पंजाब विस चुनाव के लिए कांग्रेस की पहली सूची जारी होने को लेकर अटकलें तेज Sanjeevni Today: Top Stories of 5pm संजीवनी टुडे स्पेशल ! ऐसी रोचक जानकारी जो कर देगी सोचने पर मजबूर... एक बार पढ़े SC ने यूनिटेक को दिया पैसे लौटाने का आदेश एस्टन कचर ने अपने बेटे के नाम रखा पोर्टवुड कचर ये फिल्म बनेगी तो सिर्फ रणबीर कपूर के साथ ही बनेग़ी: संजय गुप्ता इस इलाके में 28 साल बाद गुंजी बच्चे की किलकारी JEE MAIN 2017 के फॉर्म भरने के लिए जरुरी हुआ आधार कार्ड स्वदेशी युद्धक विमान तेजस 'ओवरवेट' होने के कारण रिजेक्ट बेहद अजीब ! 1 मिनट तक छोड़ दिया नोटों से भरे बंद कमरे में, अंत में हुआ ये हाल वीजा, साइबर सुरक्षा और निवेश पर भारत और कतर में समझौते इस गुफा में निवास करते है भगवान् शिव और एक शेषनाग, कई रहस्य है इसमें ... जाने आप भी ट्रम्प की टीम से मिलने के लिए दूत भेज रहा है PAK Yamaha ने बेहतरीन फीचर्स के साथ लॉन्च की YZF-R15 हक्कानी नेटवर्क अभी भी अमेरिकी सेना के लिए बड़ा खतरा: अमरीकी शीर्ष कमांडर भारत में जल्द लॉन्च होगा LG V20 स्मार्टफोन कोस्ट गार्ड में 140 वॉरशिप शामिल कर समुद्र की महाशक्ति बनेगी नौसेना चौथा टेस्ट मैच देखने के लिए स्टूडेंट्स को मिलेगा फ्री पास प्रीति जिंटा के मौसरे भाई ने की आत्महत्या मुरादाबाद में शनिवार को परिवर्तन रैली को संबोधित करेंगे PM मोदी
तो क्या इसीलिए ही चूहा बना गणेश जी का वाहन ... आप भी जाने ये रोचक कहानी
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 07:21:58 PM
1 of 1

नई दिल्ली। देवों में सर्वप्रथम पूज्य गणेश जी का वाहन चूहा है। चूहा जिसे संस्कृत में मूषक कहते हैं, जो कि शारीरिक आकार में छोटा होता है। गणेश जी बुद्धि के देवता है तो चूहा को तर्क-वितर्क का प्रतीक माना गया है। चूहे में इसके अलावा और भी कई गुण होते हैं, यही कारण है कि गणेशजी ने चूहे को ही अपना वाहन चुना था।

 कलियुग में उनका वाहन घोड़ा
गणेश पुराण के अनुसार हर युग में गणेश जी का वाहन बदलता रहता है। सतयुग में गणेश जी का वाहन सिंह है। त्रेता युग में गणेश जी का वाहन मयूर है और वर्तमान युग यानी कलियुग में उनका वाहन घोड़ा है। चूहा द्वापर युग में उनका वाहन था। चूहा कैसे बना गणेश जी का वाहन? इस बारे में हमारे धर्मग्रंथों में एक पौराणिक कहानी का उल्लेख मिलता है। कहानी कुछ इस तरह है कि एक बार महर्षि पराशर अपने आश्रम में ध्यान अवस्था में थे। तभी वहां कई चूहे आए और उनका ध्यान भंग करने लगे। उन चूहों ने आश्रम को तहस-नहस कर दिया।

महर्षि पराशर का ध्यान भंग हो गया, वह यह सब कुछ देख रहे थे। वह इस समस्या के समाधान के लिए गणेश जी का स्मरण करने लगे। गणेश जी को जब महर्षि की समस्या के बारे में पता चला तो उन्‍होंने सभी चूहों को वहां से भगाने के लिए अपना पाश( रस्सी नुमा शस्त्र) फेंका। आश्रम में एक चूहा ऐसा था जो सबसे ज्यादा उत्पात मचा रहा था। पाश ने उस चूहे को बांधकर गणेशजी के सामने उपस्थित किया। विशालकाय रूप के गणेशजी को देख वह चूहा उनकी उपासना करने लगा। गणेश जी उस चूहे से कहा, अब तुम मेरी शरण में हो तुम जो चाहे मांग सकते हो। गणेश जी की बातों को सुन चूहे में अहंकार पैदा हो गया। उसने गणेश जी से कहा, मुझे आपसे कुछ नहीं चाहिए, यदि आपको कुछ चाहिए तो आप मुझसे मांग सकते हैं। गणेश जी उसकी बात सुनकर प्रसन्न हुए और चूहे से कहा, मूषक यदि तुम कुछ देना चाहते हो तो मेरे आजीवन वाहन बन जाओ।

चूहे ने स्वीकार कर लिया। जब गणेशजी, चूहे पर बैठे तो उसका शरीर, गणेशजी के वजन को सह नहीं पाया और उसका घमंड चूर-चूर हो गया। उसने अपने इस कृत्य के लिए माफी मांगी। तब गणेश जी अपना वजन कम किया। और इस तरह आज तक गणेश जी का वाहन वही चूहा है, जो इस कहानी में वर्णित है।

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : इन 10 चीजो से करे परहेज, बढ़ेगी सेक्स ड्राइव... पढ़िए

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.