संघर्ष और आपदाओं से प्रभावित लोगों के लिए UNO ने मांगी 22.2 अरब डॉलर की वैश्विक मदद स्टार स्क्रीन अवार्ड में बिग बी, आलिया को मिले शीर्ष सम्मान! तीन छात्रों ने की जूनियर्स की रैगिगं, प्रशासन ने छात्रों को किया निष्कासित केजरीवाल 20 दिसम्बर को भोपाल में करेंगे विशाल परिवर्तन रैली चाय वाला राजू रातों रात बना करोड़पति बद्रीनाथ की दुल्हनिया करेगी, माधुरी के तम्मा तम्मा पर डांस! सोना गिरा, चांदी मे आया सुधार आईएस ने बगदादी का उत्तराधिकारी चुनने को बैठक की! प्रवर्तन निदेशालय ने मनीलांड्रिंग मामले में दो बैंक अधिकारियों को किया गिरफ्तार फरहान अख्तर ने अक्षय के साथ फिल्म में काम करने से किया मना! भारतीय ऊर्जा कंपनियों से प्रधानमंत्री का बहुराष्ट्रीय कंपनी बनने का आहवान 'क्रैक' मैं अक्षय कुमार के साथ नज़र आएंगी ये एक्ट्रेस! मोदी एक बार फिर टाइम पर्सन ऑफ़ द ईयर नोटबंदी के बाद बैंकों में लौटे 3.4 % जाली नोट नोटबंदी की हिमाकत कर रहे लोगों को जनता सिखाएगी सबक : अखिलेश जल्दी ही लॉजी स्टेपवे का नया संस्करण लॉन्च करेगी Renault दिल्ली सरकार की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में 12 दिसंबर को होगी सुनवाई विषय पर तत्काल चर्चा शुरू की जाए: राजनाथ सिंह आलिया को मिला सर्वश्रेष्ठ एक्ट्रेस का पुरस्कार बारातियों से भरी बस ट्रक में घुसी, तीन की मौत
जानें, पककर फूलने के बाद रोटी की क्यों बन जाती हैं दो परतें?
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 03:34:33 PM
1 of 1

नई दिल्ली। आपके दिमाग में अक्सर यह बात आती होती होगी कि आखिर वह कौन-सा जादू है, जिसकी वजह से पककर फूलने के बाद रोटी की दो परतें बन जाती हैं। दरअसल ऐसा कार्बन डाईऑक्साइड गैस की वजह से होता है। असल में होता यह है कि रोटी बनाने के लिए जब शुरुआत में हम आटे में पानी मिलाकर उसे गूंथते हैं, तब गेहूं में विद्यमान प्रोटीन एक लचीली परत बना लेती है, जिसे लासा या ग्लूटेन कहते हैं। लासा की विशेषता यह होती है कि वह अपने भीतर कार्बन डाईऑक्साइड सोख लेती है। 

इसी कार्बन डाईऑक्साइड के कारण आटा गूंथने के बाद फूला रहता है और रोटी को सेंकने पर लासा के भीतर मौजूद कार्बन डाईऑक्साइड बाहर निकल कर फैलने की कोशिश करती है। इस कोशिश में वो रोटी के ऊपरी भाग को फुला देता है। जो भाग तवे के साथ चिपका होता है, उस तरफ एक पपड़ी-सी बन जाती है। ठीक इसी प्रकार दूसरी तरफ से सेंकने पर रोटी की दूसरी तरफ भी पपड़ी बन जाती है। इस तरह इन दो पपडिय़ों के भीतर बंद कार्बन डाईऑक्साइड गैस और गर्म होने से पैदा हुआ भाप रोटी की दो अलग-अलग परतें बना देती है। 

लासा का होना भी है आवश्यक
कार्बन डाईऑक्साइड गैस बनने के लिए आटे में लासा का होना जरूरी है। यही कारण है कि गेहूं की रोटी खूब फूलती है, मगर जौ, बाजरा, मक्का की रोटी या तो नहीं फूलती या बहुत कम फूलती है और इनमें स्पष्ट रूप से दो परतें भी नहीं बन पातीं, क्योंकि इन अनाजों में लासा की कमी होती है।

यह भी पढ़े: यहां पर इस बैंक से लोन लेने के लिए लड़कियों को देनी पड़ती है ये चीज...

यह भी पढ़े: फूड आइटम की बिक्री दुगनी हो जाती है जब ये मॉडल छोटे कपडे पहन कर करती है दुकानदारी..!

यह भी पढ़े: जो देगा 33 लाख उसको दूंगी पुरे मजे, ग्राहकों की भरमार... जानिए आखिर क्यों नीलाम हुई ये लड़की !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

Most Read
Latest News
loading...
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.