B' day special: सिमी ग्रेवाल ने मनाया 70वां जन्मदिन, जामनगर के महाराजा से था अफेयर क्यों नहीं आ रहे है ATM से 200 रुपये के नोट? ये रहा जवाब कादर खान ना बोलते ना चलते, तस्वीर वायरल BSF ने सुचेतगढ़ इलाके से पाकिस्तानी घुसपैठिये को किया गिरफ्तार इस शिव मंदिर की मूर्तियों को छूने से डरते है लोग उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच कभी भी हो सकता है परमाणु युद्ध : किम इन यॉन्ग हर महीने लाखों रुपए कमाती है 8 साल की ये लड़की मुख्यमंत्री राजे ने की, अजमेर से अन्नपूर्णा रसोई के दूसरे चरण की शुरुआत बच्चो के ट्विटर पर बने फर्जी अंकाउट को लेकर भड़के सचिन इस अनोखी शादी के बारें में जानकर आप भी रह जाएंगे दंग! Park में खेलते हुए लड़के को मिला दुनिया का दुर्लभ ब्राउन डायमंड B'day special: 47वें जन्मदिन पर कुंबले को नहीं किया कोहली ने विश संतोषी की मां कोईली देवी ने कहा -"मेरी बेटी भूख से मर रही थी और वो आधार मांग रहे थे" अनोखा गांव: यहां पर सिर्फ प्लास्टिक की बोतलों से बने हुए है घर ट्रक ड्राइवर ने 35 ओवर के मैच में 40 छक्के जड़कर बनाया तिहरा शतक पनामा पेपर लीक मामले को सामने लाने वाली पत्रकार की हुई मौत ताजमहल भारतीय मजदूरों के खून-पसीने से बना है: CM योगी 21 और 22 अक्टूबर 2017 को मनाई जाएगी युगावतार बहाउल्लाह के जन्म की 200वी वर्षगांठ विराट-अनुष्का की ये तस्वीर देख थम जाएंगी आप की निगाहे कैदी ने हाथ की नस काटकर जान देने का किया प्रयास
शार्ट मूवीज डायरेक्ट मुद्दे की बात करती हैं : भूमि पेडनेकर
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 01:59:56 AM
1 of 1

अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि लघु फिल्मों की खूबी यह होती है कि ये कम समयावधि में सीधे मुद्दे की बात दिखाती हैं।

भूमि प्रेम और वासना पर आधारित लघु फिल्म में काम कर चुकी हैं, जिसका निर्देशन जोया अख्तर ने किया है।

भूमि ने यह पूछे जाने पर कि क्या वह दर्शकों से जुड़ने के लिए फीचर फिल्मों के मुकाबले लघु फिल्मों को बेहतर मानती हैं तो उन्होंने आईएएनएस को मुंबई से फोन पर बताया, "नहीं, मुझे नहीं लगता कि कोई भी दूसरे से बेहतर काम करता है। संयोग से फीचर फिल्मों के दर्शकों की संख्या ज्यादा है, तो आप स्वत: ही दर्शकों के बड़े समूह से जुड़ जाते हैं।"

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म 'दम लगाके हईशा' (2014) से बॉलीवुड में आगाज करने वाली भूमि का मानना है कि हर कहानी की अपनी खास जगह होती है। 

भूमि (27) के मुताबिक, "हर कहानी को एक निश्चित समयावधि की जरूरत होती है। मुझे लगता है कि हमें कहानी के साथ न्याय करना चाहिए और ेदेखना चाहिए कि यह किस प्रारूप में काम करती है, लेकिन हां, लघु फिल्मों का फायदा यह होता है कि ये कम समय सीमा अवधि की और बात को बिना इधर-उधर घुमाएं सीधे कह देती हैं।"

उन्होंने कहा कि लघु फिल्में ज्यादा प्रभावकारी हैं, लेकिन देश में इन फिल्मों को कम संख्या में दर्शक देखते हैं। हालांकि इंटरनेट के कारण धीरे-धीरे इसमें बदलाव हो रहा है और इसे भी दर्शक मिल रहे हैं।

भूमि फिलहाल अपनी आगामी फिल्म 'ट्वायलेट एक प्रेम कथा' के प्रचार में व्यस्त हैं। इस फिल्म में राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता अक्षय कुमार और दिग्गज अभिनेता अनुपम खेर भी हैं।

अभिनेत्री जल्द ही अपनी आगामी फिल्म 'शुभ मंगल सावधान' में आयुष्मान खुराना के साथ एक बार फिर नजर आएंगी, जिनके साथ वह अपनी पहली फिल्म 'दम लगाके हईशा' में काम कर चुकी हैं।

   



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.