दीपिका की इस फिल्म के साथ बॉलिवुड में डेब्यू करेंगे शाहिद के भाई अहमदाबाद: 700 करोड़ रूपये में बनेगा दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम, क्षमता 1.10 लाख 'समाजवादी दंगल' में अखिलेश 'सुल्तान', मुलायम सिंह पार्टी संरक्षक किंग खान ने करण जौहर की ऑटोबायोग्राफी 'एन अनसूटेबल बॉय' का विमोचन किया कोच, कप्तान और आरपी भाई की वजह से गुजरात टीम में एकता: अक्षर पटेल ट्रम्प एक ‘‘बदले हुऐ प्रत्याशी’, उन्हें हल्के में नहीं लें: ओबामा झारखंड के राज्यकर्मियों के लिए सातवां वेतनमान लागू, 2500 करोड़ का वित्तीय बोझ ! सीएम को अचानक देख गदगद हुआ योगी परिवार, शादी की बधाई, गांव को विकास के लिए 10 करोड़ बांग्लादेश अदालत ने नारायणगंज हत्याकांड मामले में 26 लोगों को दी सजा-ए-मौत जवानों को खराब खाना संबंधी याचिका पर सुनवाई करेगा हाईकोर्ट ऑस्ट्रेलियन ओपन: मरे, निशिकोरी, वीनस और मुगुरुजा दूसरे दौर में आपरेशन मुस्कान के तहत राजस्थान की छह लड़कियां बरामद आग लगने की घटनाओं के प्रति 'जीरो टॉलरेंस' की नीति चाहती है सरकारः नड्डा 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान के लिए जिला झुंझुनू को राष्ट्रीय पुरस्कार राजा ठाकुर हत्याकांड के आरोपी की जमानत हाईकोर्ट से खारिज विधानसभा सत्र उपराज्यपाल के पद की गरिमा का अपमान: विजेंद्र गुप्ता सिख विरोधी दंगों पर चार हफ्ते में स्टेटस रिपोर्ट दे केंद्रःसुप्रीम कोर्ट गोवाः भाजपा ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई : रघुवर दास 'खुल्लम खुल्ला' की सफलता की दुआ मांगने तिरूपति पहुंचे ऋषि कपूर
जानें, पककर फूलने के बाद रोटी की क्यों बन जाती हैं दो परतें?
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 03:34:33 PM
1 of 1

नई दिल्ली। आपके दिमाग में अक्सर यह बात आती होती होगी कि आखिर वह कौन-सा जादू है, जिसकी वजह से पककर फूलने के बाद रोटी की दो परतें बन जाती हैं। दरअसल ऐसा कार्बन डाईऑक्साइड गैस की वजह से होता है। असल में होता यह है कि रोटी बनाने के लिए जब शुरुआत में हम आटे में पानी मिलाकर उसे गूंथते हैं, तब गेहूं में विद्यमान प्रोटीन एक लचीली परत बना लेती है, जिसे लासा या ग्लूटेन कहते हैं। लासा की विशेषता यह होती है कि वह अपने भीतर कार्बन डाईऑक्साइड सोख लेती है। 

इसी कार्बन डाईऑक्साइड के कारण आटा गूंथने के बाद फूला रहता है और रोटी को सेंकने पर लासा के भीतर मौजूद कार्बन डाईऑक्साइड बाहर निकल कर फैलने की कोशिश करती है। इस कोशिश में वो रोटी के ऊपरी भाग को फुला देता है। जो भाग तवे के साथ चिपका होता है, उस तरफ एक पपड़ी-सी बन जाती है। ठीक इसी प्रकार दूसरी तरफ से सेंकने पर रोटी की दूसरी तरफ भी पपड़ी बन जाती है। इस तरह इन दो पपडिय़ों के भीतर बंद कार्बन डाईऑक्साइड गैस और गर्म होने से पैदा हुआ भाप रोटी की दो अलग-अलग परतें बना देती है। 

लासा का होना भी है आवश्यक
कार्बन डाईऑक्साइड गैस बनने के लिए आटे में लासा का होना जरूरी है। यही कारण है कि गेहूं की रोटी खूब फूलती है, मगर जौ, बाजरा, मक्का की रोटी या तो नहीं फूलती या बहुत कम फूलती है और इनमें स्पष्ट रूप से दो परतें भी नहीं बन पातीं, क्योंकि इन अनाजों में लासा की कमी होती है।

यह भी पढ़े: यहां पर इस बैंक से लोन लेने के लिए लड़कियों को देनी पड़ती है ये चीज...

यह भी पढ़े: फूड आइटम की बिक्री दुगनी हो जाती है जब ये मॉडल छोटे कपडे पहन कर करती है दुकानदारी..!

यह भी पढ़े: जो देगा 33 लाख उसको दूंगी पुरे मजे, ग्राहकों की भरमार... जानिए आखिर क्यों नीलाम हुई ये लड़की !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.