नागरिकों को खुद को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होने की जरूरत स्वास्थ्य विभाग ने तीन निजी अस्पतालों पर छापा मारा शांति मानवता का मुख्य धर्म व युवा देश की रीढ़ की हड्डी हैं स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर के खिलाफ लगाए मुर्दाबाद के नारे स्वास्थ्य विभाग ने फूड प्वाइज¨नग की आशंका जताई पाक ने सीमा पर फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, 2 जवान शहीद वीडियो: योग टीचर पर कहर बनकर टुटा नारियल का पेड़, हुई मौत महिला हाॅकी विश्व लीग के सेमीफाइनल में पराजित होने के बाद भारत रही आठवें स्थान पर महिला SI ने चोर को पकड़ने के लिए बिछाया लव स्टोरी का जाल, भेजा जेल फेडरेशन स्क्वायर में भारत का राष्ट्रीय ध्वज फहरायेंगी ऐश्वर्या जेटली ने पॉलिटिकल फंडिंग को पारदर्शी व सिमित करने के लिए राजनीतिक दलों से मांगे सुझाव बिहार एसटीएफ टीम के हत्ये चढ़ा 50 हजार का इनामी दुर्गेश अरुण जेटली ने कहा है, स्वच्छ राजनीतिक फंडिंग की दिशा में काम कर रही सरकार सीन स्पाइसर के इस्तीफे के बाद ट्रंप प्रशासन के संचार निदेशक बने एंथनी कैग रिपोर्ट: चीन बढ़ा रहा है हिन्द महासागर में कदम, इंडियन नेवी में कई खामियां विदेशी छात्रा को देख युवक ने की ऐसी हैरान करने वाली हरकत... WWC Final: लार्ड्स में कपिल देव का इतिहास दोहराने उतरेंगी देश की बेटियां भगवान बांके बिहारी की शरण में पहुंचे गोविंदा, पूजा अर्चना कर लिया आशीर्वाद केरल: कांग्रेस विधायक एम. विन्सेंट रेप के आरोप में गिरफ्तार व्हाइट-सिल्वर लहंगे में सोनम ने किया रैंप वॉक, जीता सबका दिल
1 करोड़ में नीलम हुई ये 8 लाइन की कविता, 74 साल पहले लिखी गयी
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 06:56:52 PM
1 of 1

नई दिल्ली। एम्सटर्डम में एक आठ लाइन की कविता एक करोड़ रुपए में नीलाम हुई है। इस कविता की खास बात यह थी कि इस पर एन फ्रैंक ने अपने हस्ताक्षर किए थे। बता दें कि एन फ्रैंक एक जर्मन यूहदी बच्ची थी।एन फ्रैंक द्वारा यह कविता 28 मार्च 1942 को नाजियों द्वारा मारे जाने से चार महीने पहले लिखी गई थी। एन फ्रैंक ने स्कूल में यह कविता अपनी एक प्रिय दोस्त जैकलीन की छोटी बहन को संबोधित करते हुए लिखा था। स्कूल में लिखी उनकी कविता को एक ऑनलाइन नीलामी में बेचा गया। इसके खरीदार का नाम उजागर नहीं किया गया है। एम्सटर्डम स्थित एक नीलामी घर बब किपर ने कहा कि पत्र की नीलामी राशि उनके अनुमान से तीन गुना है।

गौरतलब है कि एन फ्रैंक एक जर्मन यहूदी बच्ची थी। उनका जन्म जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में 1929 में हुआ था। द्वितीय विश्व युद्ध के समय फ्रैंक और उनके पूरे परिवार को एमस्टर्डम के कैनाल हॉउस में मौत के घाट उतार दिया गया। नाजियों पर लिखे उनके खत दुनियाभर में काफी प्रसिद्ध हैं और अब तक किताब के रूप में इनकी कई प्रतियां बिक चुकी हैं।

यह भी पढ़े: तर्क ! इन कारणों को वजह से बढ़ रहा लड़कियों का बलात्कार ...पढ़िए जरा

यह भी पढ़े : 5 बच्चो की थी माँ, हुई कामुक फिर 20 साल के लड़के को कर लिया कमरे में बंद और ...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.