आशिकी-3 में आलिया-सिद्धार्थ करेंगे रोमांस अमिताभ ने किया बहू ऐश्वर्या की सुसाइड की बात को नजर अंदाज। जमीन विवाद को लेकर मारपीट प्रेमी जोड़े ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान शाहरूख एक बुरी लत, जिससे आप छुटकारा नहीं पा सकते: आदित्य आईएसएल में विदेशी खिलाड़ियों के बीच भारतीयों ने भी बिखेरी चमक.. डोनाल्ड ट्रम्प विश्व की समस्याओं को सुलझाने में सक्षम : माइक पेंस विजय के शार्ट पिच गेंदों पर आउट होने को तवज्जो नहीं दें: कुंबले परीक्षा में फेल होने से दुखी छात्रा ने की आत्महत्या सलमान और शाहरुख कर सकते है एक साथ काम जल-स्वावलम्बन अभियान केे दूसरे चरण में नगरीय क्षेत्र भी होंगे प्रदेश के सभी पुस्तकालयों का 31 मार्च तक हो जायेगा डिजिटलाईजेशन इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट को लेकर अभी कोई फैसला नहीं किया गया: बीसीसीआई चार बच्चो को बेचने के आरोपी की जमानत खारिज राजस्थान में मार्च तक हर शहरी निकाय होगा कैश लैस जबरन घर में घुसकर महिला से दुष्कर्म का प्रयास, आरोपी गिरफ्तार बिकने से बची चार नाबालिग बच्चियां, दलाल गिरफ्तार आस्ट्रेलिया ने बड़ी जीत से श्रृंखला पर कब्जा किया.. अंतर्राज्यीय डकैती गिरोह: आठ सदस्य गिरफ्तार उपहार मामले में अंसल बंधुओं को नोटिस
बदनसीबी के आगे हार गयी माँ की ममता, बच्चे तक को बेचना पड़ रहा
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 08:41:41 AM
1 of 1

अलीगढ़। कभी-कभी जिंदगी हमें ऐसे दिन दिखाती है की दो वक्त की रोटी के लिए हमें सब कुछ बेचना पड़ जाता है। महफूज नगर में रहने वाली रिजवाना दो वक्त की रोटी के लिए इतनी बेबस है की वो अपनी कोख में पल रहे बच्चे तक को बेचने को मजबूर है। इसके बदले में उसे कुछ पैसे चाहिए ताकि वह अपनी बेटी और खुद का पेट भर सके। रिजवाना महफूज नगर में अपनी बहन रिहाना और बहनोई अख्तर हुसैन के साथ रहती हैं। 15 दिन पहले ही वह यहां पर आई है। जब मकान मालिक ने महज ढाई हजार रुपये का किराया नहीं चुकाने पर उसका सामान अपने कब्जे में लेकर घर से बाहर निकाल दिया था। 

कई गर्भवती महिलाएं नमक रोटी को तरस रही

बहन बहनोई भी रिजवाना को किसी तरह से दो वक्त की रोटी तो दे रहे हैं, लेकिन अब उसके गर्भस्थ शिशु का खर्च वहन करने में उन्होंने अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। इसलिए मजबूरी में सबने तय किया कि रिजवाना के होने वाले बच्चे को किसी ऐसे परिवार को दिया जाए जो उसको पालन पोषण दे सके और रिजवाना की भी आर्थिक मदद कर सके। कोई ऐसा परिवार जो करीबी रिश्तेदार न हो ताकि बच्चा दूर रह कर बड़ा हो तो मां की ममता न जागे। सपा सरकार ने हौसला पोषण मिशन के  साथ कई योजनाएं शुरू की हैं। इन योजनाआें में मिलने वाला दूध घी सम्पन्न लोगों के घरों से बरामद हो रहा है इससे ठीक उलट रिजवाना जैसी कई गर्भवती महिलाएं नमक रोटी को तरस रही हैं।

 रिजवाना से पूछिए... !
रिजवाना को लड़की हो या लड़का। ऑपरेशन से हो या साधारण प्रसव। बच्चा लेने वाला जैसे चाहे वैसे कर ले। हम सभी के लिए तैयार हैं। रिजवाना को पैसों की जरूरत हैं नहीं तो अपना बच्चा कोई किसी को क्यों देगा..? हम सब बहुत मजबूरी में ये फैसला कर पाएं हैं। जब मकान मालिक ने उसका सामान रख लिया तो देहलीगेट थाने में शिकायत की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई है।  ये प्रकरण बहुत दुखद है। रिजवाना को मातृत्व शिशु लाभ योजना में पंजीरी एवं अन्य पोषक तत्व दिलाए जाएंगे। महिला अस्पताल में डिलीवरी कराने पर उसे जच्चा-बच्चा की हर सुविधा और 1500 से दो हजार रुपये दिलाया जाएगा। समाजवादी पेंशन योजना में अनुदान दिलाएंगे। रोजगार दिलाने के साथ उसके पति को भी ढूंढेंगे। बच्चे को बेचने नहीं दिया जाएगा। 

यह भी पढ़े : लापरबाही के कारण बिल्ली की मौत, महिला ने डॉक्टर पर ठोका ढाई करोड़ का मुकदमा..!

यह भी पढ़े : 68 की उम्र में कर रहा है 9वीं शादी वो भी 28 साल की लड़की से ... ऐसे शुरू हुई कहानी

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.