बिना आधार के शराब लेना अब हुआ मुश्किल, जानिए क्या है नए बदलाव युवराज की वापसी पर मां शबनम ने किया ये खुलासा राहुल गाॅधी ने अमेरिका से मोदी सरकार पर साधा निशाना पाक कोर्ट ने वित्त मंत्री इशाक डार का किया गिरफ्तारी वारंट जारी वीडियो : मेक्सिकों मे 7.1 तीव्रता के भूकंप से तबाही, मरने वाले की संख्या 234 के पार वीडियो: अगर बिहार पुलिस से करी बहस तो चमड़ी उतारकर जूते बनवा देगी नवादा शहर के डीएम ने की संयुक्त बैठक, दिया अलर्ट रहने का आदेश हाईकोर्ट ने ममता को लगाई फटकार, कहा - हिन्दू-मुस्लिमों में दरार पैदा ना करे विपासना के जवाब से संतुष्ट नही है एसआईटी... यूपी में 12 साल की लड़की से दो युवकों ने किया दुष्कर्म प्रद्युम्न मर्डर केस : पिंटो परिवार की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कहलगांव में टूटा करोड़ो रुपए से बना बांध, आज होना था उद्घाटन यहां पर बन्दर की शक्ल लिए सूअर के बच्चे ने लिया जन्म पाक क्रिकेटर खालिद पर 5 साल का बैन और 10 लाख रुपये का जुर्माना पाकिस्तान वित्तमंत्री के खिलाफ जारी हुआ अरेस्ट वारंट यहां हर साल प्रेमी युगल की याद में आयोजित होता है गोटमार मेला श्रीलंका टीम को वेस्टइंडीज ने दिया 2019 वर्ल्ड कप में सीधी एंट्री का मौका केंद्र सरकार का रेलवे कर्मचारियों को तोहफा, मिलेगा 78 दिन का बोनस यूएन में गूंजा मोदी का नाम, कहा - असीमित संभावनाओं को देखते है मोदी मिसाल: मालिक को लौटा दिए 45 लाख रुपए के हीरे
फ़िल्म रिव्यू: लूटपाट के चक्कर में फसीं कंगना की फ़िल्म 'सिमरन'
sanjeevnitoday.com | Friday, September 15, 2017 | 07:28:23 PM
1 of 1

नई दिल्ली। राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित निर्देशक हंसल मेहता और ढेर सारे अवॉर्ड्स और सम्मानों से सुशोभित कंगना की फ़िल्म 'सिमरन' को लेकर लोगो में बहुत उत्साह देखा जा रहा था। लेकिन क्वीन जैसा कैरेक्टर गढ़ने की कोशिश में इस फिल्म की कहानी पूरी तरह धराशायी हो गयी।

एक आजादख्याल लड़की जिसे अपनी शर्तो पर जीना पसंद है, दुनिया को अपने नजरिये से जानना पसंद है। इस किरदार से दर्शक कंगना की ही क्वीन के साथ कई और फिल्मों में भी रूबरू हो चुके हैं। ऐसे में बगैर किसी कसी पटकथा और उदेश्य के साथ ऐसे किरदार को भूनाने की कोशिश हंसल और कंगना की साख को एक कदम पीछे ही ले जाती है। 

यह कहानी है प्रफुल्ल पटेल की जो अमेरिका में रहती है। सीधी-सादी दिखने वाली यह लड़की संयोग से लास वेगास के एक जुए खाने में पहुंचती है और बहुत सारा पैसा जीत जाती है। मगर इसके बाद प्रफुल्ल को जुए खेलने की लत पड़ जाती है और वह लगातार हारती चली जाती है। ऐसे में एक प्राइवेट लैंडर उसे पैसे देता है और प्रफुल्ल वह पैसा भी नशे में हार जाती है। अब चक्कर शुरू होता है पैसे वसूली का। जब पैसे देने वाला गुंडा प्रफुल्ल की जान लेने पर उतारू हो जाता है।

निम्न मध्यम वर्ग की प्रफुल्ल पच्चास हज़ार डॉलर की बड़ी रकम कहां से चुकाएगी? उसके पिता किसी कारणवश पैसे देने से मना कर देते हैं। अब सिमरन के पास कोई चारा नहीं है। ऐसे में वो एफबीआई और सीआईए के जाल से घिरे अमेरिका में लूटपाट शुरु कर देती है और अंततः पकड़ी जाती है। यही कहानी है 'सिमरन' की।

यह भी पढ़े: शूटिंग के लिए हैदराबाद पहुंचीं श्रद्धा कपूर, प्रभास रख रहे है खास ध्यान

राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित कंगना रनौत और हंसल मेहता की यह फ़िल्म अत्यंत साधारण फ़िल्म है! फ़िल्म शुरू होने के कुछ समय तक तो आपको समझ ही नहीं आता कि आखिर हो क्या रहा है? लेकिन, आप उसके साथ आनंद ले पाते हैं। फिल्म पहले हाफ में बोरियत के साथ थोड़ी क्युरिसिटी जगाती जरूर है पर दूसरे हाफ में पूरी तरह बिखर कर रह जाती है।

शाहिद, सिटीलाइट और अलीगढ़ जैसी फिल्मों के निर्देशक हंसल मेहता और कंगना ने क्या सोचकर इस कहानी को अपनी फिल्म को विषय चुना ये समझ से परे है। कंगना की अदाकारी के अलावा अनुज राकेश धवन की सिनेमेटोग्राफी ही है जो फिल्म में कुछ देखने लायक बातें जोड़ पाती है। वरना पिछले कुछ हफ्तों से फिल्म के प्रमोशन के लिए खबरों की दुनिया में निजी जिंदगी के चर्चे उछालते कंगना के फंडे भी शायद ही फिल्म का बेड़ा पार कर पाएं। 

तकनीकि पहलू की बात करें तो फ़िल्म की सिनेमेटोग्राफी तो शानदार है लेकिन, एडिटिंग बहुत ही कमजोर है। स्टोरी और स्क्रीनप्ले पर बिल्कुल भी मेहनत नहीं की गई है। फ़िल्म का संगीत साधारण है। यह कहा जा सकता है कि राष्ट्रीय अवार्ड से सम्मानित हंसल मेहता का निर्देशन इस बार कमजोर पड़ गया।

यह भी पढ़े: वरुण ने शर्टलेस तो तापसी ने की बिकनी में फोटो शेयर, हुए ट्रोल के शिकार

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

 

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.