loading...
महमूद मदनी का बड़ा बयान, जिस घर में न हो शौचालय, वहां मौलवी न पढ़ें निकाह कुख्यात अपराधी सनातन मड़ैया गिरफ्तार शिखा की शानदार गेंदबाजी ने दिलाई भारत को लगातार तीसरी जीत तम्मा तम्मा अगेन बादशाह के साथ किम जोंग के भाई की हत्या में उ. कोरिया का हाथ: दक्षिण कोरिया बाबुल के घर से विदा होने के बाद सीधे पोलिंग बूथ पहुंची दुल्हन आतंकवाद के खात्मे के लिए जयपुर से वाघा बॉर्डर तक 'हुंकार दौड़' रंगदारी मामले में आरोपी नक्सली गिरफ्तार मेकअप के दौरान कुछ एेसी दिखती है बॉलीवुड एक्ट्रैसेस, देखें तस्वीरें डोनाल्ड ट्रंप के बाद व्हाइट हाउस के अधिकारी राज शाह ने भी की मीडिया की आलोचना सोशल मीडिया पर धोनी के समर्थन में आये प्रशंसक OMG: ये है दुनिया की सबसे खतरनाक जेल, जहां एक-दूसरे को मारकर खा जाते हैं कैदी यूपी विस चुनाव 2017 : तीसरे चरण का मतदान समाप्त, 55 से 60 फीसदी के बीच रहा मतदान सीपीडब्ल्यूडी में कॉर्पोरेट वर्क कल्चर योजना के विरोध में उतरे कर्मचारी दरगाह हमले के बाद पाकिस्तान ने आतंवादियो पर तेज की कार्यवाही श्रीलंका ने दूसरे टी-20 में ऑस्ट्रेलिया को 2 विकेट से हराया VIDEO: करिश्मा कपूर के बॉयफ्रेंड से मिले पापा रणधीर कपूर नेत्रहीन टी-20 विश्व कप विजेता भारतीय टीम को सम्मानित करेंगे गोयल सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश कबीर का निधन, अपोलो अस्पताल ने की पुष्टि रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु का हिस्सा नहीं होंगे स्टार्क
कैशलेस गांव ! अब एटीएम से ही खरीदनी होगी सब्जी, डिजिटल बन रहा ये गांव
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 08:07:52 PM
1 of 1

ठाणे। ठाणे का धसई गांव पूरी तरह से कैशलेस होने वाला है। इस गांव के लोग व्यापारियों से लेकर सब्जी वाले तक को एटीएम कार्ड से पैसे का भुगतान करते हैं। जनधन योजना के तहत गांववाले एटीएम कार्ड के द्वारा पैसो का  भुगतान करते हैं। ठाणे जिले के धसई गांव के 10,000 निवासियों ने नकद लेन-देन को खत्म करने का फैसला करके एक नई मिसाल पेश की है। गांव में 40 कार्ड स्वाइप मशीनों है। मिड-डे की खबर के मुताबिक गांववाले नाई से लेकर डॉक्टर तक को एटीएम कार्ड से भुगतान करेंगे। एक राज्यसभा सांसद ने गांववालों के पूरी तरह से कैशलेस हो जाने के फैसले पर कहा था कि, किसानों को ऑनलाइन लेन-देन और एटीएम कार्ड के बारे में न कुछ पता है और न ही वह इसे इस्तेमाल करना नहीं जानते हैं। हालांकि अब गांववालों ने सांसद को एक मिसाल के तौर पर पहचान बनाकर गलत साबित कर दिया है।
 
सावरकर स्मारक संगठन के अध्यक्ष रंजीत सावरकर जो एक गैर सरकारी संगठन चलाते है उन्होनें गांव में कैशलेस यानि एटीएम कार्ड से भुगतान शुरु करने की पहल की थी। बैंक ऑफ बड़ौदा, और जन धन योजना की मदद से सभी ग्रामीणों के पास अब रूपे एटीएम कार्ड होगा। इस तरह गांव में एक नई  सुविधा का आगाज हुआ है। इस गांव में एटीएम कार्ड से भुगतान की सुविधा से करीब 400 व्यापारियों को फायदा होगा। बहरहाल यह देश का पहला कैशलेश गांव होगा। जहां लोग पैसो का लेन-देन और भुगतान एटीएम कार्ड से करते हैं।   बता दें कि प्रधानमंत्री जनधन योजना का मुख्य उद्देश्य भारत की वित्तीय सेवाओं जैसे बैंकिंग, पैसे के लेन-देन , लोन, बीमा और पेंशन को उपयोगी और सुविधाजनक बनाना था। इस अभियान को अगस्त 2014 में शुरू किया गया था, जिसमे अब तक लगभग 25.68 करोड़ जन धन खातों में 72,834.72 करोड़ रुपये जमा हुए हैं यह अपने आप में एक बड़ा कदम है। 

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.