छह पैसे मजबूत होकर 64.27 रुपए प्रति डॉलर पर हुआ बंद नवरात्र के मौके पर जगमगा उठे माता मंदिर, इस अवसर पर पीएम मोदी और सीएम योगी 9 दिन का रखेंगे उपवास भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरा मैच आज 1.30 बजे से होगा प्रसारित अरविंद केजरीवाल चेन्नई दौरे पर, कमल हासन से आज करेंगे मुलाकात 'केदारनाथ' की शूटिंग के लिए सारा अली खान के नखरे देख आप भी रह जाएंगे हैरान नवरात्रि 2017: आज से शारदीय नवरात्र प्रारंभ, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा एवं कलश स्थापना विधि (गुरुवार, 21 सितंबर) एक झलक पेट्रोल-डीजल के दामों पर US में राहुल गांधी ने एक बार फिर बेरोजगारी और सांप्रदायिकता के मुद्दे को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना राशिफल : 21 सितंबर : कैसा रहेगा आपके लिए गुरुवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें देश और दुनिया के इतिहास में 21 सितंबर की महत्वपूर्ण घटनाएं आंखो की रौशनी को कमज़ोर होने से बचाता है केला किसी कार्य को करते समय जल्दी थक जाने का ये हो सकता है कारण... चावल से जुड़े ये तथ्य जानकर हैरान रह जायेंगे आप स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होता है लाल चंदन हमें कई तरह की बीमारियों से बचाता है नारियल तेल बेटा मां से रोज करता था बलात्कार, मां ने दूसरे बेटे से करवा दिया कत्ल इंटरव्यू के समय इन बातों का रखें ध्यान शिविर में 126 मरीजों का स्वास्थ्य जांचा एशियाई शेरनी महक का ऑपरेशन के बाद स्वास्थ्य में आया सुधार मंत्रिमंडल ने दंतचिकित्‍सक विधेयक, 2017 को दी मंजूरी
यहां पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: हो जाता है जीवित!
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 05:23:36 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जन्म और मृत्यु भगवान के हाथ में है। कोई नहीं जानता उसे कब मत्यु आ जाए। मृत्यु के पश्चात आत्मा शरीर का त्याग कर देती है। मृत व्यक्ति दोबारा जीवित नहीं हो सकता यहीं जीवन का सत्य है, लेकिन देहरादून में एक ऐसा स्थान है, जहां पर किसी व्यक्ति का शव ले जाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। देहरादून से 128 किलोमीटर की दूरी पर स्थित लाखामंडल नामक स्थान यमुना नदी की तट पर बर्नीगाड़ नामक जगह से सिर्फ 4-5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

समुद्र तल से इस स्थान की ऊंचाई लगभग 1372 मीटर है। इसके विषय में कहा जाता है कि यदि यहा पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। इस स्थान की खुदाई के समय विभिन्न आकार और अलग-अलग काल के हजारों शिवलिंग प्राप्त हुए हैं। माना जाता है कि पांडवों को जीवित आग में भस्म करने के लिए कौरवों ने यहीं लाक्षागृह का निर्माण करवाया था।

माना जाता है कि युधिष्ठिर ने अज्ञातवास के समय यहां शिवलिंग की स्थापना की थी। आज भी यह शिवलिंग महामंडेश्वर के नाम से प्रसिद्ध है। यहां एक खूबसूरत मंदिर का निर्माण भी करवाया गया था। शिवलिंग के सामने दो द्वारपाल पश्चिम की और मुंह करके खड़े हुए दिखाई देते हैं।

माना जाता है कि मंदिर में यदि किसी शव को इन द्वार पालों के सम्मुख रखकर मंदिर का पुजारी जल छिड़के तो वह व्यक्ति कुछ समय के लिए पुन: जीवित हो जाता है। जब वह व्यक्ति जीवित हो जाता है तो उसे गंगाजल दिया जाता है। गंगाजल ग्रहण करने के पश्चात उसकी आत्मा फिर से उसकी देह त्यागकर चली जाती है। इससे संबंधित रहस्य के बारे में आज तक कोई नहीं जान पाया।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.