दीपावली के मौके पर हुए विशेष मुहूर्त कारोबार में गिरे सोने-चांदी के भाव दिल्ली में दिवाली के मौके पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश कीउड़ाई धज्जियां उड़ाई रिलायंस जियो का धन धना धन पैक हुआ महंगा 399 की जगह देने होंगे 459 राष्ट्रपति कोविंद ने दीपावली की पूर्व संध्या पर देशवासियों को दी बधाई वीडियो : PM मोदी ने सेना के जवानों के साथ मनायी दिवाली मैरिलैंड के बिजनेस पार्क में हुई गोलीबारी में एक संदिग्ध बंदूकधारी गिरफ्तार कंधार में सेना के कैंप पर तालिबान ने किया आत्मघाती हमला, भारत ने दी कड़ी प्रतिक्रिया भारत से हमारी ऐसी दोस्ती 100 साल तक चले : अमेरिका मंदिर में दिया जलाने गये बालक को जिंदा जलाया... ईपीएफओ ने यूएएन को ऑनलाईन से आधार जोड़ने की नई सुविधा दी इस कुत्तें की कीमत जानकर आपके उड़ जाएंगे होश भ्रष्टाचार केस : नवाज शरीफ और उनकी बेटी-दामाद पर आरोप तय, हो सकती है जेल पिछले 80 सालों से दुकान में बंद है दुल्हन का मोम का पुतला यहां मन्नत पूरी होने पर श्रद्धालु कराते हैं बेड़नियों का नाच भारत में ही नहीं विश्व के इन देशो में भी मनाया जाता है दिवाली की त्यौहार पुराने सेकंड हैंड सोफे ने बना दिया लखपति, जानिए कैसे? दीपावली विशेष : जानिए, मां लक्ष्मी और गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि इस्लामिक स्टेट ने चोर को दी ऐसी खौफनाक सजा, देखें फोटोज विद्युत एमनेस्टी योजना : 31 दिसम्बर तक बकाया राशि एकमुश्त जमा कराने पर ब्याज व पेनल्टी में छूट अब एक और बाबा पर लगा अवैध सम्बन्ध का आरोप, उठाया ये खौफनाक कदम...
आपस में जुड़ी पैदा हुई तीन बच्चियां, परिवार वालो ने छोड़ा लावारिस, फिर...
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 12:28:22 AM
1 of 1

बच्चे का जन्म माता-पिता के लिए खुशी का अवसर होता है. हालांकि इन बच्चों के नसीब में शायद परिवार का प्यार नहीं था. मैकी, मैकेंजी और मैडेलियन ट्रिपलेट्स हैं और इनके जन्म को डॉक्टर्स ने रेयरेस्ट बताया.

ऐसा इसलिए क्योंकि इनमें से दो बच्चियां आपस में जुड़ी हुई थीं, जबकि एक बच्ची स्वस्थ थी. इन्हें जन्म देने वाले मां-बाप इनकी देखभाल नहीं कर सकते थे, इसलिए उन्हें लावारिस छोड़ गए. तीनों बच्चियां अमेरिका के आयोवा में रहने वाले गैरिसन परिवार को दे दी गईं. जेफ और डार्ला गैरिसन के पहले से तीन बेटे थे, लेकिन उन्होंने तीनों बच्चियों को खुशी-खुशी अपना लिया.

गैरिसन परिवार ने न केवल तीनों बच्चियों को अपनाया, बल्कि जुड़ी हुई बच्चियों को अलग करने की सर्जरी भी करवाई. सितंबर 2013 में 9 महीने की उम्र में इन बच्चियों की सर्जरी की गई थी. यह सर्जरी 24 घंटे चली और बच्चियों को नई जिंदगी दी गई.

सर्जरी के बाद ये बच्चियां अलग तो हो गईं, लेकिन दोनों को ही एक एक पैर गंवाना पड़ा. डॉक्टर्स ने अब इन दोनों बच्चियों को एक-एक नकली पैर लगा दिया है. तीनों बच्चियों को गैरिसन परिवार ने कानूनी तौर से अपना लिया है. अब वो अपने छह बच्चों के साथ आयोवा के फार्म हाउस में रहते हैं.



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.