सुरक्षित और सम्मिलित साइबर स्पेस देने के प्रति प्रतिबद्ध है भारत : सुषमा स्वराज पद्मावती विवाद: नाहरगढ़ किले पर लटकाया युवक का शव, लिखा- हम पुतले नहीं शव लटकाते है हादसा :पटरी से उत्तरी वास्को-डि-गामा-पटना एक्सप्रेस हाफिज सईद की रिहाई पर अमेरिका ने जताई नाराजगी, कहा- फिर से गिरफ्तार करो दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ाने से किसी को नहीं हुआ फायदा: केजरीवाल मिस्र में अब तक का सबसे भीषण आतंकी हमला, 235 लोगो की मौत वीडियो: वोट देने से किया मना तो दबंगो ने जलाया महिला का घर आधार कार्ड को लेकर दो बड़े फैसले, जल्द कीजिए आप भी नहीं तो सकता है बड़ा नुकसान अभिनेत्री नमिता आज अपने बॉयफ्रेंड वीरेंद्र से रचाई शादी, देखें वीडियो रेसिपी: इस प्रकार बनाएं स्वादिष्ट मैकरोनी कन्‍नौज में दूल्‍हा-दुल्‍हन ने थाने में रचाई शादी, खाईं सात जन्‍मों की कसमें, देखें वीडियो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ता हैं पपीता, जानिए पद्मावती विरोध: किले में शव मिलने से बॉलीवुड में मचा हड़कंप, जानिए पूरा मामला मिस्र: हिंसक आतंकी हमले में 155 मरे, सैंकड़ों घायल ‘मॉनसून शूटआउट’ का नया गाना ‘अंधेरी रात’ में दिया हुआ रिलीज़ THE फैक्ट्री कार्नर ने मनाया बालदिवस कई खतरनाक बीमारियों को दूर भगाता है अमरूद, जानिए अभिनेत्री नमिता ने फिल्म निर्माता वीरेंद्र चौधरी संग रचाई शादी DSP ने शादी का झांसा देकर महिला कांस्टेबल से बनाए शारीरिक सम्बन्ध सुस्त मांग से सोने में गिरावट, चांदी स्थिर
यहां पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: हो जाता है जीवित!
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 05:23:36 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जन्म और मृत्यु भगवान के हाथ में है। कोई नहीं जानता उसे कब मत्यु आ जाए। मृत्यु के पश्चात आत्मा शरीर का त्याग कर देती है। मृत व्यक्ति दोबारा जीवित नहीं हो सकता यहीं जीवन का सत्य है, लेकिन देहरादून में एक ऐसा स्थान है, जहां पर किसी व्यक्ति का शव ले जाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। देहरादून से 128 किलोमीटर की दूरी पर स्थित लाखामंडल नामक स्थान यमुना नदी की तट पर बर्नीगाड़ नामक जगह से सिर्फ 4-5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

समुद्र तल से इस स्थान की ऊंचाई लगभग 1372 मीटर है। इसके विषय में कहा जाता है कि यदि यहा पर मृत व्यक्ति को लाया जाए तो वह पुन: जीवित हो जाता है। इस स्थान की खुदाई के समय विभिन्न आकार और अलग-अलग काल के हजारों शिवलिंग प्राप्त हुए हैं। माना जाता है कि पांडवों को जीवित आग में भस्म करने के लिए कौरवों ने यहीं लाक्षागृह का निर्माण करवाया था।

माना जाता है कि युधिष्ठिर ने अज्ञातवास के समय यहां शिवलिंग की स्थापना की थी। आज भी यह शिवलिंग महामंडेश्वर के नाम से प्रसिद्ध है। यहां एक खूबसूरत मंदिर का निर्माण भी करवाया गया था। शिवलिंग के सामने दो द्वारपाल पश्चिम की और मुंह करके खड़े हुए दिखाई देते हैं।

माना जाता है कि मंदिर में यदि किसी शव को इन द्वार पालों के सम्मुख रखकर मंदिर का पुजारी जल छिड़के तो वह व्यक्ति कुछ समय के लिए पुन: जीवित हो जाता है। जब वह व्यक्ति जीवित हो जाता है तो उसे गंगाजल दिया जाता है। गंगाजल ग्रहण करने के पश्चात उसकी आत्मा फिर से उसकी देह त्यागकर चली जाती है। इससे संबंधित रहस्य के बारे में आज तक कोई नहीं जान पाया।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.