loading...
Mystery: इस रहस्यमयी खजाने को पाने के चक्कर में कइयों ने गवाई जान! हाईटेक भिखारी: क्रेडिट और डेबिट कार्ड से भीख लेता हैं यह भिखारी! OMG: दो रुपये के पीछे हुई हाथापाई, वृद्ध ने गवाई जान! ‘कृत्रिम दिल’ की बदौलत 555 दिनों तक जीते रहे ब्रिटेन के लार्किन! गोलगप्पे का स्वाद बढ़ाने के लिए कर डाला ये हैरान कर देने वाला काम! OMG: TV का रिमोट चुराने पर हो गयी 22 साल की जेल! ये हैं भारत के 7 करोड़पति भिखारी, जानें रोज की कमाई? सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र के पुत्र रोहिताश्व ने करवाया था इस किले का निर्माण, दीवारों से खून.. जानें इतिहास भारत में मुस्लिम दूसरा सबसे बड़ा बहुसंख्यक: आजाद VIDEO: इस फिल्म में रॉ एजेंट की भूमिका निभायेंगे सुशांत सिंह डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती, 65 रुपये के स्तर पर आया केजरीवाल सरकार ने दिया था निगम का संपत्ति कर बढ़ाने का निर्देश : मनोज तिवारी संदिग्ध परिस्थितियों में गर्भवती की मौत, हत्या का आरोप नेता सदन के तौर पर योगी तो उनके ठीक सामने नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी पर बैठेंगे रामगोविंद चौधरी हथियार सहित शातिर बदमाश गिरफ्तार अवैध देशी शराब की 51 पेटियां बरामद राजा भइया की कोठी पर सजा दरबार, शिकायतों के निस्तारण का कड़ा निर्देश अमर कालोनी : धारदार हथियार से महिला की हत्या PICS: बॉलीवुड की 5 सबसे खूबसूरत अभिनेत्रियां डाकघर बैंक हुआ हिट, दो दर्जन बड़े बैंक चाहते है जुड़ना
कैशलेस गांव ! अब एटीएम से ही खरीदनी होगी सब्जी, डिजिटल बन रहा ये गांव
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 08:07:52 PM
1 of 1

ठाणे। ठाणे का धसई गांव पूरी तरह से कैशलेस होने वाला है। इस गांव के लोग व्यापारियों से लेकर सब्जी वाले तक को एटीएम कार्ड से पैसे का भुगतान करते हैं। जनधन योजना के तहत गांववाले एटीएम कार्ड के द्वारा पैसो का  भुगतान करते हैं। ठाणे जिले के धसई गांव के 10,000 निवासियों ने नकद लेन-देन को खत्म करने का फैसला करके एक नई मिसाल पेश की है। गांव में 40 कार्ड स्वाइप मशीनों है। मिड-डे की खबर के मुताबिक गांववाले नाई से लेकर डॉक्टर तक को एटीएम कार्ड से भुगतान करेंगे। एक राज्यसभा सांसद ने गांववालों के पूरी तरह से कैशलेस हो जाने के फैसले पर कहा था कि, किसानों को ऑनलाइन लेन-देन और एटीएम कार्ड के बारे में न कुछ पता है और न ही वह इसे इस्तेमाल करना नहीं जानते हैं। हालांकि अब गांववालों ने सांसद को एक मिसाल के तौर पर पहचान बनाकर गलत साबित कर दिया है।
 
सावरकर स्मारक संगठन के अध्यक्ष रंजीत सावरकर जो एक गैर सरकारी संगठन चलाते है उन्होनें गांव में कैशलेस यानि एटीएम कार्ड से भुगतान शुरु करने की पहल की थी। बैंक ऑफ बड़ौदा, और जन धन योजना की मदद से सभी ग्रामीणों के पास अब रूपे एटीएम कार्ड होगा। इस तरह गांव में एक नई  सुविधा का आगाज हुआ है। इस गांव में एटीएम कार्ड से भुगतान की सुविधा से करीब 400 व्यापारियों को फायदा होगा। बहरहाल यह देश का पहला कैशलेश गांव होगा। जहां लोग पैसो का लेन-देन और भुगतान एटीएम कार्ड से करते हैं।   बता दें कि प्रधानमंत्री जनधन योजना का मुख्य उद्देश्य भारत की वित्तीय सेवाओं जैसे बैंकिंग, पैसे के लेन-देन , लोन, बीमा और पेंशन को उपयोगी और सुविधाजनक बनाना था। इस अभियान को अगस्त 2014 में शुरू किया गया था, जिसमे अब तक लगभग 25.68 करोड़ जन धन खातों में 72,834.72 करोड़ रुपये जमा हुए हैं यह अपने आप में एक बड़ा कदम है। 

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.