loading...
loading...
loading...
भारत में क्रिकेट खेल साथ साथ धर्म भी प्रशासन की सख्ती के बावजूद फिर अवैध रूप से गर्भपात संकल्प कैंप में बच्चों को गुरुबाणी, गुरु इतिहास और रहित मर्यादा बारे जानकारी दी पेय पदार्थ के नाम पर दुकानदार परोस रहे है जहर भारत और विश्व के इतिहास में 27 जून की प्रमुख घटनाएं रेशा देवी ने कहा- युवाओं को नशे से दूर करने के लिए धर्म के साथ जोड़े दार्जिलिंग: भारी बारिश और बंद के माहौल में मुस्लिमो ने मनाया ईद-उल-फितर रमन शर्मा ने कहा- अापातकाल देश के इतिहास में काला दिन खाना खजाना प्रतियोगिता में महिलाओं ने दिखाया उत्साह कंडबाड़ी में NGO परिवर्तन द्वारा स्वास्थ्य शिविर का आयोजन बालड़ी रक्षक योजना ने तोडा दम स्वास्थ्य को लेकर महिलाओं का उदासीन रवैया इफ्तार पार्टी है नौटंकी, इसकी हमे क्या जरूरत: गिरिराज सिंह 2018 से बदल सकता है वित्त वर्ष, इस साल नवंबर में पेश हो सकता है बजट WWC 2017: ऑस्ट्रेलिया का विजयी आगाज, इंडीज को दी 8 विकेट से शिकस्त दिल्ली के नामी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी के वेयर हाउस में 37 लाख रुपये की लूट 3 जुलाई को भोपाल में होगा ग्लोबल स्किल पार्क का शिलान्यास: चौहान मोदी के सपोर्ट में न्यूड होने वाली हॉट एक्ट्रेस ने थामा एनसीपी का दामन बैंक मैनेजर पिता 6 माह से कर रहा था अपनी बेटी के साथ ऐसा शर्मनाक काम ... भोपाल में पंचायती राज मंत्रियों का सम्मेलन 27 जून को होगा आयोजित
Movie review: 'कहानी 2'
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 12:28:39 PM
1 of 1

मुंबई। फिल्म 'कहानी 2' का पहली फिल्म 'कहानी' से कोई मतलब नहीं है, केवल इसके कि इस फिल्म के निर्देशक सुजॉय घोष हैं। मुख्य रोल में विद्या बालन और अर्जुन रामपाल हैं। यह फिल्म एक सस्पेंस थ्रिलर है और फिल्म के प्रति उत्सुकता पैदा करने के लिये ये तीन वजह काफी हैं।

'कहानी' की कहानी 
कहानी है विद्या सिन्हा की जो कोलकाता के पास एक छोटे से शहर चंदनपुर में अपनी बेटी के साथ खुश हाल जीवन बिता रही है। विद्या की बेटी चल फिर नहीं सकती है फिर भी मां-बेटी खुश हैं। मां की केवल यही इच्छा है की उसकी बेटी का इलाज हो जाए और वो एक बार फिर से चलने लगे। अपनी बेटी के इलाज के लिए विद्या उसे अमेरिका ले जाने की तैयारी करती है और तभी एक दिन विद्या की बेटी मिनी का अपहरण हो जाता है। उसी समय विद्या के साथ दुर्घटना हो जाती है और वो कोमा में चली जाती है।
इसके बाद एंट्री होती है सब इंस्पेक्टर इंद्रजीत सिंह। इसके बाद शुरू होता है विद्या सिन्हा और दुर्गा रानी सिंह के बीच का खुलासा। राज खुलते है और आखिरकार मां अपनी बेटी से मिल पाती है या नहीं ये आपको मूवी देखने के बाद पता चलेगा।

स्क्रीनप्ले 
फिल्म की शुरुआत बेहद मजेदार तरीके से शुरू होती है और इंटरवल तक कहानी आपको बांध कर रखने में कामयाब होती है। लेकिन इंटरवल के बाद कहानी की रफ्तार थोड़ी धीमी हो जाती है।

कमजोर कड़ी 
लेखक सुजॉय घोष और सुरेश नायर का क्लाइमेक्स थोड़ा सा बोझिल है। ये एक सस्पेंस थ्रिलर है इसलिए फिल्म के बारे में ज्यादा बताना गलत होगा लेकिन पहली 'कहानी' की तुलना में 'कहानी 2' का क्लाइमेक्स थोड़ा कमजोर और फिल्मी लगता है।

अभिनय 
अभिनय के मामले में विद्या बालन 'कहानी 2' की जान हैं। हर एक सीन उन्होंने बखूबी निभाया है और कुछ जगहों पर वो यकीन दिला देती हैं कि वो अदाकारा नहीं बल्कि दुर्गा रानी सिंह हैं। अर्जुन रामपाल ने भी बेहद नेचुरल काम किया है और विद्या को अच्छा सहारा दिया है। जुगल हंसराज और बाकी सभी कलाकार अपने किरदारों में फिट रहे हैं।

फिल्म की मजबूत कड़ी 
पतन बसु की सिनेमेटोग्राफी, सुब्रता बारीक का प्रोडक्शन डिजाइन और बैकग्राउंड म्यूजिक लाजवाब है। निर्देशक सुजॉय घोष एक बार फिर कोलकाता और केलिंगपॉंग को कहानी में किरदार बनाने में सफल होते हैं। कुल मिलाकर 'कहानी 2' पहली 'कहानी' के मुकाबले थोड़ी कम है लेकिन फिर भी अपनी छाप छोड़ने में कामयाब होती है।

यह भी पढ़े: VIDEO: जब बीच सड़क पर गाने पर अचानक ही ये लड़का-लड़की करने लगे DANCE!

यह भी पढ़े : रोज-रोज होता था पेट दर्द, चेक करवाया तो निकला कंडोम, डाक्टर भी चौंक गये

यह भी पढ़े: फूड आइटम की बिक्री दुगनी हो जाती है जब ये मॉडल छोटे कपडे पहन कर करती है दुकानदारी..!

यह भी पढ़े: चमत्कारी पहाड़ ! आज भी खुद ब खुद ऊपर की और चलने लगती है गाड़िया ... छुपी है रहस्यमहि ताकत

 

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.