loading...
लोकसभा में आज पास हो सकते हैं GST से जुड़े 4 बिल भारत-पाकिस्तान सीरीज को लेकर BCCI ने गृह मंत्रालय से मांगी अनुमति SBI कार्ड में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाकर 74% करेगा एसबीआई OMG: फिर दिखा मलाइका अरोड़ा का बिंदास अंदाज़, देखें तस्वीरें रामचंद्र गुहा ने कहा- BJP और मोदी की आलोचना पर मुझे मिल रही हैं धमकियां धर्म गुरु दलाई लामा को उल्फा (आई) की धमकी, चीन के खिलाफ कुछ भी न बोले VIDEO: देखिये पॉल वॉकर और उनकी बेटी के खूबसूरत पल! हिन्दी और बांग्ला फ़िल्मों में अपनी छाप छोड़ने वाले प्रसिद्ध अभिनेता थे उत्पल दत्त! टाटा सन्स ग्रुप कंपनियों में 10,000 करोड़ रुपये का करेगी इनवेस्ट UP में अवैध बूचड़खानों के बैन होने के बाद 5 और राज्‍यों में अवैध मीट की दुकानों पर कसा शिकंजा राहुल बोस की 'पूर्णा' देख रो पड़े राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी VIDEO: देखिये क्रिकेट के यादगार ऐतिहासिक पल! इतिहास: हिन्दी के प्रसिद्ध कवि तथा गांधीवादी विचारक थे भवानी प्रसाद मिश्र! डाओ में हुई 150 अंक की तेजी एंटी रोमियो अभियान के तहत चचेरे भाई बहन को किया गिरफ्तार, फिर... अगर किसी के साथ अन्याय हुआ है तो उसे खुलकर सामने आना चाहिए: एहसान कुरैशी ऑस्ट्रलिया में चक्रवाती तूफान 'डेबी' का कहर, क्वींसलैंड में भूस्खलन पैनासोनिक ने पेश किया नया कैमरा Lumix GH5 सरकार ने ठुकराए थे पद्म पुरस्कार नामों की लिस्ट से धोनी समेत कई हस्तियों के नाम UP: राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश बने सपा विधानमंडल दल नेता
1 करोड़ में नीलम हुई ये 8 लाइन की कविता, 74 साल पहले लिखी गयी
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 06:56:52 PM
1 of 1

नई दिल्ली। एम्सटर्डम में एक आठ लाइन की कविता एक करोड़ रुपए में नीलाम हुई है। इस कविता की खास बात यह थी कि इस पर एन फ्रैंक ने अपने हस्ताक्षर किए थे। बता दें कि एन फ्रैंक एक जर्मन यूहदी बच्ची थी।एन फ्रैंक द्वारा यह कविता 28 मार्च 1942 को नाजियों द्वारा मारे जाने से चार महीने पहले लिखी गई थी। एन फ्रैंक ने स्कूल में यह कविता अपनी एक प्रिय दोस्त जैकलीन की छोटी बहन को संबोधित करते हुए लिखा था। स्कूल में लिखी उनकी कविता को एक ऑनलाइन नीलामी में बेचा गया। इसके खरीदार का नाम उजागर नहीं किया गया है। एम्सटर्डम स्थित एक नीलामी घर बब किपर ने कहा कि पत्र की नीलामी राशि उनके अनुमान से तीन गुना है।

गौरतलब है कि एन फ्रैंक एक जर्मन यहूदी बच्ची थी। उनका जन्म जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में 1929 में हुआ था। द्वितीय विश्व युद्ध के समय फ्रैंक और उनके पूरे परिवार को एमस्टर्डम के कैनाल हॉउस में मौत के घाट उतार दिया गया। नाजियों पर लिखे उनके खत दुनियाभर में काफी प्रसिद्ध हैं और अब तक किताब के रूप में इनकी कई प्रतियां बिक चुकी हैं।

यह भी पढ़े: तर्क ! इन कारणों को वजह से बढ़ रहा लड़कियों का बलात्कार ...पढ़िए जरा

यह भी पढ़े : 5 बच्चो की थी माँ, हुई कामुक फिर 20 साल के लड़के को कर लिया कमरे में बंद और ...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.