loading...
सीनियर सैकण्डरी कला वर्ग का परीक्षा परिणाम शनिवार को बेहद खूबसूरत दिखने वाली इस हसीना ने रची थी खौफनाक साजिश, मिली फांसी की सजा यहां हर महीने लगभग 25 जानवरों की हो जाती है मौत, जानिए वजह अब चुनाव में नामांकन के लिए कर सकते है ऑनलाइन आवेदन भारत में लश्कर के 21 आतंकियों के आने की खबर, हाई अलर्ट जारी एक साथ आईं इतनी लाशें, 40 क्विंटल लकड़ी और एक हजार से ज्यादा कंडे से जल उठा श्मशान नारायण मूर्ति ने आईटी सेक्टर में कर्मचारियों को नौकरी से हटाए जाने पर जताया दुख किसान कृषि के साथ पशुपालन कर 12 मास पाएं रोजगार : जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री केजरीवाल कभी भी सत्येंद्र जैन से पल्ला झाड़ सकते है: कपिल मिश्रा आंध्र प्रदेश में दिनदहाड़े शख्‍स की हत्या, विडियो बनाते रहे लोग पर्यटन का दूसरा नाम आकर्षण: यूनुस खान सहारा समूह अपने तीन विदेशी होटलों की बिक्री के लिए कर रहा है बातचीत अनोखी परम्परा: यहां पर गोरा बच्चा पैदा करने पर किया जाता है ये काम... चैंपियंस ट्रॉफी 2017 : भारत के क्रिकेट योद्धा पहुचें इंग्लैंड, पहली जंग 1 जून से भारतीय लापता सुखोई-30 विमान का मिला मलबा, 2 पायलट थे सवार बेटे ने वृद्ध मां का गला घोंटकर की हत्या आज से भारत में बनी मर्सिडीज कारें हो जाएगी 7 लाख रुपए सस्ती यहां की इस अनोखी परम्परा के बारें में जानकर आप रह जाएंगे दंग आतंकवाद से पीड़ित देशों में ट्रंप ने भारत का नाम लिया,सऊदी के किंग ने नवाज से मांगी माफी 12वीं क्लास की छात्रा ने जहर खाकर की आत्महत्या, जानिए पुरा मामला...
तो क्या इसीलिए ही चूहा बना गणेश जी का वाहन ... आप भी जाने ये रोचक कहानी
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 07:21:58 PM
1 of 1

नई दिल्ली। देवों में सर्वप्रथम पूज्य गणेश जी का वाहन चूहा है। चूहा जिसे संस्कृत में मूषक कहते हैं, जो कि शारीरिक आकार में छोटा होता है। गणेश जी बुद्धि के देवता है तो चूहा को तर्क-वितर्क का प्रतीक माना गया है। चूहे में इसके अलावा और भी कई गुण होते हैं, यही कारण है कि गणेशजी ने चूहे को ही अपना वाहन चुना था।

 कलियुग में उनका वाहन घोड़ा
गणेश पुराण के अनुसार हर युग में गणेश जी का वाहन बदलता रहता है। सतयुग में गणेश जी का वाहन सिंह है। त्रेता युग में गणेश जी का वाहन मयूर है और वर्तमान युग यानी कलियुग में उनका वाहन घोड़ा है। चूहा द्वापर युग में उनका वाहन था। चूहा कैसे बना गणेश जी का वाहन? इस बारे में हमारे धर्मग्रंथों में एक पौराणिक कहानी का उल्लेख मिलता है। कहानी कुछ इस तरह है कि एक बार महर्षि पराशर अपने आश्रम में ध्यान अवस्था में थे। तभी वहां कई चूहे आए और उनका ध्यान भंग करने लगे। उन चूहों ने आश्रम को तहस-नहस कर दिया।

महर्षि पराशर का ध्यान भंग हो गया, वह यह सब कुछ देख रहे थे। वह इस समस्या के समाधान के लिए गणेश जी का स्मरण करने लगे। गणेश जी को जब महर्षि की समस्या के बारे में पता चला तो उन्‍होंने सभी चूहों को वहां से भगाने के लिए अपना पाश( रस्सी नुमा शस्त्र) फेंका। आश्रम में एक चूहा ऐसा था जो सबसे ज्यादा उत्पात मचा रहा था। पाश ने उस चूहे को बांधकर गणेशजी के सामने उपस्थित किया। विशालकाय रूप के गणेशजी को देख वह चूहा उनकी उपासना करने लगा। गणेश जी उस चूहे से कहा, अब तुम मेरी शरण में हो तुम जो चाहे मांग सकते हो। गणेश जी की बातों को सुन चूहे में अहंकार पैदा हो गया। उसने गणेश जी से कहा, मुझे आपसे कुछ नहीं चाहिए, यदि आपको कुछ चाहिए तो आप मुझसे मांग सकते हैं। गणेश जी उसकी बात सुनकर प्रसन्न हुए और चूहे से कहा, मूषक यदि तुम कुछ देना चाहते हो तो मेरे आजीवन वाहन बन जाओ।

चूहे ने स्वीकार कर लिया। जब गणेशजी, चूहे पर बैठे तो उसका शरीर, गणेशजी के वजन को सह नहीं पाया और उसका घमंड चूर-चूर हो गया। उसने अपने इस कृत्य के लिए माफी मांगी। तब गणेश जी अपना वजन कम किया। और इस तरह आज तक गणेश जी का वाहन वही चूहा है, जो इस कहानी में वर्णित है।

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : इन 10 चीजो से करे परहेज, बढ़ेगी सेक्स ड्राइव... पढ़िए

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.