एशियाई शीतकालीन खेलों के लिए तैयार भारतीय दल नाबलिग ने फांसी लगाकर की आत्‍महत्‍या पीसीए की धारा को हटाने के विरोध में पार्टी के खिलाफ जाएंगे सुब्रमण्यम स्वामी खेती की बिजली दरें कम करने से खुश किसानों ने किया मुख्यमंत्री का अभिनन्दन सलमान, सोनम के बाद अब सूरज करेगें अपना एप लांच पुरुष टीम की पहली महिला कोच बनीं चान यूएन टिंग छात्रा पर एसिड हमला, आरोपी गिरफ्तार VIDEO: 'मिर्ची म्यूजिक अवॉर्ड्स में अभिनेत्रियों ने बिखेरा जलवा कमान्डेन्ट चेतन चीता के लिए विश्वविद्यालय परिसर में स्वास्थ्य यज्ञ श्लोक-अर्जुन की जोड़ी ने जीता एपेक्स एलीट टेनिस का खिताब 'जश्न ए रेख्ता' कार्यक्रम में तारिक फतेह का विरोध दस साल की बालिका से दुष्कर्म का प्रयास रामू का कंफ्यूजन- शशिकला या जयाललिता? बिना परमिट के ई-रिक्शों के खिलाफ चलाया जायेगा अभियान ‘आंखें 2' में महानायक अमिताभ बच्चन के साथ नजर आयेंगी ईशा गुप्ता दुनिया के नंबर एक गोल्फर बने डस्टिन जॉनसन शिमला में चौकीदार को बंधक बनाकर लाखों की डकैती मोदी के 'कब्रिस्तान-श्मशान' बयान पर कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की सख्त कार्रवाई की मांग सपा प्रत्याशी रिबू श्रीवास्तव ने लिया नाम वापस, गठबंधन को राहत इस फेमस सिंगर के साथ हुआ धोखा, जबरदस्ती करवाई परफॉर्मेंस
रात में काम करने से घट सकती है उम्र।
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 06:22:25 AM
1 of 1

वाशिंगटन। एक ताजा शोध में बताया गया है कि पांच या इससे अधिक वर्षो तक बदल-बदल कर रात्रि पारी में काम करने वाली महिलाओं में ह्वदयरोग से जुड़ी समस्याओं के कारण मृत्युदर बढ़ा पाया गया, जबकि 15 वर्ष से अधिक समय तक काम करने वाली महिलाओं में फेफड़े के कैंसर से मृत्यु होने की दर में इजाफा देखा गया। लगातार रात्रि पारी में बदल-बदल कर काम करना स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक साबित हो सकता है और इसके कारण फेफड़े का कैंसर और ह्वदयरोग से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं, जो आपकी जल्द मौत का भी कारण बन सकती है। अध्ययन में महीने में कम से कम तीन पारीयां रात में करने वालों को शामिल किया गया। हारवर्ड मेडिकल स्कूल की सहायक प्राध्यापिका इवा शेर्नहैमर ने बताया, ''इस शोध के परिणाम रात्रि पारी में काम करने और स्वास्थ्य या लंबी आयु के बीच संभावित हानिकारक संबंधों के पूर्व सबूतों को प्रमाणित करते हैं।"

Image result for रात में काम करने से घट सकती है उम्र

मौत होने का खतरा 25 फीसदी अधिक पाया गया।
इस अमेरिकी संस्था से लगभग 75,000 नर्से पंजीकृत हैं। पाया गया कि छह से 15 वर्षो तक बदल-बदल कर रात्रि पारी में काम करने वाली नर्सो की मृत्यु दर 11 फीसदी अधिक रही। इनमें दिल की बीमारी से होने वाली मृत्यु की दर 19 फीसदी अधिक पाई गई। 15 या इससे भी अधिक वर्षो से रात्रि पारी में काम कर करने वाली महिलाओं में फेफड़े के कैंसर से मौत होने का खतरा 25 फीसदी अधिक पाया गया। यह अध्ययन 'अमेरिकन जर्नल ऑफ प्रीवेंटिव मेडिसिन के ताजा अंक में प्रकाशित हुआ। नींद और हमारी दैनिक जैविक क्रियाएं ह्वदय सर्केडियन सिस्टम दिल के स्वास्थ्य और कैंसर के ट्यूमर को बढऩे से रोकने में बेहद अहम होती हैं। इवा ने बताया, ''चूंकि दुनियाभर में रात्रि पाली में काम करने वाले कर्मचारियों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है, अत: यह अध्ययन संभवत: दुनिया में सबसे बड़े समूह से संबंधित अध्ययन है।" अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं ने अमेरिका में नर्सो के स्वास्थ्य संबंधी आंकड़ा रखने वाली संस्था नर्सेज हेल्थ स्टडी (एनएचएस) द्वारा दर्ज 22 वर्ष के आंकड़ों का विश्लेषण किया।

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.