जब बढ़ने लगे वर्कलोड, तो ऐसे करें हैंडल चमेली के फूल से निखारें अपनी सुंदरता अधिक समय तक काम करना सेहत के लिए नुकसानदायक इस गणेश चतुर्थी पर अपने हाथों से बनाएं मोदक सूखा नारियल स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद 18 एईएस रोगी मिलने के बाद स्वास्थ्य महकमा सतर्क जिला अस्पताल में खामियां मिलने पर एडी ने जताई नाराजगी डीसी ने कहा- मौसमी बीमारियों को लेकर सावधानी बेहद जरूरी बाढ़ के बाद महामारी का खतरा, स्वास्थ्य अमला अलर्ट रॉबर्ट वाड्रा के बीकानेर जमीन घोटाले की CBI करेगी जांच नवाज़ुद्दीन ने कहा,चित्रांगदा को 'बाबूमोशाय बंदूकबाज़' की स्क्रिप्ट से थी परेशानी भारतीय जूनियर पुरुष हॉकी टीम की कमान फेलिक्स को सौंपी मॉल में महिला ने लगाई तीसरी मंजिल से छलांग, CCTV कैमरे में कैद हुई घटना नागौर तांगा दौड़ से हटेगी रोक, हाईकोर्ट में दायर होगी याचिका: अजय सिंह एक बार फिर कोहली-स्मिथ में होगी कड़ी जंग: माइक हसी गोदाम विहीन जीएसएस एवं केवीएसएस में होगा गोदामों का निर्माण आमिर ने कहा, सिर्फ खान अभिनेता ही नहीं बॉलीवुड में स्टारडम ड्रेस को लेकर कमेंट करने वाले का मिताली ने किया मुँह बंद शिक्षक नहीं रहेंगे अप्रशिक्षित, डीएलएड कोर्स के लिए 15 Sep. तक करे आवेदन जिस बच्ची का वीडियो देख खफा थे विराट-धवन, वो निकली सिंगर शरीब साबरी की भांजी
एक ऐसा क्रांतिवीर जिसके नाम से ही दुश्मनों की पेंट गीली हो जाती थी....
sanjeevnitoday.com | Saturday, August 12, 2017 | 06:25:28 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जतीन्द्रनाथ मुखर्जी अथवा बाघा जतीन का जन्म 7 दिसम्बर, 1879 को हुआ था। ब्रिटिश शासन के ख़िलाफ़ एक बंगाली क्रांतिकारी थे। इनकी अल्पायु में ही इनके पिता का देहांत हो गया था। इनकी माता ने घर की समस्त ज़िम्मेदारी अपने ऊपर ले ली और उसे बड़ी सावधानीपूर्वक निभाया। जतीन्द्रनाथ मुखर्जी के बचपन का नाम 'जतीन्द्रनाथ मुखोपाध्याय' था। अपनी बहादुरी से एक बाघ को मार देने के कारण ये 'बाघा जतीन' के नाम से भी प्रसिद्ध हो गये थे। जतीन्द्रनाथ ब्रिटिश शासन के विरुद्ध कार्यकारी दार्शनिक क्रान्तिकारी थे। वे 'युगान्तर पार्टी' के मुख्य नेता थे। उस समय युगान्तर पार्टी बंगाल में क्रान्तिकारियों का प्रमुख संगठन थी।

यह भी पढ़े: PICS: इन अजीबोगरीब घरों को देख आप भी रह जाएंगे हैरान


 सत्यकथा है कि 27 वर्ष की आयु में एक बार जंगल से गुजरते हुए उनकी मुठभेड़ एक बाघ (रॉयल बंगाल टाइगर) से हो गयी। उन्होंने बाघ को अपने हंसिये से मार गिराया था। इस घटना के बाद यतीन्द्रनाथ "बाघा जतीन" नाम से विख्यात हो गए थे।

क्रांतिकारी जीवन
उन्हीं दिनों अंग्रेजों ने बंग-भंग की योजना बनायी। बंगालियों ने इसका विरोध खुल कर किया। यतींद्र नाथ मुखर्जी का नया खून उबलने लगा। उन्होंने साम्राज्यशाही की नौकरी को लात मार कर आन्दोलन की राह पकड़ी। सन् 1910 में एक क्रांतिकारी संगठन में काम करते वक्त यतींद्र नाथ 'हावड़ा षडयंत्र केस' में गिरफ्तार कर लिए गए और उन्हें साल भर की जेल काटनी पड़ी।

जेल से मुक्त होने पर वह 'अनुशीलन समिति' के सक्रिय सदस्य बन गए और 'युगान्तर' का कार्य संभालने लगे। उन्होंने अपने एक लेख में उन्हीं दिनों लिखा था-' पूंजीवाद समाप्त कर श्रेणीहीन समाज की स्थापना क्रांतिकारियों का लक्ष्य है। देसी-विदेशी शोषण से मुक्त कराना और आत्मनिर्णय द्वारा जीवनयापन का अवसर देना हमारी मांग है।' क्रांतिकारियों के पास आन्दोलन के लिए धन जुटाने का प्रमुख साधन डकैती था। दुलरिया नामक स्थान पर भीषण डकैती के दौरान अपने ही दल के एक सहयोगी की गोली से क्रांतिकारी अमृत सरकार घायल हो गए। 
विकट समस्या यह खड़ी हो गयी कि धन लेकर भागें या साथी के प्राणों की रक्षा करें! अमृत सरकार ने जतींद्र नाथ से कहा कि धन लेकर भागो। जतींद्र नाथ इसके लिए तैयार न हुए तो अमृत सरकार ने आदेश दिया- 'मेरा सिर काट कर ले जाओ ताकि अंग्रेज पहचान न सकें।' इन डकैतियों में 'गार्डन रीच' की डकैती बड़ी मशहूर मानी जाती है। इसके नेता यतींद्र नाथ मुखर्जी थे। 


पुलिस से मुठभेड़
1 सितम्बर, 1915  को पुलिस ने जतींद्र नाथ का गुप्त अड्डा 'काली पोक्ष' (कप्तिपोद) ढूंढ़ निकाला। यतींद्र बाबू साथियों के साथ वह जगह छोड़ने ही वाले थे कि राज महन्ती नमक अफसर ने गाँव के लोगों की मदद से उन्हें पकड़ने की कोशश की। बढ़ती भीड़ को तितरबितर करने के लिए यतींद्र नाथ ने गोली चला दी। राज महन्ती वहीं ढेर हो गया। यह समाचार बालासोर के जिला मजिस्ट्रेट किल्वी तक पहुंचा दिया गया। किल्वी दल बल सहित वहाँ आ पहुंचा। यतीश नामक एक क्रांतिकारी बीमार था। जतींद्र उसे अकेला छोड़कर जाने को तैयार नहीं थे। चित्तप्रिय नामक क्रांतिकारी उनके साथ था। दोनों तरफ़ से गोलियाँ चली। चित्तप्रिय वहीं शहीद हो गया। 

वीरेन्द्र तथा मनोरंजन नामक अन्य क्रांतिकारी मोर्चा संभाले हुए थे। इसी बीच यतींद्र नाथ का शरीर गोलियों से छलनी हो चुका था। वह जमीन पर गिर कर 'पानी-पानी' चिल्ला रहे थे। मनोरंजन उन्हें उठा कर नदी की और ले जाने लगा। तभी अंग्रेज अफसर किल्वी ने गोलीबारी बंद करने का आदेश दे दिया। गिरफ्तारी देते वक्त जतींद्र नाथ ने किल्वी से कहा- 'गोली मैं और चित्तप्रिय ही चला रहे थे। बाकी के तीनों साथी बिल्कुल निर्दोष हैं। 'इसके अगले दिन भारत की आज़ादी के इस महान सिपाही ने अस्पताल में सदा के लिए आँखें मूँद लीं।


वीरगति की प्राप्ति
इसी बीच जतीन्द्रनाथ का शरीर भी गोलियों से छलनी हो चुका था। वह ज़मीन पर गिर गये। इस समय उन्हें प्यास लग रही थी और वे पानी मांग रहे थे। उनके साथी मनोरंजन उन्हें उठाकर नदी की और ले जाने लगा, तभी अंग्रेज़ अफ़सर किल्वी ने गोलीबारी बंद करने का आदेश दे दिया। गिरफ़्तारी देते समय जतीन्द्रनाथ मुखर्जी ने किल्वी से कहा- "गोली मैं और चित्तप्रिय ही चला रहे थे। मेरे बाकी के तीनों साथी बिल्कुल निर्दोष हैं।" इसके अगले दिन 10 सितम्बर, 1915 को भारत की आज़ादी के इस महान् सिपाही ने अस्पताल में सदा के लिए आँखें मूँद लीं।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.