प्रधानमंत्री कौन से धन से चुनाव जीते, यह बताने से कतरा क्यों रहे हैं - गहलोत शिक्षक ने की छात्रा से छेड़खानी 'कहानी 2' के सेट पर विद्या बालन को हो गया था इनसे प्यार सुब्रमण्यम स्वामी को अयोध्या मसले में पक्षकार मानने से मुस्लिम बोर्ड का इन्कार विदेश में नौकरियां आउटसोर्स करने वाली कंपनियों पर 35 फीसदी कर लगाने की ट्रंप ने दी चेतावनी.. राहिल शरीफ बने बहुराष्ट्रीय इस्लामी आतंकवाद विरोधी बल के प्रमुख दक्षिण अफ्रीका ने पहली गोल्फ टेस्ट श्रृंखला में भारत को हराया.. जाधवपुर विश्वविद्यालय के मुख्य छात्रावास में फांसी पर लटका मिला छात्र चंद्रबाबू नायडू की रिश्तेदार दस लाख के पुराने नोटों के साथ पकड़ी गई जर्मन कोच: भारत हाकी विश्व कप में खिताब का प्रबल दावेदार.. महेश भट्ट की बेटी को है यह बीमारी... लूट की योजना बनाते चार गिरफ्तार सम्मेलन में भारत और अफगानिस्तान ने आतंक के मुद्दे पर पाक को घेरा.. सरताज अजीज को स्वर्ण मंदिर मे घुसने से मना किया तीन बार प्यार हुआ, उन्हें बदले में प्यार करने वाली कोई नहीं मिली: करन जौहर जयललिता को पड़ा दिल का दौरा शरीफ हैं ट्रंप से मिलने को इच्छुक, अगले महीने कर सकते हैं अमेरिका यात्रा जेल से पैरोल पर आने के बाद वापस न जाने का आरोपी गिरफ्तार मोदी के बाद अब केजरीवाल भी करेंगे परिवर्तन रैली इंग्लैंड के खिलाफ पहले वनडे से पहले धोनी के लिये कोई मैच नहीं?
Movie review: 'कहानी 2'
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 12:28:39 PM
1 of 1

मुंबई। फिल्म 'कहानी 2' का पहली फिल्म 'कहानी' से कोई मतलब नहीं है, केवल इसके कि इस फिल्म के निर्देशक सुजॉय घोष हैं। मुख्य रोल में विद्या बालन और अर्जुन रामपाल हैं। यह फिल्म एक सस्पेंस थ्रिलर है और फिल्म के प्रति उत्सुकता पैदा करने के लिये ये तीन वजह काफी हैं।

'कहानी' की कहानी 
कहानी है विद्या सिन्हा की जो कोलकाता के पास एक छोटे से शहर चंदनपुर में अपनी बेटी के साथ खुश हाल जीवन बिता रही है। विद्या की बेटी चल फिर नहीं सकती है फिर भी मां-बेटी खुश हैं। मां की केवल यही इच्छा है की उसकी बेटी का इलाज हो जाए और वो एक बार फिर से चलने लगे। अपनी बेटी के इलाज के लिए विद्या उसे अमेरिका ले जाने की तैयारी करती है और तभी एक दिन विद्या की बेटी मिनी का अपहरण हो जाता है। उसी समय विद्या के साथ दुर्घटना हो जाती है और वो कोमा में चली जाती है।
इसके बाद एंट्री होती है सब इंस्पेक्टर इंद्रजीत सिंह। इसके बाद शुरू होता है विद्या सिन्हा और दुर्गा रानी सिंह के बीच का खुलासा। राज खुलते है और आखिरकार मां अपनी बेटी से मिल पाती है या नहीं ये आपको मूवी देखने के बाद पता चलेगा।

स्क्रीनप्ले 
फिल्म की शुरुआत बेहद मजेदार तरीके से शुरू होती है और इंटरवल तक कहानी आपको बांध कर रखने में कामयाब होती है। लेकिन इंटरवल के बाद कहानी की रफ्तार थोड़ी धीमी हो जाती है।

कमजोर कड़ी 
लेखक सुजॉय घोष और सुरेश नायर का क्लाइमेक्स थोड़ा सा बोझिल है। ये एक सस्पेंस थ्रिलर है इसलिए फिल्म के बारे में ज्यादा बताना गलत होगा लेकिन पहली 'कहानी' की तुलना में 'कहानी 2' का क्लाइमेक्स थोड़ा कमजोर और फिल्मी लगता है।

अभिनय 
अभिनय के मामले में विद्या बालन 'कहानी 2' की जान हैं। हर एक सीन उन्होंने बखूबी निभाया है और कुछ जगहों पर वो यकीन दिला देती हैं कि वो अदाकारा नहीं बल्कि दुर्गा रानी सिंह हैं। अर्जुन रामपाल ने भी बेहद नेचुरल काम किया है और विद्या को अच्छा सहारा दिया है। जुगल हंसराज और बाकी सभी कलाकार अपने किरदारों में फिट रहे हैं।

फिल्म की मजबूत कड़ी 
पतन बसु की सिनेमेटोग्राफी, सुब्रता बारीक का प्रोडक्शन डिजाइन और बैकग्राउंड म्यूजिक लाजवाब है। निर्देशक सुजॉय घोष एक बार फिर कोलकाता और केलिंगपॉंग को कहानी में किरदार बनाने में सफल होते हैं। कुल मिलाकर 'कहानी 2' पहली 'कहानी' के मुकाबले थोड़ी कम है लेकिन फिर भी अपनी छाप छोड़ने में कामयाब होती है।

यह भी पढ़े: VIDEO: जब बीच सड़क पर गाने पर अचानक ही ये लड़का-लड़की करने लगे DANCE!

यह भी पढ़े : रोज-रोज होता था पेट दर्द, चेक करवाया तो निकला कंडोम, डाक्टर भी चौंक गये

यह भी पढ़े: फूड आइटम की बिक्री दुगनी हो जाती है जब ये मॉडल छोटे कपडे पहन कर करती है दुकानदारी..!

यह भी पढ़े: चमत्कारी पहाड़ ! आज भी खुद ब खुद ऊपर की और चलने लगती है गाड़िया ... छुपी है रहस्यमहि ताकत

 

 



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.