loading...
loading...
loading...
खड़े ट्रक में अनियंत्रित होकर घुसी कार, 5 लोग घायल सिक्किम से सेना हटाओ, नहीं तो कैलाश मानसरोवर यात्रा शुरू नहीं होगी: चीन Video: 'जग्गा जासूस' की शूटिंग के दौरान रणबीर को हिम्मत देती नजर आई कैटरीना तस्करी के मामले में आरोपी को10 साल की कैद, 1 लाख 5 हजार का जुर्माना महागठबंधन और राष्ट्रपति चुनावों को लेकर नेताओ ने पार्टी प्रवक्ताओं को दी फालतू बयान ना देने की सलाह मानसरोवर यात्रा के लिए चीन ने रखी भारत के सामने शर्त, कहा- पहले सिक्किम से हटे भारतीय सैनिक चोरो ने की 7 घरों से 7 लाख की चोरी फाइनेंसियल ईयर में निफ्टी पहुंच सकता है10,300 से 10,400 के स्तर पर: HDFC सिक्युरिटीज आज अंतिम दिन राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार दाखिल करेगी नामांकन 100 दिन पूरे: विपक्ष का योगी सरकार पर हमला, कहा- सब अखिलेश का किया धरा है नया कुछ नहीं है युवती की संदिग्ध हालात में हुई मृत्यु वित्त मंत्री ने की बिटकॉइन पर अंतर- मंत्रालय बैठक इस 'इंटरकोर्स' शब्दों को लेकर विवादों में फंसी 'जब हैरी मेट सेजल' नशे पर रोकथाम: 'ब्रेथ एनालाइजर' के जरीय हो रही है स्कूल बसों के ड्राइवर खल्लासियों की जांच दुष्कर्म मामले पर हुई मारपीट, 5 युवक घायल सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल टेररिस्ट घोषित किया जाना अनुचित: पाक मोदी- ट्रंप मुलाकात से बौखलाया चीन, कहा- अमेरिका से मिलकर चीन के मुकाबले खड़े होने की भारत की कोशिश विफल राजस्थान में मानसून का प्रवेश, पंजाब हरियाणा में अगले 3 दिनों में मानसून पहुंचने के आसार: मौसम विभाग बारिश शुरू हुई तो बेटे लक्ष्य को स्कूल से लाने छतरी लेकर पहुंचे तुषार कपूर, देखें तस्वीरें SEBI ने कंपनियों के OFS के नियमों को बनाया आसान
फेफड़ों के कैंसर का इलाज संभव, मिली नई सफलता
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 04:37:20 PM
1 of 1

नई दिल्ली। फेफड़ों के कैंसर का इलाज तलाशने की दिशा में वैज्ञानिकों को एक अहम कामयाबी मिली है। दक्षिण कोरियाई वैज्ञानिकों के एक दल ने लंग कैंसर से जुड़े एक नए प्रोटीन की पहचान की है। इस प्रोटीन की वजह से ही लंग कैंसर होता है। यूनिवर्सिटी ऑफ उलसान कॉलेज ऑफ मेडिसन में चैंग-ह्वान ली के नेतृत्व में एक टीम ने इस नए प्रोटीन का पता लगाया। फेफड़ों के कैंसर से पीड़ित लोगों के डीएनए का विश्लेषण करने के बाद उन्हें USE1 नाम की इस प्रोटीन पता चला।

ली ने कहा, ' इस शोध का मुख्य बिंदू यह है कि हमने उस प्रोटीन का पता लगा लिया है जिसकी वजह से लंग कैंसर होता है। यही प्रोटीन ट्यूमर बनने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाता है। प्रोटीन की सक्रियता से ट्यूमर के खतरनाक होने और आखिरकार पीड़ित की जान जाने की आशंका बहुत बढ़ जाती है।' इस नए शोध के चलते भविष्य में इस तरह के कैंसर से बचने का इलाज ढूढ़ा जा सकता है। इसकी मदद से नई दवाइयां भी बनाई जा सकती हैं।

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.