लोकसभा उपचुनावः अजमेर से पायलट और अलवर से जितेंद्र सिंह को कांग्रेस दे सकती है मौका J&K: रामबन में SSB कैंप पर हमले में शामिल 2 हमलावर गिरफ्तार पेटीएम मॉल `मेरा कैशबैक सेल' में खरीद पर आकर्षक इनाम आज सिनेमाघरों में 'हसीना पारकर' सहित दस्तक देंगी ये चार फिल्मे नेपाल चीन के साथ 13 और एंट्री प्वाइंट्स खोलेगा पेट्रोल-डीज़ल पर लगने वाला वैट बिलकुल भी कम नहीं होगा: जयंत मलैया Video: ढिंचैक पूजा का नया गाना 'बापू दे दे थोड़ा कैश' हुआ रिलीज साइबर अपराध रोकने के लिए यह कदम उठाएगी सरकार: गृह मंत्री पाकिस्तान की गोलाबारी का भारतीय जवानो ने दिया मुंहतोड़ जवाब इकबाल कासकर का बड़ा खुलासा- फिलहाल पाकिस्तान में है दाऊद इब्राहिम! पीएम मोदी आज वाराणसी दौरे पर, कई विकास परियोजनाओं की करेंगे शुरूआत राम रहीम के बाद अब फलाहारी बाबा पर दुष्कर्म का अपराध दर्ज कीकू शारदा: पहले से भी ज्यादा दमदार तरीके से होगी 'द कपिल शर्मा' की वापसी विद्रोह और आतंकवाद के अभियान का पाकिस्तान लगातार हो रहा है शिकार: खकान अब्बासी ...तो हैटट्रिक से पहले कुलदीप ने इस खिलाडी से पूछा था 'कैसी गेंद डालूं' सोना 250 रुपये और चांदी 600 रुपये फिसली अपराधों को जड़ से समाप्त करने के लिए एक्शन प्लान तैयार करें अधिकारी: आराधना शुक्ला बनर्जी सरकार को जोर का झटका, मोहर्रम के दिन भी होगा दुर्गा विसर्जन डीपीसी: विद्यार्थियों की सुरक्षा के लिए शिक्षकों को दिलाएंगे शपथ हम पर दर्ज नहीं है अपराध यस बैंक ने की 2500 कर्मचारियों की छंटनी, डिजिटलीकरण बना कारण
यहां पर पेड़ों की जड़ों से बना है ये अनोखा ब्रिज
sanjeevnitoday.com | Saturday, September 16, 2017 | 12:16:44 PM
1 of 1

जकार्ता। आज हम आपको एक ऐसे ब्रिज के बारें में बताने को जा रहे है जिसके संबंध में जानकर आप चौंक जाएंगे। दरअसल, इंडोनेशिया में एक नदी के तट पर स्थित 2 पेडों की जडों से बना ब्रिज लोगों की आस्था और आकर्षक का केंद्र बना हुआ है।

 

इस ब्रिज को बनने में लगभग 24 साल लगे है। यहां के लोगों का मानना है कि इस पवित्र ब्रिज के नीचे नहाने से सारी मन्नतें पूरी होती है। इस ब्रिज को "जेम्बातन अकर" नाम से जाना जाता है। ये ब्रिज 2 गांवों को भी आपस में जोडता है।

यह भी पढ़े: इन लड़कियों का ऐसा करतब देख आप रह जाएंगे दंग

इस ब्रिज के आसपास के इलाके में मछली के शिकार पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई है। लोगों का विश्वास है कि इस ब्रिज के आसपास पाई जाने वाली मछलियां पवित्र और देवदूत हैं। ये ब्रिज नदी के दोनों और स्थित कुबंग पेड की जडों को बुनकर बनाया गया है। 

यह भी पढ़े: इस शख्स को अजीब बीमारी, नहीं बढ़ पा रही है लम्बाई

यह पूरी तरह से प्राकृतिक है। 1890 में पाकीह सोहन नाम के उलेमा से इसे बनाने का कार्य शुरू किया था। इसे बनाने में 24 साल का समय लगा। अब दोनों गांव के लोग क्रांसिग के रूप में इस्तेमाल करते हैं। छुट्टी और ईद के दिन यहां पर्यटकों का तांता लगा रहता है।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.