loading...
Tradition: यहाँ बिना शादी के भी लिव-इन-रिलेशनशिप में रहने की पूरी आजादी! इस कैफे में सब कुछ दिखता हैं उल्टा, रोज लगी रहती हैं देखने वालों की भीड़! मस्जिद और मजार का अनूठा संगम यह खूबसूरत 'शाह चिराग मस्जिद', जानें कैसे हुआ था उद्गम! नरेंद्र मोदी भारत के तीसरे सफल प्रधानमंत्री: रामचंद्र गुहा तवांग तक रेलवे लाइन बिछाएगा भारत! तेंदुलकर ने अपने फैंस के लिए लॉन्च किया अपना मोबाइल ऐप PICS: मलाइका के बालों को ये क्या हो गया? सुरेश प्रभु ने 'इंडियन रेलवे- द वैविंग ऑफ ए नेशनल टैपेस्ट्री' नामक पुस्तक का किया विमोचन डीसीएम और ट्रक में भिड़ंत, दो की मौत चुनावी नतीजों की भविष्यवाणी पर चुनाव आयोग हुआ सख्त अफीम के साथ पिता-पुत्र समेत बरेली के चार लोग गिरफ्तार अगस्त में PCB प्रमुख का पद छोड़ देंगे शहरयार खान संतों-महंतों ने बूचडख़ानों और शराब की दुकानों पर रोक लगाने की मांग उठाई उच्च रक्षा प्रबंधन कोर्स-12 का समापन समारोह सिकंदराबाद में हुआ आयोजित IPL मैचों पर संकट, नगर निगम ने सील किया होलकर स्टेडियम Hello Hall of Fame Awards में इन स्टार्स के हॉट लुक ने मचाई धूम ... PAK: अल्पसंख्यक अहमदी समुदाय के नेता मलिक सलीम लतीफ की गोली मारकर हत्या, आतंकी संगठन लश्कर-ए-झांगवी ने ली हमले की जिम्मेदारी भाजपा ने आप से 97 करोड़ रुपए वसूलने के एलजी के आदेश का किया स्वागत जनपथ पर आयोजित ’राजस्थान उत्सव’ के भव्य समापन समारोह ने दर्शक को किया रोमांचित छात्रा से घर में घुसकर नाबालिग से दुष्कर्म का प्रयास, विरोध करने पर छात्रा को लगा दिया ऑक्सीटोक्सिन का इंजेक्शन
यहां पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: हो जाता है जीवित!
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 05:23:36 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जन्म और मृत्यु भगवान के हाथ में है। कोई नहीं जानता उसे कब मत्यु आ जाए। मृत्यु के पश्चात आत्मा शरीर का त्याग कर देती है। मृत व्यक्ति दोबारा जीवित नहीं हो सकता यहीं जीवन का सत्य है, लेकिन देहरादून में एक ऐसा स्थान है, जहां पर किसी व्यक्ति का शव ले जाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। देहरादून से 128 किलोमीटर की दूरी पर स्थित लाखामंडल नामक स्थान यमुना नदी की तट पर बर्नीगाड़ नामक जगह से सिर्फ 4-5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

समुद्र तल से इस स्थान की ऊंचाई लगभग 1372 मीटर है। इसके विषय में कहा जाता है कि यदि यहा पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। इस स्थान की खुदाई के समय विभिन्न आकार और अलग-अलग काल के हजारों शिवलिंग प्राप्त हुए हैं। माना जाता है कि पांडवों को जीवित आग में भस्म करने के लिए कौरवों ने यहीं लाक्षागृह का निर्माण करवाया था।

माना जाता है कि युधिष्ठिर ने अज्ञातवास के समय यहां शिवलिंग की स्थापना की थी। आज भी यह शिवलिंग महामंडेश्वर के नाम से प्रसिद्ध है। यहां एक खूबसूरत मंदिर का निर्माण भी करवाया गया था। शिवलिंग के सामने दो द्वारपाल पश्चिम की और मुंह करके खड़े हुए दिखाई देते हैं।

माना जाता है कि मंदिर में यदि किसी शव को इन द्वार पालों के सम्मुख रखकर मंदिर का पुजारी जल छिड़के तो वह व्यक्ति कुछ समय के लिए पुन: जीवित हो जाता है। जब वह व्यक्ति जीवित हो जाता है तो उसे गंगाजल दिया जाता है। गंगाजल ग्रहण करने के पश्चात उसकी आत्मा फिर से उसकी देह त्यागकर चली जाती है। इससे संबंधित रहस्य के बारे में आज तक कोई नहीं जान पाया।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.