ओवैसी ने भाजपा पर मुसलमानों से भेदभाव का लगाया आरोप सिंगापुर पर्यटन की बेस्ट प्रेक्टिसेज साझा करने के लिये दो दिवसीय कार्यशाला की हुई शुरूआत मतदाताओं को पैसा बांटते हुए राकांपा के 13 कार्यकर्ता गिरफ्तार RBI नहीं जानता कितने खातों में जमा हुए 2.5 लाख से ज्यादा आईएस के खिलाफ लड़ाई में इराक को पूरा समर्थन देगा अमेरिका विधि विज्ञान प्रयोगशाला को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का उत्कृष्ट केन्द्र बनाने के प्रयास : गृहमंत्री छत्तीसगढ़: दो छात्रों और दो शिक्षकों वाला स्कूल उपराज्यपाल ने वायु प्रदूषण पर दिए सख्त निर्देश सीआरपीएफ के कमांडिंग अधिकारी 'चेतन चीता' की हालत में सुधार बैंक कर्मचारी ने फांसी लगाकर दी जान पाक सरकार ने हाफिज को दिया झटका, 44 हथियारों के लाइसेंस किये रद्द महिला आर्थिक सशक्तिकरण पर यूएन हाईलेवल पैनल की रिपोर्ट VIDEO: जानिए कैसे बनें जियो की प्राइम मेंबरशिप का हिस्सा लखनऊ और नागपुर को 15 दिन में मिली मेट्रो, तो फिर पटना पीछे क्यों? रियल एस्‍टेट सेक्‍टर का भविष्‍य किफायती आवास में निहित है: वेंकैया नायडू हाफिज को आतंकी बताकर बुरे फंसे पाक रक्षामंत्री, पाक नेताओं ने बताया 'भारत का प्रवक्‍ता' चौथे चरण के प्रचार का शोरगुल थमा, 12 जनपदों की 53 सीटों के लिये गुरूवार को मतदान VIDEO: जियो को टक्कर देने के लिए एकजुट हो सकती है ये कंपनियां मनपा मतदान से गायब रहा बॉलीवुड, कई सितारों ने डाले वोट VIDEO:रिलायंस JIO ग्राहकों के लिए खास ऑफर प्राइम मेंबर्स की घोषणा, जानिए 10 मुख्य बातें
फेफड़ों के कैंसर का इलाज संभव, मिली नई सफलता
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 04:37:20 PM
1 of 1

नई दिल्ली। फेफड़ों के कैंसर का इलाज तलाशने की दिशा में वैज्ञानिकों को एक अहम कामयाबी मिली है। दक्षिण कोरियाई वैज्ञानिकों के एक दल ने लंग कैंसर से जुड़े एक नए प्रोटीन की पहचान की है। इस प्रोटीन की वजह से ही लंग कैंसर होता है। यूनिवर्सिटी ऑफ उलसान कॉलेज ऑफ मेडिसन में चैंग-ह्वान ली के नेतृत्व में एक टीम ने इस नए प्रोटीन का पता लगाया। फेफड़ों के कैंसर से पीड़ित लोगों के डीएनए का विश्लेषण करने के बाद उन्हें USE1 नाम की इस प्रोटीन पता चला।

ली ने कहा, ' इस शोध का मुख्य बिंदू यह है कि हमने उस प्रोटीन का पता लगा लिया है जिसकी वजह से लंग कैंसर होता है। यही प्रोटीन ट्यूमर बनने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाता है। प्रोटीन की सक्रियता से ट्यूमर के खतरनाक होने और आखिरकार पीड़ित की जान जाने की आशंका बहुत बढ़ जाती है।' इस नए शोध के चलते भविष्य में इस तरह के कैंसर से बचने का इलाज ढूढ़ा जा सकता है। इसकी मदद से नई दवाइयां भी बनाई जा सकती हैं।

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.