loading...
मोसुल में आत्मघाती विस्फोट, एक मरा महमूद मदनी का बड़ा बयान, जिस घर में न हो शौचालय, वहां मौलवी न पढ़ें निकाह कुख्यात अपराधी सनातन मड़ैया गिरफ्तार शिखा की शानदार गेंदबाजी ने दिलाई भारत को लगातार तीसरी जीत तम्मा तम्मा अगेन बादशाह के साथ किम जोंग के भाई की हत्या में उ. कोरिया का हाथ: दक्षिण कोरिया बाबुल के घर से विदा होने के बाद सीधे पोलिंग बूथ पहुंची दुल्हन आतंकवाद के खात्मे के लिए जयपुर से वाघा बॉर्डर तक 'हुंकार दौड़' रंगदारी मामले में आरोपी नक्सली गिरफ्तार मेकअप के दौरान कुछ एेसी दिखती है बॉलीवुड एक्ट्रैसेस, देखें तस्वीरें डोनाल्ड ट्रंप के बाद व्हाइट हाउस के अधिकारी राज शाह ने भी की मीडिया की आलोचना सोशल मीडिया पर धोनी के समर्थन में आये प्रशंसक OMG: ये है दुनिया की सबसे खतरनाक जेल, जहां एक-दूसरे को मारकर खा जाते हैं कैदी यूपी विस चुनाव 2017 : तीसरे चरण का मतदान समाप्त, 55 से 60 फीसदी के बीच रहा मतदान सीपीडब्ल्यूडी में कॉर्पोरेट वर्क कल्चर योजना के विरोध में उतरे कर्मचारी दरगाह हमले के बाद पाकिस्तान ने आतंवादियो पर तेज की कार्यवाही श्रीलंका ने दूसरे टी-20 में ऑस्ट्रेलिया को 2 विकेट से हराया VIDEO: करिश्मा कपूर के बॉयफ्रेंड से मिले पापा रणधीर कपूर नेत्रहीन टी-20 विश्व कप विजेता भारतीय टीम को सम्मानित करेंगे गोयल सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश कबीर का निधन, अपोलो अस्पताल ने की पुष्टि
जानें, पककर फूलने के बाद रोटी की क्यों बन जाती हैं दो परतें?
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 03:34:33 PM
1 of 1

नई दिल्ली। आपके दिमाग में अक्सर यह बात आती होती होगी कि आखिर वह कौन-सा जादू है, जिसकी वजह से पककर फूलने के बाद रोटी की दो परतें बन जाती हैं। दरअसल ऐसा कार्बन डाईऑक्साइड गैस की वजह से होता है। असल में होता यह है कि रोटी बनाने के लिए जब शुरुआत में हम आटे में पानी मिलाकर उसे गूंथते हैं, तब गेहूं में विद्यमान प्रोटीन एक लचीली परत बना लेती है, जिसे लासा या ग्लूटेन कहते हैं। लासा की विशेषता यह होती है कि वह अपने भीतर कार्बन डाईऑक्साइड सोख लेती है। 

इसी कार्बन डाईऑक्साइड के कारण आटा गूंथने के बाद फूला रहता है और रोटी को सेंकने पर लासा के भीतर मौजूद कार्बन डाईऑक्साइड बाहर निकल कर फैलने की कोशिश करती है। इस कोशिश में वो रोटी के ऊपरी भाग को फुला देता है। जो भाग तवे के साथ चिपका होता है, उस तरफ एक पपड़ी-सी बन जाती है। ठीक इसी प्रकार दूसरी तरफ से सेंकने पर रोटी की दूसरी तरफ भी पपड़ी बन जाती है। इस तरह इन दो पपडिय़ों के भीतर बंद कार्बन डाईऑक्साइड गैस और गर्म होने से पैदा हुआ भाप रोटी की दो अलग-अलग परतें बना देती है। 

लासा का होना भी है आवश्यक
कार्बन डाईऑक्साइड गैस बनने के लिए आटे में लासा का होना जरूरी है। यही कारण है कि गेहूं की रोटी खूब फूलती है, मगर जौ, बाजरा, मक्का की रोटी या तो नहीं फूलती या बहुत कम फूलती है और इनमें स्पष्ट रूप से दो परतें भी नहीं बन पातीं, क्योंकि इन अनाजों में लासा की कमी होती है।

यह भी पढ़े: यहां पर इस बैंक से लोन लेने के लिए लड़कियों को देनी पड़ती है ये चीज...

यह भी पढ़े: फूड आइटम की बिक्री दुगनी हो जाती है जब ये मॉडल छोटे कपडे पहन कर करती है दुकानदारी..!

यह भी पढ़े: जो देगा 33 लाख उसको दूंगी पुरे मजे, ग्राहकों की भरमार... जानिए आखिर क्यों नीलाम हुई ये लड़की !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.