शशिकला को संभालनी चाहिए अन्नाद्रमुक की कमान : पन्नीरसेल्वम HOCKEY: इंग्लैंड भी नही रोक सका भारत का विजयी अभियान, 5-3 से परास्त BIRTHDAY PARTY: स्टनिंग लुक में नजर आई नव्या पिस्टल दिखाकर महिला से मारपीट और गैंगरेप पर्रिकर ने मॉरीशस को पूर्ण सहयोग का दिया आश्वासन ऐसा क्या कारण था जो कटप्पा ने बाहुबली को मारा तेलंगाना में करीब 82 लाख रूपये के नए नोट जब्त पंजाब: बेरवाला गांव के जंगल में मिली मिसाइल,मचा हड़कंम एयर इंडिया फंसे यात्रियों को निकालने के लिए आज रात दो उड़ानें करेगी संचालित नहीं मिली एम्बुलेंस, मजबूरन हाथ रिक्शे से लाना पड़ा शव life Ok शो ‘बहू हमारी रजनीकांत’ बंद नहीं होगा भारत को तीन साल में मिलेगी राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप: वायुसेनाध्यक्ष खेल मंत्री ने सोनीपत में नए कुश्ती हाल का उद्घाटन किया.. नोटबंदी भ्रष्टाचार ख़त्म करने का अचूक हथियार: मोदी खरीददारी करने गयी महिला से छेड़छाड़, आरोपी फरार तेंदुए की कीमती खाल की तस्करी के आरोप में एक गिरफ्तार गुरदासपुर के छावनी इलाके में तलाशी अभियान 'ओके जानू' 13 जनवरी, 2017 को सिल्वर स्क्रीन पर होगी रिलीज स्पेशल टीम ने कुख्यात सूरज गिरोह के 9 गुर्गों को किया गिरफ्तार जम्मू कश्मीर में ले घूमने का मजा, सुरक्षा की चिंता न करें : महबूबा
कुछ इस तरह STORE होता है झूठ हमारे दिमाग में ...पढ़िए ये रोचक जानकारी
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 09:27:06 PM
1 of 1

नई दिल्ली। दिमाग कम्प्यूटर की हार्ड ड्राइव की तरह साधारण तरीके से जानकारी एकत्रित नहीं करता। तथ्य पहले हिप्पोकैम्पस, दिमाग में एक जगह, में एकत्रित करता है। परंतु जानकारी वहां नहीं रुकती। जब भी हम इसे याद करते हैं, हमारा दिमाग इसे फिर से लिखता है और इसी दौरान इसमें फिर से कुछ प्रक्रिया होती है। धीरे से तथ्य को सेरेब्रल कोर्टेक्स में पहुंचाया जाता है और उस मुद्दे से अलग किया जाता है जिसके साथ इसे स्टोर किया गया था। इस प्रक्रिया को सोर्स इमनेज़िया कहते हैं, इसके कारण लोग किसी बात के सही होने की स्थिति को भूल जाते हैं।

समय के साथ बुरी चीजे याद रखने से बुरे मिलते है परिणाम 
समय के साथ यह गलत याद रखना और बुरी स्थिति में पहुंचता है। एक गलत तथ्य से याद की गई बात, जिस पर पहले भरोसा नहीं किया गया था, धीरे-धीरे सही लगने लगती है। इस दौरान बात का सोर्स भूला दिया जाता है और मैसेज और उसके प्रभाव भारी होने लगते हैं। हमारे दिमाग ने कैसे जानकारी को इकट्ठा किया था इस तरीके पर भी जानकारी का याद रखा जाना निर्भर करता है। हम उस जानकारी को याद रखते हैं जो हमारे विचारों से मिलती है और उन जानकारियों को भूल जाते हैं जो कुछ अलग होती हैं। साइकोलॉजिस्टों का मानना है कि लोग हमारी भावनात्मक जगह पर ध्यान देते हैं। इसी तरह एक आइडिया फैलाया जाता है। 

यह भी पढ़े : सम्भोग के दौरान जोर से चिल्ला रही थी औरत, फिर पड़ोस की बुजुर्ग महिला ने पुलिस बुलाई फिर...

यह भी पढ़े : अनोखा मिजाज ! Lover रोज जिम के बाद पीता है अपनी गर्लफ्रेंड का दूध, गर्लफ्रेंड को आता है  मजा

यह भी पढ़े: इस रेलवे स्टेशन पर सबसे ज्यादा चलती है PORN MOVIE

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 


0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.