loading...
ममता कुलकर्णी के खिलाफ जारी हुआ गैर जमानती वारंट दुनिया में 'मेड इन चाइना' से बड़ा ब्रांड है 'मेक इन इंडिया' हरियाणा: स्थानीय लोगों को पहले दी जाएगी नौकरी में प्राथमिकता राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कर रहे हैं PM मोदी की अमेरिका यात्रा का इंतजार जानिए, इतिहास के पन्नों में 29 मार्च का दिन क्यों है खास रईस के प्रमोशन के दौरान एक शख्स की मौत ने बढ़ाई शाहरुख खान की मुश्किले भाजपा सांसदों को जेटली ने दी GST विधेयकों की जानकारी अमेरिका: संदिग्ध पैकेट मिलने के बाद व्हाइट हाउस सील, अंदर ही मौजूद थे राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति भारतीय टीम विदेश में भी जीतने की रखती है हिम्मत: अनिल कुंबले अफ्रीकियों पर हमला: 1200 लोगों पर केस दर्ज, 5 लोगों किया अरेस्ट ICC ने 10 लाख डॉलर और गदा भेंट कर भारतीय टीम को दिया जीत का तोहफा मुख्यमंत्री रमन सिंह ने चैत्र नवरात्रि पर किसानों को दी बड़ी सौगात युवती के साथ दुष्कर्म की कोशिश में दो गिरफ्तार BSNL ने पेश किया शानदार ऑफर, लीजिये तीन महीने तक अनलिमिटेड इंटरनेट का मजा ये हैं भोजपुरी फिल्मों की सनी लियोनी, देखकर खा जाएंगे धोखा ऐसा चिकित्सा केन्द्र बनाएं, जो देश-दुनिया में सबसे अलग हो : डॉ. रमन सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के साथ बैठक के बाद ट्रांसपोर्ट संघ की हड़ताल स्थगित हवाई मार्ग से ड्रग्स की तस्करी, अफगानी नागरिक हिरासत में प्रीती सोनी …बॉलीवुड में नयी खूबसूरत मॉडल किसानों के ऋण तिथि बढ़ाने पर किया जायगा विचार: सहकारिता मंत्री
धूम्रपान पड़ेगा महंगा ! छोड़ दो वरना दुनिया छोड़नी पड़ेगी
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 10:12:02 PM
1 of 1

नई दिल्ली। तंबाकू उत्पादों के डिब्बों पर इसके सेवन से होने वाले नुकसान के संदेश चाहे कितने ही डरावने क्यों न हों, इसके बावजूद महिलाओं में धूम्रपान की लत बढ़ती ही जा रही है। 21 वीं सदी में सार्वजनिक स्वास्थ्य की एक सबसे बड़ी जिम्मेदारी महिलाओं को धूम्रपान की लत से बचाना होगा। खतरे वाली बात तो यह है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट के मुताबिक, तंबाकू के सेवन से वर्तमान में दुनिया भर में प्रत्येक साल 50 लाख लोगों की मौत होती है और अनुमान के मुताबिक, धूम्रपान से साल 2016 2030 के से बीच की अवधि में 80 लाख लोग तथा 21 वीं सदी में कुल एक अरब लोगों की मौत होगी। दुनिया भर में साल 2010 में महिलाओं को सिगरेट के मार्केटिंग के साथ लिंग तथा तंबाकू के बीच संबंध स्थापित करने के इरादे से वर्ल्ड नो टोबैको डे शुरू किया गया। यह विषय तंबाकू से महिलाओं व लड़कियों को होने वाले नुकसान से लोगों को जागरूक करने के लिए शुरू किया गया और इसे हर साल मनाया जा रहा है

महिलाए और लड़कियां धूम्रपान को अभिव्यक्ति की आजादी समझने लगी हैं। यह आवश्यक है कि महिलाओं का सशक्तीकरण जारी रखना चाहिए, महिलाओं के बीच धूम्रपान की बढ़ती लत के संभावित खतरों तथा जिस प्रकार सिगरेट उद्योग कथित सामाजिक परिवर्तन के लिए महिलाओं को लक्षित कर रहा है, उस पर ध्यान दिया जाना चाहिए। बच्चों का मात-पिता से संबंध भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। किशोरों की चाहत माता-पिता, स्कूल व समुदाय से अधिक से अधिक जुड़ाव की होती है। दुर्भाग्यवश, आज के दौर में माता-पिता अपने बच्चों को समय नहीं दे पाते, जिसके कारण उनके बच्चे की उनकी गलत संगति में पड़ने की संभावना अधिक हो जाती है।

 

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.