loading...
इतिहास के पन्नों से- आखिर क्यों भारत छोड़ने को उतारू थी ताकतवर प्रधानमंत्रियों में से एक इंदिरा गाँधी! आज का राशिफल (24 मार्च 2017, शुक्रवार) जानिए नवरात्रों में क्यों रखते हैं 9 दिन तक उपवास, क्या हैं महत्व! क्या कोलंबस ने ही की थी अमेरिका की खोज, जानिए क्या कहता हैं इतिहास! जानिए बाल छोटे क्यों रखते हैं सैनिक! शारीरिक संबंधों को बेहतर बनाने के लिए रात को तेज आवाज में सुने संगीत! LG ने भारत में लॉन्च किया Stylus 3, फीचर्स और कैमरा हैं खासियत Take a Selfie: दोस्तों के साथ सेल्फी लेने से बढ़ती हैं खुशियां! खौफनाक मंजर.. प्यार के लिए सिर झुकाकर खाई छड़ी से मार! दावा: इस तरीके से रेगिस्तान को बनाया जा सकता हैं उपजाऊ! जानिए मन में क्यों आते हैं अजीब विचार, क्या कहते थे सर आइंस्टीन? Amazing: इस मंदिर में जलाया जाता हैं घी की जगह पानी का दीपक! पीलिया पीड़ित मरीजों के लिए बेहतर इलाज हैं चींटी का डंक! सीएम योगी एक्शन का असर, प्रशासन चुस्त-दुरुस्त, कई विभागों से मचा हुआ हैं हड़कंप! अमेरिका की 271 अवैध लोगों की सूची को भारत ने किया अस्वीकार एक्सेल एंटरटेनमेंट फिल्म 'गोल्ड' में हॉकी कोच बनेंगे कुणाल एसवाईएल मुद्दे पर शुक्रवार को राजनाथ से मिलेगा हरियाणा का सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल पुलिस वाहन चालक की हत्या के मामले में दो गिरफ्तार सपा राज में बने आगरा-लख़नऊ एक्सप्रेस वे समेत सभी सड़कों की जांच कराएगी UP सरकार होमगार्ड के प्लाटून कमांडर को 3 हजार की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा
इस मंदिर के भगवान को लगता है चाउमीन, नूडल्स का भोग, जानिए ऐसा क्यों..?
sanjeevnitoday.com | Thursday, October 20, 2016 | 04:58:47 AM
1 of 1

कोलकत्ता : आपने मंदिर में देवी देवताओं को फूल, फल, मेवा और मिठाईओं का भोग लगते तो देखा होगा। लेकिन क्या आपने अभी तक चाऊमीन-नूडल्स का भोग लगते हुए देखा है। शायद नहीं देखा होगा। आज आपको एक ऐसे मंदिर के बारे मे बता रहे हैं जहां देवी मां को चाऊमीन-नूडल्स का भोग लगाया जाता है। यही नहीं भक्‍तों को भी यहां प्रसाद के रूप मे चाऊमीन-नूडल्स ही दिया जाता है। जी हां, हम बात कर रहे है कोलकाता के टंगरा इलाके में काली मां के मंदिर की जहां प्रसाद के रूप में चाऊमीन, नूडल्स और फ्राइड राइस भक्तों में बांटा जाता है। यह मंदिर दूर-दूर तक बहुत ही प्रसिद्ध है। मां को चाइनीज व्यंजन का भोग लगाया जाता है इसलिए इस मंदिर का नाम अब चाइनीज काली मां हो गया है। वहीं इस मंदिर में आने वाले भक्त माता को चीनी व्यंजन जिनमें नूडल्स, चॉप्सी, राइस और वेजिटेबल भी शामिल हैं, का भोग लगाते हैं।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

काली मां मंदिर के पीछे एक चीनी बच्चे का जुड़ाव...
 इस मंदिर की देखभाल 55 साल के इसोन चेन करते हैं। इस चाइनीज काली मां मंदिर के पीछे एक चीनी बच्चे का जुड़ाव भी है। दरअसल, पुजारी ने बताया कि इस मंदिर में काफी समय से बीमार चल रहे एक चीवी बच्चे को लाया गया। यहां आते ही उसकी बीमारी खत्म हो गई। जिसके बाद से ही चीनी लोगों का इस मंदिर पर काफी गहरा विश्वास हो गया। मंदिर की सबसे खास बात है कि यहां प्रणाम भी चीनी शैली में ही किया जाता है। हिंन्दू और चीनी सभ्यता के मेल का प्रतीक यह मंदिर देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र भी है। यह मंदिर 60 साल पुराना है। मंदिर में काली पूजा के दौरान काफी लोग मां के दर्शन के लिए आते हैं। इस मंदिर मे नवरात्रि और दीपावली के अवसर पर विशेष आरती का आयोजन होता है। जिसमे मंत्रोच्चारण और आरती हिंदू धर्म के अनुसार होती है।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : खुशियां बाँट रही फीमेल डॉक्टर.. न्यूड होकर करती है इलाज, मरीजों की लगी रहती हैं लंबी कतार !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.