loading...
Airtel: ग्राहकों के लिए रोमिंग चार्जेज खत्म करने की तैयारी में POK में मुख्य न्यायाधीश का फरमान, 'अदालती कर्मचारियों का नमाज पढ़ने पर ही बढ़ेगा वेतन' अजहरूद्दीन ने भारतीय टीम को लेकर दिया बड़ा ये बयान, कहा... बेहतर फ्रंट कैमरा से लैस ये हैं टॉप 5 बजट स्मार्टफोन्स, कीमत 7000 रुपये से भी कम, जानिए! ...तो अब ये भूमिका निभाना चाहते हैं विवेक कमजोरी रुख के साथ हुई एशियाई बाजारों की शुरुआत शराबबंदी के बाद महागठबंधन सरकार का पहला बजट आज, बुनकरों के लिए हो सकता है बड़ा ऐलान विजय हजारे ट्राफी में ईडन गार्डन्स पर धोनी ने खेली आकर्षक शतकीय पारी ओलांद ने ट्रंप को बातों-बातों में सुनाई खरी-खोटी फिल्म 'इत्तफाक' में जल्द नजर आएंगी ये जोड़ी अमेजन इंडिया पर माइक्रोमैक्स के हैंडसेट्स पर जबरदस्त ऑफर,जानिए! राज्य में इस्पात संयंत्र की स्थापना के लिए सौर ऊर्जा संयंत्र लगाएगी आर्सेलर-मित्तल व्हाइट हाउस स्थित ओवल ऑफिस में पहली बार ट्रंप से मिले भारतीय राजदूत सरना ISIS में शामिल भारतीय युवक की ड्रोन हमले में मौत 'किक 2' एमी जैक्सन नहीं बल्कि नजर आएंगी ये एक्ट्रेस रिलायंस जियो यूजर ने इस सेवा को समय रहते सब्सक्राइब नहीं किया तो ये होगा! 28 फरवरी को रहेंगी सभी बैंको की हड़ताल अखिलेश ने मोदी पर साधा निशाना- PM कब करेंगे काम की बात चुनाव विशेष: पूर्वांचल को अलग राज्य का दर्जा दिलवाएगी मायावती आज का राशिफल (27 फरवरी 2017,सोमवार)
India, slavery, history, dates, the British, the foundation of the regime, defeated, under, भारत, गुलामी, इतिहास, तारीख, अंग्रेजों, शासन की नींव, पराजित, अधीन
1764: बक्सर का युद्ध हारकर अंग्रेजों के अधीन हो गया था भारत..!

बक्सर। भारत के गुलामी के इतिहास की वो तारीख, जिसने एक तरफ अंग्रेजों के करीब 200 वर्षों के शासन की नींव रखी तो दूसरी तरफ देश को जीतने की सीख भी दी। इसी दिन बक्सर में महज साढ़े तीन घंटे की लड़ाई में पराजित होकर भारत अंग्रेजों के अधीन हो गया था। 


First World War, the stakes, Germany, Economy, released, public, impact, inflation, skyप्रथम विश्व युद्ध, दांव, जर्मनी, अर्थव्यवस्था, जारी, जनता, असर, महंगाई, आसमान
यहाँ खिलौनों के बजाय नोटों की गड्डियों से खेलते थे बच्चे..!

बर्लिन। प्रथम विश्व युद्ध में अपना सबकुछ दांव पर लगा देने के बाद जर्मनी की अर्थव्यवस्था का दम फूल गया था। युद्ध को जारी रखने की कोशिश में पैसा जुटाने के लिए जर्मन सरकार ने हर तरह के दांव आजमाए, नतीजतन इसका सीधा असर जनता की जेब पर पड़ा। 


#Vinayak Damodar Savarkar, #Revolutionary, #India's freedom struggle, #Death 26 February 1966, #विनायक दामोदर सावरकर, #क्रांतिकारी, #भारत की स्वतंत्रता, #संघर्ष, #निधन, #26 फ़रवरी 1966
इतिहास: भारत की स्वतंत्रता के लिए किए गए संघर्षों में महत्वपूर्ण रहा वीर सावरकर का नाम!

नई दिल्ली। विनायक दामोदर सावरकर न सिर्फ़ एक क्रांतिकारी थे बल्कि एक भाषाविद, बुद्धिवादी, कवि, अप्रतिम क्रांतिकारी, दृढ राजनेता, समर्पित समाज सुधारक, 


History, 26 February, Indian History, World History, इतिहास, 26 फ़रवरी, भारतीय इतिहास, विश्व इतिहास
पढ़ें: इतिहास के पन्नों में 26 फ़रवरी का दिन क्यों है खास

नई दिल्ली। भारत और विश्व इतिहास में 26 फ़रवरी की प्रमुख घटनायें इस प्रकार हैं।


#History, #Mnnthu Padmanabhan, #Kerala, #Social reformer, #Nair community, #Death on 25 February 1970, #इतिहास, #मन्नत्तु पद्मनाभन, #केरल, #समाज सुधारक, #नायर समाज, #निधन, #25 फ़रवरी, 1970
इतिहास: केरल के प्रसिद्ध समाज सुधारकों में से एक थे मन्नत्तु पद्मनाभन!

नई दिल्ली। मन्नत्तु पद्मनाभन का जन्म 2 जनवरी, 1878 ई में हुआ था। पद्मनाभन केरल के प्रसिद्ध समाज सुधारकों में से एक थे। घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। कई 


© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.