शरियत में दखलअंदाजी कर रहा सुप्रीम कोर्ट: दारुल उलूम BSE की 200 कंपनियों के कारोबार पर लगाई रोक बैडमिंटन: मिश्रित युगल में रंकीरेड्डी-मनीषा की जोड़ी दूसरे दौर में बाहर 14 साल छोटी लड़की के साथ शादी करेंगे 'दिया और बाती हम' के 'सूरज सा' आज बैंक रहें हड़ताल पर, 35 हजार करोड़ का लेनदेन ठप 200 CEO में बोले मोदी - 'न्यू इंडिया' के लिए एक सैनिक बने पुजारा-हरमनप्रीत सहित 17 खिलाड़ियों को करेंगे राष्ट्रपति अर्जुन अवार्ड से सम्मानित चुनावों में होता है ऐसा माहौल जिसके वजह से सामने आते है बागी वाड्रा के बीकानेर जमीन डील मामले की सीबीआई जांच, बोला कांग्रेस पर हमला सोहा ने योगा करते दिखाया अपना बेबी बंप, फैंस ने किया ऐसा कमेंट स्पॉन्सर नाइकी किट से नाखुश टीम इंडिया, BCCI से की शिकायत चीन में सितंबर से दौड़ेगी दुनिया की सबसे तेज बुलेट ट्रेन हिरण शिकार मामले की अगली सुनवाई 30 अगस्त को 'TripleTalaq': इस प्रथा का 35 साल पहले फिल्म के जरिये इस लेखिका ने किया था विरोध लाहौर में वर्ल्ड इलेवन की कमान संभाल सकते है अमला-फाफ डु प्लेसी पीएम मोदी: 9,500 से अधिक सड़क परियोजनाओं का करेंगे शुभारंभ ट्रिपल तलाक: SC के फैसले पर इन बॉलीवुड हस्तियों ने दिया अपना रिएक्शन तीन तलाक पर बोले आजम खां - धार्मिक आस्थाओं से खिलवाड़ न हो यदि प्रेमी से झगड़ा या गुस्सा हो तो कभी भी ना करें ऐसा...! BCCI से राजस्थान रॉयल्स ने नाम बदलने का किया आग्रह
आपस में जुड़ी पैदा हुई तीन बच्चियां, परिवार वालो ने छोड़ा लावारिस, फिर...
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 12:28:22 AM
1 of 1

बच्चे का जन्म माता-पिता के लिए खुशी का अवसर होता है. हालांकि इन बच्चों के नसीब में शायद परिवार का प्यार नहीं था. मैकी, मैकेंजी और मैडेलियन ट्रिपलेट्स हैं और इनके जन्म को डॉक्टर्स ने रेयरेस्ट बताया.

ऐसा इसलिए क्योंकि इनमें से दो बच्चियां आपस में जुड़ी हुई थीं, जबकि एक बच्ची स्वस्थ थी. इन्हें जन्म देने वाले मां-बाप इनकी देखभाल नहीं कर सकते थे, इसलिए उन्हें लावारिस छोड़ गए. तीनों बच्चियां अमेरिका के आयोवा में रहने वाले गैरिसन परिवार को दे दी गईं. जेफ और डार्ला गैरिसन के पहले से तीन बेटे थे, लेकिन उन्होंने तीनों बच्चियों को खुशी-खुशी अपना लिया.

गैरिसन परिवार ने न केवल तीनों बच्चियों को अपनाया, बल्कि जुड़ी हुई बच्चियों को अलग करने की सर्जरी भी करवाई. सितंबर 2013 में 9 महीने की उम्र में इन बच्चियों की सर्जरी की गई थी. यह सर्जरी 24 घंटे चली और बच्चियों को नई जिंदगी दी गई.

सर्जरी के बाद ये बच्चियां अलग तो हो गईं, लेकिन दोनों को ही एक एक पैर गंवाना पड़ा. डॉक्टर्स ने अब इन दोनों बच्चियों को एक-एक नकली पैर लगा दिया है. तीनों बच्चियों को गैरिसन परिवार ने कानूनी तौर से अपना लिया है. अब वो अपने छह बच्चों के साथ आयोवा के फार्म हाउस में रहते हैं.



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.