2022 तक नक्सलवाद और आतंकवाद ख़त्म हो जाएंगे: राजनाथ सिंह अब आपके स्मार्टफोन से खुलेगा सूटकेस का ताला 2022 तक खत्म होगा आतंकवाद और नक्सलवाद: राजनाथ सिंह कुक के दोहरे शतक से इंग्लैंड मजबूत, सचिन के रिकॉर्ड पर मड़राया खतरा सोहा के घर हुआ बेबी शावर का सेलिब्रेशन, भतीजे तैमूर पर टिकी सबकी नज़रें कालाधन नहीं ईमानदारी का पैसा चाहिए: अमित शाह Night Shift में काम करना आपके स्वास्थ्य के लिए हो सकता है हानिकारक मासूम बच्ची का वीडियो देखकर विराट-शिखर ने दिया इमोशनल संदेश वेस्ट बंगाल ज्यूडिशियल डिपार्टमेंट ने नॉन ऑफिशियल मैरिज ऑफिसर पदों के लिए भर्ती गोरखपुर में पीड़ित परिवारों से मिले राहुल, CM योगी बोले - पिकनिक स्‍पॉट न बनाएं अक्षय की पत्नी ट्विंकल ने की 'टॉयलेट...पार्ट 2' की शूटिंग शुरू, देखें PHOTO युवाओं की आकांक्षा भारत का भविष्य तय करेगी: डॉ जितेंद्र सिंह यहां पर नजर आया श्रीलंका में पाया जाने वाला उड़ने वाला सांप गोरखपुर के पीड़ित परिवारों से मिले राहुल गाँधी इस शख्स की कमाई इतनी कि चाह कर भी नहीं कर पाता खर्च! मोस्ट वांटेड क्रिमिनल गदऊ पासी पर बढ़ी इनाम की धनराशि Asus Rog Strix लैपटॉप आकर्षित लुक व बेहतरीन फीचर के साथ फ़िल्मी दुनिया से दूर हैं 'मोहब्बतें गर्ल', परिवार के साथ कर रहीं लाइफ एन्जॉय पाक ने आतंकी बुरहान को बताया नेशनल हीरो, 'आजादी ट्रेन' में लगाए पोस्टर Lakme Fashion Week: सिल्वर गाउन में प्रीति जिंटा ने बिखेरे खूबसूरती के जलवे
अब सर्च इंजन बचायेगा लोगो की जान, सुसाइड पर लगेगी लगाम
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 04:31:32 PM
1 of 1

बर्लिन। आने वाले समय में इंटरनेट के सर्च इंजन लोगों की जान बचाने में भी मदद कर सकते हैं क्योंकि वैज्ञानिक एक ऐसा तरीका इजाद कर रहे हैं, जिससे उन यूजर्स की पहचान कारगर ढंग से की जा सकती है, जिनके द्वारा आत्महत्या कर लिए जाने का खतरा है। इन सर्च इंजनों के जरिए उन्हें यह जानकारी दी जाएगी कि उन्हें कहां से मदद मिल सकती है।

सर्च इंजन पर डाले गए सवाल केवल यूजर्स की रूचि के बारे में ही नहीं बताते बल्कि उनमें उनके मूड और स्वास्थ्य की स्थिति से जुड़ी जानकारी भी निहित होती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की सिफारिशों के चलते, गूगल जैसे सर्च इंजन पहले ही खोज के लिए डाले जा रहे उन सवालों के जवाब दे रहे हैं, जिन्हें देखकर लगता है कि यूजर्स शायद आत्महत्या के बारे में विचार कर रहा है। इन यूजर्स का ध्यान काउंसलिंग और आत्महत्या की रोकथाम करने वाली अन्य सेवाओं की ओर खींचा जाता है। जर्मनी की लुडविग मैक्सिमिलियन यूनिवर्सिटी (LMU) के फ्लोरियन अरेन्ड ने कहा, 'इंटरनेट आत्महत्या रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहा है।' वास्तव में तमाम स्टडिज में यह बात सामने आई है कि आत्महत्या करने को आतुर व्यक्ति भी उपलब्ध सहायता संसाधनों की याद दिलाने पर अपना इरादा बदल सकता है। रिसर्चर ने इस बात पर एक अध्ययन किया था कि किस तरह सर्च इंजन द्वारा इस्तेमाल की जा रही प्रणाली को सवालों के विश्लेषण के लिए संशोधित किया जा सकता है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि खतरे के कगार पर पहुंचे लोगों तक उपचार संबंधी जानकारी पहुंचाई जा सके। यह अध्ययन हेल्थ कम्यूनिकेशन नामक जर्नल में प्रकाशित हुआ था।

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.