अवैध हथियार रखने के मामले में एक और गिरफ्तार नई मेट्रो रेल नीति को मिली केंद्र सरकार से मंजूरी, करीब सात शहरों में मेट्रो रेल नेटवर्क जिम्बाब्वे के प्रेसिडेंट की पत्नी ग्रेस मुगाबे ने फोड़ा मॉडल का सिर, केस दर्ज कपिल शर्मा और नवजोत सिंह सिद्धू के झगडे की वजह बनी अर्चना! बेहद खतरनाक हैं प्लास्टिक बैग्स में पैक खाना, हो सकती है ये जानलेवा बीमारी! वित्त वर्ष में टाटा पावर की उत्पादन क्षमता में 13 फीसदी की बढोतरी पुलिस मुठभेड़ में पचास हजार ईनामी नितिन की मौत, 2 पुलिसकर्मी घायल ‘पहरेदार पिया की’ का BCCC ने बदला टाइम, अब इस समय होगा प्रसारित बिहार के सृजन घोटाले का मामला उच्च न्यायालय में पहुंचा 2019 तक LED इस्तेमाल करने वाला पहला देश बन सकता है भारत: पियुष गोयल गोरखपुर: BRD मेडिकल कॉलेज में 48 घंटों में हुई 34 और बच्चों की मौत 17 अगस्त राशिफल : जानिए कैसा रहेगा आपके लिए गुरुवार का दिन देश्‍ा और दुनिया के इतिहास में 17 अगस्‍त की महत्वपूर्ण घटनाएं मरीजों की सेवा करने में भी अपना योगदान देंगे स्वास्थ्य महकमे के कर्मचारी स्वास्थ्य केंद्र पर आठ माह से लटक हुआ है ताला सदर अस्पतालों में दवा और जांच की सुविधाओं का घोर अभाव प्रेग्नेंसी डर काे दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके शराब पीने से तबाह हो सकती है आपकी सेक्स लाइफ बार-बार जम्हाई आने के ये हो सकते है कारण AC में रहने की आदत आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक
अनोखा मंदिर: यहां पर बौद्ध भिक्षुओं के साथ बड़ी संख्या में रहते हैं बाघ
sanjeevnitoday.com | Saturday, August 12, 2017 | 11:27:26 AM
1 of 1

नई दिल्ली। थाईलैंड का "टाइगर टेंपल" एक ऐसा मंदिर है, जहां बौद्ध भिक्षुओं के साथ ब़डी संख्या में बाघ भी रहते हैं। कंचनबुरी प्रांत के साईयोक जिले में स्थित यह बौद्ध मंदिर दुनिया का एकमात्र "टाइगर टेंपल" है, जो लोकप्रियता की पराकाष्ठा पर होने के साथ विवादों में भी रहा है। 

 

खबरों के अनुसार, जंगली जानवरों के लिए वन्य मंदिर या अभयारण्य के रूप में 1994 में इसकी स्थापना की गई थी और 1999 में यहां बाघ का पहला बच्चा लाया गया था। यह बाघों के साथ-साथ गाय, भैंस, बकरियों, घोड़े, भालू, शेर, मोर, हिरणों की पांच प्रजातियों का भी निवास स्थल है, लेकिन इस मंदिर के आकर्षण का केंद्र केवल बाघ ही हैं। 

यह भी पढ़े: इस टीचर की खूबसूरती और फिटनेस को देख आप भी हो जाएंगे इनके दीवाने

वेबसाइट पर इन बाघों की नस्लों के बारे में हालांकि कोई सटीक जानकारी नहीं है, लेकिन अनुमान है कि यहां पाए जाने वाले बाघों में इंडोचाइनीज, बंगाल टाइगर और मलेशियाई टाइगर शामिल हैं। यहां बाघ के लाए जाने का भी रोचक किस्सा है। वर्ष 1999 में शिकारियों के डर से बाघ के बच्चे को मंदिर में लाया गया था। 

क्योंकि बाघ की मां पहले ही शिकारियों का निशाना बन चुकी थी। हालांकि बाघ का यह बच्चा ज्यादा दिनों तक जीवित नहीं रह सका। इस घटना के बाद से यहां शुरू हुआ बाघ शावकों को पालने का सिलसिला आज भी जारी है। आज यह मंदिर देश-विदेश से आए लाखों पयर्टकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। 

हर साल भारी तादाद में सैलानी यहां आकर इन बाघों को करीब से देखने और इनके साथ फोटो खिंचवाने के लिए लालायित रहते हैं। इन बाघों को बचपन से ही मनुष्यों के साथ घुलने-मिलने के उद्देश्य के साथ प्रशिक्षण दिया जाता है। थाईलैंड का नाम विश्व के प्रमुख पयर्टक देशों की सूची में शामिल है और टाइगर टेंपल की वजह से थाईलैंड में पर्यटकों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। 

पिछले 2 सालों से भारतीय पर्यटकों की संख्या भी यहां काफी बढ़ी है और इसकी वजह वैश्विक स्तर पर टाइगर टेंपल की बढ़ती लोकप्रियता है। यहां आने वाले पर्यटकों की सुरक्षा के लिए कड़े दिशानिर्देश भी जारी किए गए हैं। पयर्टकों को यहां लाल रंग के वस्त्र पहनकर आने पर पाबंदी है। मंदिर परिसर में शोर मचाना और भागदौड़ करना भी वर्जित है। 

यहां तक कि महिलाओं के छोटे कप़डे पहनकर आने पर भी प्रतिबंध है। वेबसाइट के अनुसार, इस मंदिर को दुनिया का सबसे विवादास्पद मंदिर भी कहा जाता है। मंदिर के बारे में कई नकारात्मक पहलू भी सामने आए हैं। मंदिर पर बाघों की तस्करी और इनके उत्पीड़न के आरोप भी लगते रहे हैं। 

यह भी आरोप लगता रहा है कि इन बाघों को पालतू बनाए रखने के लिए उन्हें नशीले पदार्थों का सेवन कराया जाता है। "केयर फॉर द वाइल्ड इंटरनेशनल" संस्था ने 2005 से 2008 के बीच एकत्रित की गई सूचनाओं के आधार पर दावा किया है कि मंदिर प्रबंधन लाओस में टाइगर फार्म के साथ अवैध रूप से बाघों का लेन-देन करता है। 

जानकारी के अनुसार, 2007 से लेकर अब तक बाघों के 21 से अधिक शावकों ने यहां जन्म लिया और 2011 से लेकर अब तक यहां बाघों की संख्या बढ़कर 90 से अधिक हो गई है। टाइगर टेंपल की ओर रूख कर रहे पयर्टक यहां बड़ी मात्रा में धनराशि भी खर्च कर रहे हैं। 

इस मंदिर में प्रवेश शुल्क 400 थाई बहात यानी लगभग 750 रुपए है, जबकि विदेशी सैलानियों को बाघों के साथ अपनी विशेष तस्वीर खिंचवाने के लिए अधिक धनराशि भी खर्च करनी पड़ सकती है। मंदिर प्रबंधकों के मुताबिक, पर्यटकों से एकत्रित की गई धनराशि का इस्तेमाल बाघों के रखरखाव और "टाइगर आईलैंड" के निर्माण पर खर्च किया जाता है। "टाइगर आईलैंड" के निर्माण के बाद वहां बाघों को स्थानांतरित करने की योजना है।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.