‘गोलमाल अगेन’ को लेकर लोगों ने दिया ये Compliment, अजय ने दिए कुछ ऐसे मजेदार जवाब वीरेंद्र सहवाग के ‘दर्जी’ बुलाने पर रॉस टेलर ने दिया कुछ ऐसा जवाब... छेड़खानी के डर से लोकल ट्रेन से कूद गई छात्रा 'मर्सल' के GST वाले सीन से राजनीतिक में मची हलचल, रजनीकांत ने की तारीफ श्रीलंका के खिलाफ 3 टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारतीय का ऐलान प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंन्द्र योजना का लाभ उठाकर आप कमा सकते है 30 से 35 हजार मैं फक्कड़ हूं लेकिन दुनिया के खातिर अपनी लाइफस्टाइल नहीं छोड़ सकती: राधे मां बेकाबू होकर ब्रिज से नीचे गिरी बाइक, छात्र की हुई मौत फिल्म प्रमोशन के दौरान राजकुमार राव की टूटी टांग, पहुंचे अस्पताल जन्मदिन पर प्रभास ने फैंस को दिया ये खास तोहफा युवक के मुंह में तमंचा ठूंसकर मार दी गई गोली राजधानी एक्सप्रेस का टिकट कन्फर्म नहीं हुआ तो रेलवे देगा फ्लाइट का टिकट! भारतीय डॉक्टर एेसे कर रहा ISIS की हेल्प, खोज में जुटीं जांच एजेंसियां बिलकिस बानो गैंगरेप मामला: सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार से 4 हफ्तों में मांगी विस्तार रिपोर्ट देवी षष्ठी माता और भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए की जाती है छठ पूजा मोहसिन रजा ने शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड को मिलाने के लिए मांगी विधिक राय राजस्थान सरकार के विवादित बिल पर हंगामा, कांग्रेस ने मुंह पर काली पट्टी बांध किया विरोध प्रदर्शन ...तो इसलिए न्यूजीलैंड से पराजित हुई टीम इंडिया क्या सचमुच युद्ध की कोई साजिश रच रहा था चीन? अब 50,000 से ज्यादा कैश ट्रांजेक्शन पर आवश्यक है ओरिजिनल ID
फेफड़ों के कैंसर का इलाज संभव, मिली नई सफलता
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 04:37:20 PM
1 of 1

नई दिल्ली। फेफड़ों के कैंसर का इलाज तलाशने की दिशा में वैज्ञानिकों को एक अहम कामयाबी मिली है। दक्षिण कोरियाई वैज्ञानिकों के एक दल ने लंग कैंसर से जुड़े एक नए प्रोटीन की पहचान की है। इस प्रोटीन की वजह से ही लंग कैंसर होता है। यूनिवर्सिटी ऑफ उलसान कॉलेज ऑफ मेडिसन में चैंग-ह्वान ली के नेतृत्व में एक टीम ने इस नए प्रोटीन का पता लगाया। फेफड़ों के कैंसर से पीड़ित लोगों के डीएनए का विश्लेषण करने के बाद उन्हें USE1 नाम की इस प्रोटीन पता चला।

ली ने कहा, ' इस शोध का मुख्य बिंदू यह है कि हमने उस प्रोटीन का पता लगा लिया है जिसकी वजह से लंग कैंसर होता है। यही प्रोटीन ट्यूमर बनने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाता है। प्रोटीन की सक्रियता से ट्यूमर के खतरनाक होने और आखिरकार पीड़ित की जान जाने की आशंका बहुत बढ़ जाती है।' इस नए शोध के चलते भविष्य में इस तरह के कैंसर से बचने का इलाज ढूढ़ा जा सकता है। इसकी मदद से नई दवाइयां भी बनाई जा सकती हैं।

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.