यहां लुक नही है मायने, है एक-दूसरे से बिल्कुल अलग फिर भी है साथ, ऐसे है यह कपल..! 7वां वेतन आयोग: बढ़ेगा कर्मचारियों का महंगाई भत्ता और एचआरए..! यूपी चुनाव में सबसे खूबसूरत उम्मीदवार, जो है काफी चर्चा में, तस्वीरें वायरल यहां बीमारी से पीड़ित लोगों को किडनैप कर, उनकी बॉडी पार्ट्स से बनाई जाती हैं दवाइयां..! संभल मे दस वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म, पुलिस मामला दबाने मे जुटी मुख्यमंत्री को जब स्कूली बच्चों ने ’शिक्षक’ बनकर पढ़ाया... ट्रेन से कटकर वृद्ध की मौत गोमती नदी में डूबा छात्र, हंगामा नोटबंदी राष्ट्रहित में एक बड़ा फैसला : मनोज सिन्हा संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता की मौत, दहेज हत्या का आरोप शेयर बाजार में आई तेजी, सेंसेक्स में 100 अंकों का उछाल सपा-बसपा ने राजनीति में फैलाया कीचड़, अब खिलेगा कमल: राजनाथ मुख्यमंत्री के साथ दिव्यांग बच्चों ने साझा किए अपने बड़े सपने एक साल में 82000 धनाढ्यों ने छोड़ा देश पुलिस व सीआरपीएफ ने डकैत को दबोचा विजय माल्या को भारत लाने की मुहिम तेज एचआईएल : रांची ने मेजबान दिल्ली को 6-2 से हराया झांसा देकर शादीशुदा का यौन शोषण 19 वाहन प्रदूषण जांच केन्द्रों की मान्यता रद्द ओवैसी ने भाजपा पर मुसलमानों से भेदभाव का लगाया आरोप
यहां पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: हो जाता है जीवित!
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 05:23:36 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जन्म और मृत्यु भगवान के हाथ में है। कोई नहीं जानता उसे कब मत्यु आ जाए। मृत्यु के पश्चात आत्मा शरीर का त्याग कर देती है। मृत व्यक्ति दोबारा जीवित नहीं हो सकता यहीं जीवन का सत्य है, लेकिन देहरादून में एक ऐसा स्थान है, जहां पर किसी व्यक्ति का शव ले जाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। देहरादून से 128 किलोमीटर की दूरी पर स्थित लाखामंडल नामक स्थान यमुना नदी की तट पर बर्नीगाड़ नामक जगह से सिर्फ 4-5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

समुद्र तल से इस स्थान की ऊंचाई लगभग 1372 मीटर है। इसके विषय में कहा जाता है कि यदि यहा पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। इस स्थान की खुदाई के समय विभिन्न आकार और अलग-अलग काल के हजारों शिवलिंग प्राप्त हुए हैं। माना जाता है कि पांडवों को जीवित आग में भस्म करने के लिए कौरवों ने यहीं लाक्षागृह का निर्माण करवाया था।

माना जाता है कि युधिष्ठिर ने अज्ञातवास के समय यहां शिवलिंग की स्थापना की थी। आज भी यह शिवलिंग महामंडेश्वर के नाम से प्रसिद्ध है। यहां एक खूबसूरत मंदिर का निर्माण भी करवाया गया था। शिवलिंग के सामने दो द्वारपाल पश्चिम की और मुंह करके खड़े हुए दिखाई देते हैं।

माना जाता है कि मंदिर में यदि किसी शव को इन द्वार पालों के सम्मुख रखकर मंदिर का पुजारी जल छिड़के तो वह व्यक्ति कुछ समय के लिए पुन: जीवित हो जाता है। जब वह व्यक्ति जीवित हो जाता है तो उसे गंगाजल दिया जाता है। गंगाजल ग्रहण करने के पश्चात उसकी आत्मा फिर से उसकी देह त्यागकर चली जाती है। इससे संबंधित रहस्य के बारे में आज तक कोई नहीं जान पाया।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.