डब्ल्यूएचओ की टीम ने स्वास्थ्य केंद्रों का निरीक्षण किया शिविर में 225 लोगों का स्वास्थ जांचा स्वास्थ्य केंद्र मंडकौला में पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन चातुर्मास धर्म ध्यान करने का मौसम है कालीचरण सराफ ने अरबन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का उद्घाटन किया राजपुताना प्रीमियर लीक में मैच फिक्सिंग/ स्पोर्ट्स फिक्सिंग गैंग का पर्दापास कर 14 गिरफ्तार एंव 38 लाख 47 हज़ार रुपये जब्त जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य सेवा 555 के डिपो प्वाइंट का उद्घाटन किया राष्ट्रपति रामनाथ कोविंदा को मुख्यमंत्री वंसुधरा राजे ने दी बधाई राजस्थान राज्य का धौलपुर होगा चिल्ड्रन फे्रन्डली जिला: मनन चतुर्वेदी बर्थडे स्पेशल: नसीरुद्दीन शाह ने अपने ख्वाबों को सच कर दिखाया, जानिए पर्सनल लाइफ से जुड़े फैक्ट्स LIVE महिला वर्ल्ड कप: ऑस्ट्रेलिया ने 18 ओवर में 3 विकेट के नुकसान पर बनाये 92 रन उदयपुर-हरिद्वार रेल सेवा सोमवार 24 जुलाई से होगी प्रारंभ: सी.पी.जोशी खुशखबरी: अभिनेत्री सनी लियोनी बनीं मां, जानें क्या है बच्चे का नाम... LIVE महिला वर्ल्ड कप: भारत ने ऑस्ट्रेलिया को तीसरा झटका दिया विद्यार्थियों की वैज्ञानिक प्रतिभा के विकास हेतु होगा विज्ञान मेलों का आयोजन कैमूर के जंगल में ले जाकर किया किशोरी का गैंगरेप, एक गिरफ्तार LIVE महिला वर्ल्ड कप: भारत ने ऑस्ट्रेलिया को पहला झटका दिया तेज धुप और लू के कारण शरीर में पानी की कमी को पूरा करने के लिए जानिए ये आसान उपाय उत्तर प्रदेश: कांवड़ियों के शिविर पर गिरी आकाशीय बिजली jio आने के बाद हर तिमाही में हो रहा है Airtel को 550 करोड़ रुपये का नुकसान
यहां पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: हो जाता है जीवित!
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 05:23:36 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जन्म और मृत्यु भगवान के हाथ में है। कोई नहीं जानता उसे कब मत्यु आ जाए। मृत्यु के पश्चात आत्मा शरीर का त्याग कर देती है। मृत व्यक्ति दोबारा जीवित नहीं हो सकता यहीं जीवन का सत्य है, लेकिन देहरादून में एक ऐसा स्थान है, जहां पर किसी व्यक्ति का शव ले जाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। देहरादून से 128 किलोमीटर की दूरी पर स्थित लाखामंडल नामक स्थान यमुना नदी की तट पर बर्नीगाड़ नामक जगह से सिर्फ 4-5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

समुद्र तल से इस स्थान की ऊंचाई लगभग 1372 मीटर है। इसके विषय में कहा जाता है कि यदि यहा पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। इस स्थान की खुदाई के समय विभिन्न आकार और अलग-अलग काल के हजारों शिवलिंग प्राप्त हुए हैं। माना जाता है कि पांडवों को जीवित आग में भस्म करने के लिए कौरवों ने यहीं लाक्षागृह का निर्माण करवाया था।

माना जाता है कि युधिष्ठिर ने अज्ञातवास के समय यहां शिवलिंग की स्थापना की थी। आज भी यह शिवलिंग महामंडेश्वर के नाम से प्रसिद्ध है। यहां एक खूबसूरत मंदिर का निर्माण भी करवाया गया था। शिवलिंग के सामने दो द्वारपाल पश्चिम की और मुंह करके खड़े हुए दिखाई देते हैं।

माना जाता है कि मंदिर में यदि किसी शव को इन द्वार पालों के सम्मुख रखकर मंदिर का पुजारी जल छिड़के तो वह व्यक्ति कुछ समय के लिए पुन: जीवित हो जाता है। जब वह व्यक्ति जीवित हो जाता है तो उसे गंगाजल दिया जाता है। गंगाजल ग्रहण करने के पश्चात उसकी आत्मा फिर से उसकी देह त्यागकर चली जाती है। इससे संबंधित रहस्य के बारे में आज तक कोई नहीं जान पाया।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.