योंकि यहां गुफाओं की संख्या अजंता और एलोरा से अधिक है। कान्हेरी में कुल 110 गुफाएं हैं। कहीं-कहीं ये संख्या 109 बताई जाती है। ये सभी बौद्ध गुफाएं हैं। यहां स्थित 3, 11, 34, 41, 67 और 87 गुफाएं बेहद महत्वपूर्ण हैं। वैसे गुफाएं दर्शनीय है। कान्हेरी गुफाओं का निर्माण ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी से 11वीं शताब्दी के बीच हुआ है। अर्थात 2200 साल से ज्यादा पुरानी हैं इन गुफाओं की कलाकृतियां। ये गुफाएं बौद्ध कला दर्शाती हैं। कान्हेरी शब्द कृष्णगिरि यानी काला पर्वत से निकला है। इन्हें बड़े-बड़े बैसाल्ट की चट्टानों से बनाया गया है। मराठी में इन्हें कान्हेरी लेणी कहते हैं।

 
वर्षों पूर्व सतवाहन राजवंश के पदचिन्हों के अध्ययन में कान्हेरी, नानेघाट और नासिक (पांडव लेणी) गुफाओं में उपलब्ध शिलालेखों की जानकारी सामने आई है। भारतीय पुरात्व सर्वेक्षण विभाग की नजर इन गुफाओं पर काफी देर से पड़ी। कान्हेरी को 26 मई 2009 को राष्ट्रीय महत्व का स्मारक घोषित किया गया। गुफाओं की कई बुद्ध मूर्तियां खंडित हो गई हैं। पर इसके बावजूद इनका सौंदर्य महसूस किया जा सकता है। ज्यादातर बुद्ध मूर्तियां खड़ी अवस्था में हैं। माना जाता है कि कान्हेरी बौद्ध शिक्षा के अध्ययन का बड़ा केंद्र हुआ करता था। जो सामान्य गुफाएं हैं वे हीनयान संप्रदाय की मानी जाती हैं, जबकि अलंकरण वाली गुफाएं महायान सम्प्रदाय की हैं।
 

कान्हेरी में सबसे ऊंची बुद्ध मूर्ती 25 फुट की है। कुछ गुफाओं तक पहुंचने के लिए चट्टानों को काट कर सीढिय़ां भी बनाई गई हैं। पहाड़ी रास्ते पर चढ़ाई करते समय सुंदर जलधारा भी दिखाई देती है। सभी गुफाओं पर नंबर अंकित किए गए हैं इसलिए घूमने में कोई दिक्कत नहीं आती। बारिश के दिनों में यहां पहाड़ों से कई जल स्रोत निकलते हैं। ऊपर चढ़ते वक्त वर्षा का पानी चट्टानों से कल-कल करता नीचे की ओर प्रवाहित होता दिखाई देता है जोकि बेहद मनमोहक लगता है। इस पानी को जल कुंडों में संगृहीत किए जाने की व्यवस्था भी यहां मौजूद है। वैसे कान्हेरी में सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक रहा जा सकता है। सबसे ऊपर समतल पठार है जहां मृत बौद्ध भिक्षुओं का दाह संस्कार किया जाता था। वहां कई छोटे-बड़े, कच्चे-पक्के ईंटों से निर्मित स्तूप भी बने हुए हैं।

 
बस और साइकिल सेवा: 
यहां दो बसें सेवा में हैं। मुख्य द्वार से गुफा तक के लिए बस सेवा चलती है। आपके पास निजी वाहन है तो प्रवेश टिकट देने के बाद निजी वाहन से भी जा सकते हैं। बस वन विभाग चलाता है। पर ये मिनी बस भरने पर ही चलती है। यहां दो बसें सेवा में हैं। यहां साइकिल किराए पर लेकर भी कान्हेरी के प्रवेश द्वार तक जाया जा सकता है। कान्हेरी के प्रवेश द्वार के पास एक कैंटीन भी है। यहां आप नाश्ता, चाय काफी आदि ले सकते हैं। लेणयाद्रि की गुफाओं की तरह यहां बड़ी संख्या में बंदर भी हैं। उनसे सावधान रहना चाहिए।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.