अक्सर-2 को जरीन खान ने बताया अश्लील, कहा- मुझसे छोटे कपड़े पहनने के आलावा करवाये ऐसे काम नॉर्थ कोरिया में महिला सैनिकों की आपबीती- रेप होना आम बात हमेशा पीएम मोदी के साथ क्यों रहती है ये महिला, जानिए पूरी सच्चाई... जिम्बाब्वे: मुगाबे के इस्तीफा देने के बाद राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे एमर्सन नांगाग्वा राष्ट्रपति पुतिन के खिलाफ चुनाव में उतरी ये 'पोर्न स्टार' सावधान! 2018 में भयानक भूकंप से पूरी दुनिया में मच सकती है तबाही कानपुर-मेरठ में EVM गड़बड़ी का आरोप लगाकर बसपा कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा चुनावी मौसम में गुजरात की सियासत में आया उबाल, कांग्रेस दिलाएगी गुजरात के पाटीदारों को आरक्षण फ्लाइट में देरी के कारण केंद्रीय मंत्री केजे अल्फोंस पर फूटा महिला का गुस्सा, कहा... बिस्कुट खाना है पसंद तो घर ही बनाइये ओरियो आइस क्रीम शेक सचिन का रिकॉर्ड तोड़ सकता है विराट कोहली: शोएब अख्तर दुनिया की सबसे तेज़ सुपरसोनिक मिसाइल "ब्रह्मोस" स्वर्ण पदक विजेता हॉकी खिलाड़ी वंदना को गृह क्षेत्र में किया सम्मान दुर्घटनाग्रस्त C2-A विमान: अब तक 8 लोगो को बचाया सुरक्षित, सर्च अभियान अभी भी जारी हॉन्ग कॉन्ग ओपन: साइना, पीवी सिंधु और प्रणय दूसरे दौर में पहुंचे रेसिपी: इस प्रकार बनाएं स्वादिष्ट पनीर ब्रेड रोल समय पर कर्ज नहीं चुका पाया तो साहूकार ने बरसाई चप्प्ल विराट को प्रपोज करने वाली इंग्लैंड महिला क्रिकेटर ने T-20 में बनाया वर्ल्डरिकॉर्ड दिमाग को हैल्दी बनाने के लिए चॉकलेट का करें सेवन VIDEO : फ्लाइट लेट होने पर महिला का फूटा ग़ुस्सा, मंत्री को लगाई फटकार
हिंदी के प्रख्यात कवि कुंवर नारायण का 90 साल की उम्र में हुआ निधन
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 15, 2017 | 02:25:25 PM
1 of 1

नई दिल्ली। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित हिंदी के प्रख्यात कवि कुंवर नारायण का 90 साल की उम्र में आज बुधवार को निधन हो गया। कवि कुंवर नारायण को लंबी बीमारी के कारण निधन हो गया। श्री नारायण करीब एक महीने से एक निजी अस्पताल में भर्ती थे और अचेतावस्था में थे। कुंवर नारायण की मूल विधा कविता रही है लेकिन इसके साथ ही उन्होंने कहानी, लेख व समीक्षाओं के साथ-साथ सिनेमा, रंगमंच में भी मुख्य योगदान दिया। उनकी कविताओं-कहानियों का कई भारतीय तथा विदेशी भाषाओं में अनुवाद भी हो चुका है। 2005 में कुंवर नारायण को साहित्य जगत के सर्वोच्च सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 

 

 

कुंवर नारायण का जन्म 19 सितंबर 1927 को हुआ था। कुंवर नारायण ने लखनऊ यूनिवर्सिटी से इंग्लिश लिटरेचर में पोस्ट ग्रेजुएशन किया और अपने पुश्तैनी ऑटोमोबाइल के बिजनेस में घरवालों के साथ शामिल हो गए थे। कुंवर नारायण कविता के साथ कहानी, लेख, समीक्षा, रंगमंच पर लिखते रहे हैं। वो 6 दशक से साहित्यिक लेखन कर रहे हैं। 

यह भी पढ़े: वीडियो: छात्रा ने आत्महत्या के प्रयास से तालाब में लगाई झलांग फोटो

राजनैतिक विवाद से हमेशा दूरी बनाए रखने वाले कुंवर को 41वां ज्ञानपीठ पुरस्कार मिला था। साल 1995 में उन्हें साहित्य अकादमी और साल 2009 में उन्हें पद्म भूषण अवार्ड मिला था। कवि कुंवर नारायण वर्तमान में दिल्ली के सीआर पार्क इलाके में पत्नी और बेटे के साथ रहते थे। उनकी पहली किताब 'चक्रव्यूह' साल 1956 में आई थी। साल 1995 में उन्हें साहित्य अकादमी और साल 2009 में उन्हें पद्म भूषण सम्मान भी मिला था। वह आचार्य कृपलानी, आचार्य नरेंद्र देव और सत्यजीत रे काफी प्रभावित रहे। 

यह भी पढ़े: गोरखपुर में अलगटपुर बांध टूटने से 4 जिलों में घुसा पानी देखिए VIDEO

कवि कुंवर नारायण ने लखनऊ यूनिवर्सिटी से इंग्लिश लिटरेचर में पोस्ट ग्रेजुएट किया था। पढ़ाई के तुरंत बाद उन्होंने ऑटोमोबाइल बिजनेस में काम करना शुरू कर दिया था, जो उनका पुश्तैनी बिजनेस था। बाद में उनकी रूचि लेखन की ओर हुआ और उन्होंने इसमें नया मुकाम हासिल किया। चक्रव्यूह के अलावा उनकी प्रमुख कृतियों में तीसरा सप्तक- 1959, परिवेश: हम-तुम- 1961, आत्मजयी- प्रबंध काव्य- 1965, आकारों के आसपास- 1971, अपने सामने- 1979 शामिल हैं। 

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे ! 

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.