इन पोषक तत्वों को डाइट में शामिल कर बढ़ाएं नाखूनों की खूबसूरती सुबह जल्दी उठने से होते है कुछ बेहतरीन फायदे, जानिए... पापों का नाश कर धर्म की रक्षा करते हैं भगवान बेसन से बने फेसपैक से निखरे अपनी त्वचा शिखर ने जड़ी सबसे तेज सेंचुरी, गांगुली को पछाड़ कोहली ऊपर 2 साल के बेटे के साथ बाप ने भी खाया जहर गंभीर का बयान, कहा- दिग्गज युवी की टीम में वापसी मुश्किल प्रेमी की बाहों में पत्नी को निर्वस्‍त्र देखकर, दोनों को गोली मारकर की हत्या टी-90 टैंकों को तीसरी पीढ़ी की मिसाइल प्रणाली से लैस कर और सक्षम बनाने की परियोजना दोस्त की पत्नी से संबंद बनाना पड़ा महंगा, गवाई जान रोहित शर्मा हुए अनोखे अंदाज में रन आउट, हर कोई हैरान अवैध हथियार बनाने की फैक्ट्री पर मारा छापा, आरोपी हुआ गिरफ्तार IGI एयरपोर्ट पर एक महिला के पास से 38 लाख रुपये की विदेशी करेंसी जब्त राजनाथ सिंह ने लखनऊ में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी के कार्यालय व आवास परिसर का किया उद्घाटन बर्मिंघम टेस्ट में इंग्लैंड की रिकॉर्ड जीत, वेस्टइंडीज को पारी व 209 से हराया अप्रैल में नहीं जनवरी में ही रिलीज होगी रजनीकांत-अक्षय की 2.0 सुख का खजाना LIVE INDvsSL: भारत ने श्रीलंका को 9 विकेट से रौंदा, धवन (132) और कोहली (82) रन की पारी खेली शाहिद कपूर ने की अपनी सेक्सी टॉपलेस फोटो शेयर LIVE INDvsSL: धवन ने जड़ी 72 गेंदों पर सेंचुरी, कोहली का अर्धशतक, 150 रन की साझेदारी
नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 03:27:09 PM
1 of 1

नई दिल्ली। क्या आपने कभी सोचा है कि जब हमारी नाक एक है पर उसमें दो छेद क्यों होते हैं। सूंघने की क्षमता और इस प्रोसेस को समझने के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च की है। इस स्टडी में उन्होंने पाया कि पूरे दिन हमारे दोनों नासिका छिद्रों में से एक नासिका छिद्र दूसरे की तुलना में बेहतर और ज्यादा तेजी से सांस लेता है। 

रोजाना दोनों नासिका छिद्रों की यह क्षमता बदलती रहती है। यानी हमेशा दो नासिका छिद्रों में से कोई एक नासिका छिद्र बेहतर होता है तो एक थोड़ा कम सांस खींचता है। सांस खींचने की यह दो क्षमताएं हमारे जीवन के लिए बेहद जरूरी हैं। नाक के यह दो नासिका छिद्र ही हैं जो हमें ज्यादा से ज्यादा चीजों की गंध को समझने में मदद करते हैं। 

इन दो नासिका छिद्रों की वजह से ही आप नई गंधों को भी पहचान पाते हैं। आपकी नाक इतनी समझदार है कि यह आपको रोज-रोज की गंधों का एहसास देकर परेशान नहीं करती। इसे न्यूरल अडॉप्टेशन यानी तंत्रिका अनुकूलन कहते हैं। हमारी नाक ऐसी गंधों के प्रति उदासीन हो जाती है जिन्हें हम प्रतिदिन सूंघते हैं। हमारी नाक उन गंधों की पहचान तुरंत कराती है जो हमारे लिए नई होती है।

यह  भी पढ़े : अनोखा पार्क- यहां आप ''न्यूड'' घूम सकते है।

यह भी पढ़े : पिता जमीन पर और माँ-बेटे बेड पर कर रहे थे रोमांस...पिता ने उठकर देखा तो

यह भी पढ़े: यहां दुल्हन उधार मांगकर पहनती है पुराने अंडरगारमेंट्स 

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.