पंजाब विस चुनाव के लिए कांग्रेस की पहली सूची जारी होने को लेकर अटकलें तेज Sanjeevni Today: Top Stories of 5pm संजीवनी टुडे स्पेशल ! ऐसी रोचक जानकारी जो कर देगी सोचने पर मजबूर... एक बार पढ़े SC ने यूनिटेक को दिया पैसे लौटाने का आदेश एस्टन कचर ने अपने बेटे के नाम रखा पोर्टवुड कचर ये फिल्म बनेगी तो सिर्फ रणबीर कपूर के साथ ही बनेग़ी: संजय गुप्ता इस इलाके में 28 साल बाद गुंजी बच्चे की किलकारी JEE MAIN 2017 के फॉर्म भरने के लिए जरुरी हुआ आधार कार्ड स्वदेशी युद्धक विमान तेजस 'ओवरवेट' होने के कारण रिजेक्ट बेहद अजीब ! 1 मिनट तक छोड़ दिया नोटों से भरे बंद कमरे में, अंत में हुआ ये हाल वीजा, साइबर सुरक्षा और निवेश पर भारत और कतर में समझौते इस गुफा में निवास करते है भगवान् शिव और एक शेषनाग, कई रहस्य है इसमें ... जाने आप भी ट्रम्प की टीम से मिलने के लिए दूत भेज रहा है PAK Yamaha ने बेहतरीन फीचर्स के साथ लॉन्च की YZF-R15 हक्कानी नेटवर्क अभी भी अमेरिकी सेना के लिए बड़ा खतरा: अमरीकी शीर्ष कमांडर भारत में जल्द लॉन्च होगा LG V20 स्मार्टफोन कोस्ट गार्ड में 140 वॉरशिप शामिल कर समुद्र की महाशक्ति बनेगी नौसेना चौथा टेस्ट मैच देखने के लिए स्टूडेंट्स को मिलेगा फ्री पास प्रीति जिंटा के मौसरे भाई ने की आत्महत्या मुरादाबाद में शनिवार को परिवर्तन रैली को संबोधित करेंगे PM मोदी
नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 03:27:09 PM
1 of 1

नई दिल्ली। क्या आपने कभी सोचा है कि जब हमारी नाक एक है पर उसमें दो छेद क्यों होते हैं। सूंघने की क्षमता और इस प्रोसेस को समझने के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च की है। इस स्टडी में उन्होंने पाया कि पूरे दिन हमारे दोनों नासिका छिद्रों में से एक नासिका छिद्र दूसरे की तुलना में बेहतर और ज्यादा तेजी से सांस लेता है। 

रोजाना दोनों नासिका छिद्रों की यह क्षमता बदलती रहती है। यानी हमेशा दो नासिका छिद्रों में से कोई एक नासिका छिद्र बेहतर होता है तो एक थोड़ा कम सांस खींचता है। सांस खींचने की यह दो क्षमताएं हमारे जीवन के लिए बेहद जरूरी हैं। नाक के यह दो नासिका छिद्र ही हैं जो हमें ज्यादा से ज्यादा चीजों की गंध को समझने में मदद करते हैं। 

इन दो नासिका छिद्रों की वजह से ही आप नई गंधों को भी पहचान पाते हैं। आपकी नाक इतनी समझदार है कि यह आपको रोज-रोज की गंधों का एहसास देकर परेशान नहीं करती। इसे न्यूरल अडॉप्टेशन यानी तंत्रिका अनुकूलन कहते हैं। हमारी नाक ऐसी गंधों के प्रति उदासीन हो जाती है जिन्हें हम प्रतिदिन सूंघते हैं। हमारी नाक उन गंधों की पहचान तुरंत कराती है जो हमारे लिए नई होती है।

यह  भी पढ़े : अनोखा पार्क- यहां आप ''न्यूड'' घूम सकते है।

यह भी पढ़े : पिता जमीन पर और माँ-बेटे बेड पर कर रहे थे रोमांस...पिता ने उठकर देखा तो

यह भी पढ़े: यहां दुल्हन उधार मांगकर पहनती है पुराने अंडरगारमेंट्स 

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.