loading...
Healthy Tips: वजन कम करने के ये तरीके भूलकर भी ना अपनाएं, पढ़िए ताजा शोध! आज का राशिफल (28 मार्च 2017, मंगलवार) Tips: जानिए गर्मियों के दौरान तेज धूप में मुहांसों से बचने के आसान उपाय! Intex ने लॉन्च किया Aqua 4G mini हैंडसेट, जानें कीमत और खासियत! सर्दी में गर्म और गर्मी में ठंडा रहता हैं इस कुंड का पानी! पिंजरे में रहने को मजबूर यहाँ के लोग, जानें वजह! Hanging Temple: हवा में झूलते खम्भे पर टिका हैं यह मंदिर, जानें इतिहास! छत्तीसगढ़: 2 हजार साल पुराने शिवलिंग से आती हैं तुलसी के पत्तों की खुश्बू, जानें क्या कहते हैं विशेषज्ञ! Mystery: इस रहस्यमयी खजाने को पाने के चक्कर में कइयों ने गवाई जान! हाईटेक भिखारी: क्रेडिट और डेबिट कार्ड से भीख लेता हैं यह भिखारी! OMG: दो रुपये के पीछे हुई हाथापाई, वृद्ध ने गवाई जान! ‘कृत्रिम दिल’ की बदौलत 555 दिनों तक जीते रहे ब्रिटेन के लार्किन! गोलगप्पे का स्वाद बढ़ाने के लिए कर डाला ये हैरान कर देने वाला काम! OMG: TV का रिमोट चुराने पर हो गयी 22 साल की जेल! ये हैं भारत के 7 करोड़पति भिखारी, जानें रोज की कमाई? सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र के पुत्र रोहिताश्व ने करवाया था इस किले का निर्माण, दीवारों से खून.. जानें इतिहास भारत में मुस्लिम दूसरा सबसे बड़ा बहुसंख्यक: आजाद VIDEO: इस फिल्म में रॉ एजेंट की भूमिका निभायेंगे सुशांत सिंह डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती, 65 रुपये के स्तर पर आया केजरीवाल सरकार ने दिया था निगम का संपत्ति कर बढ़ाने का निर्देश : मनोज तिवारी
नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 03:27:09 PM
1 of 1

नई दिल्ली। क्या आपने कभी सोचा है कि जब हमारी नाक एक है पर उसमें दो छेद क्यों होते हैं। सूंघने की क्षमता और इस प्रोसेस को समझने के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च की है। इस स्टडी में उन्होंने पाया कि पूरे दिन हमारे दोनों नासिका छिद्रों में से एक नासिका छिद्र दूसरे की तुलना में बेहतर और ज्यादा तेजी से सांस लेता है। 

रोजाना दोनों नासिका छिद्रों की यह क्षमता बदलती रहती है। यानी हमेशा दो नासिका छिद्रों में से कोई एक नासिका छिद्र बेहतर होता है तो एक थोड़ा कम सांस खींचता है। सांस खींचने की यह दो क्षमताएं हमारे जीवन के लिए बेहद जरूरी हैं। नाक के यह दो नासिका छिद्र ही हैं जो हमें ज्यादा से ज्यादा चीजों की गंध को समझने में मदद करते हैं। 

इन दो नासिका छिद्रों की वजह से ही आप नई गंधों को भी पहचान पाते हैं। आपकी नाक इतनी समझदार है कि यह आपको रोज-रोज की गंधों का एहसास देकर परेशान नहीं करती। इसे न्यूरल अडॉप्टेशन यानी तंत्रिका अनुकूलन कहते हैं। हमारी नाक ऐसी गंधों के प्रति उदासीन हो जाती है जिन्हें हम प्रतिदिन सूंघते हैं। हमारी नाक उन गंधों की पहचान तुरंत कराती है जो हमारे लिए नई होती है।

यह  भी पढ़े : अनोखा पार्क- यहां आप ''न्यूड'' घूम सकते है।

यह भी पढ़े : पिता जमीन पर और माँ-बेटे बेड पर कर रहे थे रोमांस...पिता ने उठकर देखा तो

यह भी पढ़े: यहां दुल्हन उधार मांगकर पहनती है पुराने अंडरगारमेंट्स 

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.