दुनिया में एक ऐसी जगह जहां पैदा होते हैं सिर्फ जुड़वां बच्चे एशिया-यूरोप बैठक: उद्घाटन करेंगी आंग सान सू की, हिस्सा लेंगे 51 देश कोलकाता टेस्ट ड्रा: टीम इंडिया की उम्मींद टूटी, श्रीलंका ने गवाए 75/7 हिमाचल प्रदेश के ऊंचे इलाकों में फिर से बर्फबारी, देखें वीडियो महिला टीचर ने छात्रों को बनाया अपनी हवस का शिकार कोलकाता टेस्ट LIVE: भुवनेश्‍वर ने डिकवेला को किया LBW आउट, 69 रन पर गिरे 6 विकेट कोलकाता टेस्ट LIVE: भारत को मो. शमी ने दिलाई पांचवी सफलता, चंदीमल (22) आउट PM नरेंद्र मोदी की इंटरप्रिटेटर, सोशल मीडिया पर तस्वीर चर्चा में पद्मावती: बीजेपी नेता ने कहा- पीएम मोदी अपनी ताकत का इस्‍तेमाल कर रोकें फिल्‍म, देखें वीडियो कोलकाता टेस्ट: विराट ने जड़ा शतक, गांगुली और गावस्कर का तोड़ा रिकॉर्ड टिकट काउंटर पर भीड़ कम करने के लिए रेलवे ने जारी किया नया नियम कोलकाता टेस्ट LIVE: श्रीलंका टीम लड़खड़ाई, 22 रन पर गवाए 4 विकेट 2008 से पैरालिसिस के शिकार कांग्रेस नेता प्रियरंजन दास मुंशी का निधन 'पद्मावती' को लेकर सीएम शिवराज ने दिया ये बड़ा बयान... 'मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर' का पोस्टर हुआ रिलीज मुकुल रॉय फोन टेपिंग मामला: केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल सरकार को HC का नोटिस जारी IND vs SL Live: विराट ने बनाया 18वां शतक, भारत ने 352 रन बनाकर दूसरी पारी की घोषित हल्की ठण्ड के साथ बढ़े अण्डों के दाम, 15 प्रतिशत की हुई बढ़ोतरी गुजरात विधानसभा चुनाव: बीजेपी की 28 उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट जारी भारत का आकड़ा 300 के पार, शतक के नजदीक विराट
1 करोड़ में नीलम हुई ये 8 लाइन की कविता, 74 साल पहले लिखी गयी
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 06:56:52 PM
1 of 1

नई दिल्ली। एम्सटर्डम में एक आठ लाइन की कविता एक करोड़ रुपए में नीलाम हुई है। इस कविता की खास बात यह थी कि इस पर एन फ्रैंक ने अपने हस्ताक्षर किए थे। बता दें कि एन फ्रैंक एक जर्मन यूहदी बच्ची थी।एन फ्रैंक द्वारा यह कविता 28 मार्च 1942 को नाजियों द्वारा मारे जाने से चार महीने पहले लिखी गई थी। एन फ्रैंक ने स्कूल में यह कविता अपनी एक प्रिय दोस्त जैकलीन की छोटी बहन को संबोधित करते हुए लिखा था। स्कूल में लिखी उनकी कविता को एक ऑनलाइन नीलामी में बेचा गया। इसके खरीदार का नाम उजागर नहीं किया गया है। एम्सटर्डम स्थित एक नीलामी घर बब किपर ने कहा कि पत्र की नीलामी राशि उनके अनुमान से तीन गुना है।

गौरतलब है कि एन फ्रैंक एक जर्मन यहूदी बच्ची थी। उनका जन्म जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में 1929 में हुआ था। द्वितीय विश्व युद्ध के समय फ्रैंक और उनके पूरे परिवार को एमस्टर्डम के कैनाल हॉउस में मौत के घाट उतार दिया गया। नाजियों पर लिखे उनके खत दुनियाभर में काफी प्रसिद्ध हैं और अब तक किताब के रूप में इनकी कई प्रतियां बिक चुकी हैं।

यह भी पढ़े: तर्क ! इन कारणों को वजह से बढ़ रहा लड़कियों का बलात्कार ...पढ़िए जरा

यह भी पढ़े : 5 बच्चो की थी माँ, हुई कामुक फिर 20 साल के लड़के को कर लिया कमरे में बंद और ...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.