loading...
loading...
loading...
टैंपो मे जा रही लड़की के साथ अपराधियों ने किया कुछ ऐसा, जानिए... आज ही के दिन वेस्टइंडीज को हराकर वर्ल्ड चैंपियन बना था भारत सुनील ग्रोवर की प्रशंसा में सलमान ने कही ये बड़ी बात US में प्रधानमंत्री के सामने उठाया जाएगा साइबर कानून का मुद्दा PM मोदी ने 'मन की बात' में रथ यात्रा और रमजान की शुभकामनाएं दीं रिकांगपिओ में आत्महत्या मामले में SP शिमला DW नेगी की बढ़ेगी मुश्किलें ...तो इस तरह मारा गया कुख्यात बदमाश आनंदपाल काजोल और धनुष को 'एक साथ- एक ही फिल्म' में देखना सबसे बड़ी बात: सौंदर्य रजनीकांत अपनी पारी के इंतजार में कुछ ऐसा कर रही थीं कैप्‍टन मिताली राज Airtel दे रहा है अपने पोस्टपेड यूजर्स को 30 GB 4जी डेटा फ्री एक छोटी से गलती ने लेली जुनैद की जान, अल्लाह- ऐसा और किसी के साथ ना हो कंम्पनियों के नाम पर ठगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार B'day Special: करिश्मा कपूर के जन्मदिन पर जानिए, इनसे जुडी कुछ दिलचस्प बातें पाकिस्तान: तेल के टैंकर में आग लगने से 100 लोगों की झुलसकर मौत बागवानी मिशन के तहत केन्द्र ने 109.29 करोड़ रुपए की वार्षिक कार्ययोजना को दी मंजूरी 'श्वेत पत्र' जारी कर योगी सरकार विपक्ष पर साधेगी निशाना इस तरह से बनाये ब्रेड डोसा PM मोदी आज 'मन की बात' कार्यक्रम के जरिए लोगो को करेंगे संबोधित ऑनलाइन फर्जी साइट से नौकरी के नाम पर ठगी, मामला दर्ज मस्जिद से चोरी चिट्ठी में लिखा, यह मेरे और अल्लाह के बीच की बात है
नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 03:27:09 PM
1 of 1

नई दिल्ली। क्या आपने कभी सोचा है कि जब हमारी नाक एक है पर उसमें दो छेद क्यों होते हैं। सूंघने की क्षमता और इस प्रोसेस को समझने के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च की है। इस स्टडी में उन्होंने पाया कि पूरे दिन हमारे दोनों नासिका छिद्रों में से एक नासिका छिद्र दूसरे की तुलना में बेहतर और ज्यादा तेजी से सांस लेता है। 

रोजाना दोनों नासिका छिद्रों की यह क्षमता बदलती रहती है। यानी हमेशा दो नासिका छिद्रों में से कोई एक नासिका छिद्र बेहतर होता है तो एक थोड़ा कम सांस खींचता है। सांस खींचने की यह दो क्षमताएं हमारे जीवन के लिए बेहद जरूरी हैं। नाक के यह दो नासिका छिद्र ही हैं जो हमें ज्यादा से ज्यादा चीजों की गंध को समझने में मदद करते हैं। 

इन दो नासिका छिद्रों की वजह से ही आप नई गंधों को भी पहचान पाते हैं। आपकी नाक इतनी समझदार है कि यह आपको रोज-रोज की गंधों का एहसास देकर परेशान नहीं करती। इसे न्यूरल अडॉप्टेशन यानी तंत्रिका अनुकूलन कहते हैं। हमारी नाक ऐसी गंधों के प्रति उदासीन हो जाती है जिन्हें हम प्रतिदिन सूंघते हैं। हमारी नाक उन गंधों की पहचान तुरंत कराती है जो हमारे लिए नई होती है।

यह  भी पढ़े : अनोखा पार्क- यहां आप ''न्यूड'' घूम सकते है।

यह भी पढ़े : पिता जमीन पर और माँ-बेटे बेड पर कर रहे थे रोमांस...पिता ने उठकर देखा तो

यह भी पढ़े: यहां दुल्हन उधार मांगकर पहनती है पुराने अंडरगारमेंट्स 

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.