एशियाई शेरनी महक का ऑपरेशन के बाद स्वास्थ्य में आया सुधार मंत्रिमंडल ने दंतचिकित्‍सक विधेयक, 2017 को दी मंजूरी म्‍यांमार नौसेना के कमांडर-इन-चीफ एडमिरल तिन आंग सैन का भारत आगमन एमपी की नम्रता को रजत पदक, भोपाल की संयोगिता को कांस्य से करना पड़ा संतोष अखिलेश यादव का योगी आदित्यनाथ पर पलटवार, श्वेत पत्र सफेद झूठ की किताब 14वीं बटालियन पर आतंकी हमला, एक हेड कास्टेबल शहीद 5 जवान घायल गृह मंत्री ने पाक विस्थापित हिन्दु नागरिकों को भारतीय नागरिकता प्रदान की प्रो कबड्डी 2017: यू मुम्बा को गुजरात ने दी 45-23 मात हार्दिक ने जब भगवान के दर्शन किये तो हाथ में से गिरी खाने की प्लेट राजस्थली राज्य सरकार के उपक्रम राजसिको का ट्रेडमार्क: मेघराज लोहिया हाईकोर्ट, ममता बनर्जी हिन्दू-मुस्लिम में दरार पैदा न कर VIDEO : मुंबई मे भारी बारिश से जन जीवन दिनचर्या को लगा ब्रेक सचिन और हरभजन सिंह सबसे पसंदीदा भारतीय क्रिकेटर: स्टीव स्मिथ 'बालिका वधू' की सांची ने टीवी पर वापसी करने के लिए कसरत की स्टार्ट प्रदेश में स्वाईन फ्लू नियंत्रण व उपचार हेतु व्यापक प्रयास जारी: कालीचरण सराफ प्रदेश मे शिक्षा विभाग कि ओर से पहली अभिभावक बैठक का आयोजन.. बिपाशा के पति करण लंदन में आये पोंछा लगाते हुए नजर ईडन गार्डन्स बारिश के बावजूद भी खेलने लायक: सौरव गांगुली विश्व पर्यटन दिवस 27 सितम्बर को, आमेर में होगा प्रवेश निःशुल्क राज. बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रतिनिधि मंडल की RPSC अध्यक्ष से हुई वार्ता, सौपा ज्ञापन
इस मंदिर के भगवान को लगता है चाउमीन, नूडल्स का भोग, जानिए ऐसा क्यों..?
sanjeevnitoday.com | Thursday, October 20, 2016 | 04:58:47 AM
1 of 1

कोलकत्ता : आपने मंदिर में देवी देवताओं को फूल, फल, मेवा और मिठाईओं का भोग लगते तो देखा होगा। लेकिन क्या आपने अभी तक चाऊमीन-नूडल्स का भोग लगते हुए देखा है। शायद नहीं देखा होगा। आज आपको एक ऐसे मंदिर के बारे मे बता रहे हैं जहां देवी मां को चाऊमीन-नूडल्स का भोग लगाया जाता है। यही नहीं भक्‍तों को भी यहां प्रसाद के रूप मे चाऊमीन-नूडल्स ही दिया जाता है। जी हां, हम बात कर रहे है कोलकाता के टंगरा इलाके में काली मां के मंदिर की जहां प्रसाद के रूप में चाऊमीन, नूडल्स और फ्राइड राइस भक्तों में बांटा जाता है। यह मंदिर दूर-दूर तक बहुत ही प्रसिद्ध है। मां को चाइनीज व्यंजन का भोग लगाया जाता है इसलिए इस मंदिर का नाम अब चाइनीज काली मां हो गया है। वहीं इस मंदिर में आने वाले भक्त माता को चीनी व्यंजन जिनमें नूडल्स, चॉप्सी, राइस और वेजिटेबल भी शामिल हैं, का भोग लगाते हैं।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

काली मां मंदिर के पीछे एक चीनी बच्चे का जुड़ाव...
 इस मंदिर की देखभाल 55 साल के इसोन चेन करते हैं। इस चाइनीज काली मां मंदिर के पीछे एक चीनी बच्चे का जुड़ाव भी है। दरअसल, पुजारी ने बताया कि इस मंदिर में काफी समय से बीमार चल रहे एक चीवी बच्चे को लाया गया। यहां आते ही उसकी बीमारी खत्म हो गई। जिसके बाद से ही चीनी लोगों का इस मंदिर पर काफी गहरा विश्वास हो गया। मंदिर की सबसे खास बात है कि यहां प्रणाम भी चीनी शैली में ही किया जाता है। हिंन्दू और चीनी सभ्यता के मेल का प्रतीक यह मंदिर देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र भी है। यह मंदिर 60 साल पुराना है। मंदिर में काली पूजा के दौरान काफी लोग मां के दर्शन के लिए आते हैं। इस मंदिर मे नवरात्रि और दीपावली के अवसर पर विशेष आरती का आयोजन होता है। जिसमे मंत्रोच्चारण और आरती हिंदू धर्म के अनुसार होती है।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : खुशियां बाँट रही फीमेल डॉक्टर.. न्यूड होकर करती है इलाज, मरीजों की लगी रहती हैं लंबी कतार !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.