loading...
loading...
loading...
'ट्यूबलाइट' से उम्मीदे जताते हुए सलमान ने कहा-इससे हमें बहुत सम्मान मिलने वाला है ट्रम्प को 'सच्चे दोस्त' का इंतजार हुआ ख़त्म, वाशिंगटन पहुंचे PM मोदी Infosys के चेयरमैन शेषासायी अगले साल होंगे रिटायर पहला टेस्ट मैच भारत से खेलना चाहता है अफगानिस्तान चलती ट्रेन में सीट को लेकर हुआ विवाद, युवक की हत्या कौन था आंनदपाल ? कैसे अपराध की दुनिया का बना बादशाह पढ़िए पूरी खबर ट्रंप ने मोदी को अपना सच्चा मित्र बताते हुए कहा- इस मुलाकात को लेकर काफी उत्साहित हैं कार की टक्कर से बाइक सवार की मौत Breaking : चूरू के मालासर में एनकाउंटर में मारा गया आनंदपाल, दो साथी गिरफ्तार रिपोर्ट: चीन में आए भूस्खलन में 15 की मौत, 121 लापता कैटरीना की सोशल मीडिया एक्टिविटी पर नजर रखते हैं रणबीर कपूर बोपन्ना हारकर बाहर, सानिया मिर्जा सेमीफाइनल में युवक ने चोरी कर चिट्ठी में लिखा, यह मेरे और अल्लाह के बीच का मामला वर्ष 2001 के बाद से अफगानिस्तान में इस साल का रमजान सबसे घातक आलिया के साथ काम करने के लिए काफी उत्साहित है ये अभिनेता डीएसपी हत्या मामला: अब तक 5 की गिरफ्तारी, जांच के लिए SIT का गठन भारत-पुर्तगाल के बीच 11 समझौतों पर PM मोदी ने किए हस्ताक्षर स्वराज ने किया ट्वीट कहा - कतर में भारतीयों की सुरक्षा के लिए उठाएंगे कदम पहला ऐसा मंत्री जिसे ठहराया गया अयोग्य: चुनाव आयोग शाहरुख़ से मिलने के लिए 'मन्नत' के बाहर लगी कई सेजलों की लम्बी लाइन
बड़ी बात: आंखें मूंदे रखना शायद संभव न हो
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 02:56:15 PM
1 of 1

ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के संगठन ब्रिक्स के गोवा सम्मेलन में भारत ने एक बार फि र आतंकवाद के मुद्दे पर एकजुटता दिखाने पर जोर दिया। यह सम्मेलन इसलिए भी उल्लेखनीय रहा कि इसमें चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के सामने पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद के मसले पर दो पड़ोसी देशों का रुख अलग-अलग नहीं होना चाहिए। सम्मेलन में हिस्सा लेने आए रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन ने पाक अधिकृत कश्मीर में भारत की सर्जिकल स्ट्राइक को उचित ठहराया। पिछले महीने कश्मीर के उड़ी में सैन्य शिविर पर हुए आतंकी हमले के बाद भारत लगातार पाकिस्तान को अलग-थलग करने की कोशिश कर रहा है। मगर चीन का रुख पाकिस्तान की तरफ  मुलायम बना हुआ है। 

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

ऐसे में ब्रिक्स के मंच से चीन के सामने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर प्रधानमंत्री मोदी का कहना कि आतंकवाद दुनिया में शांति और तरक्की के रास्ते में बहुत बड़ा रोड़ा है, साफ-साफ चीन को इस मामले में अपना रुख बदलने पर विचार के लिए उकसाना था। हालांकि चीनी राष्ट्रपति ने आतंकवाद को लेकर भारत के रुख पर सहमति जताई, मगर उन्होंने पाकिस्तान के प्रति अपना रवैया बदलने का कोई संकेत नहीं दिया। जाहिर है, पाकिस्तान के साथ चीन के अपने राजनीतिक, सामरिक और व्यापारिक स्वार्थ जुड़े हैं और वह उस पर फि लहाल अपना रुख बदलने को तैयार नहीं है। उधर रूस के साथ भारत के ऊर्जा, प्रतिरक्षा और आधारभूत संरचना के क्षेत्र में विकास को लेकर हुए समझौते न सिर्फ  दोनों देशों के रिश्तों में मजबूती का संकेत हैं, बल्कि इससे चीन को स्पष्ट संकेत मिला है कि भारत पर उसके दबाव की कोशिश बहुत कारगर नहीं रहने वाली है।

ब्रिक्स सम्मेलन के दौरान बंगाल की खाड़ी के आसपास के देशों- बांग्लादेश, भूटान, म्यामां, नेपाल, श्रीलंका और थाईलैंड यानी बिम्सटेक के नेताओं ने भी ब्रिक्स नेताओं से मुलाकात की। इसमें स्पष्ट संकेत दिया गया कि ये देश मिल कर व्यापार, वाणिज्य, शांति और आतंकवाद से लडऩे की दिशा में आपसी सहयोग बढ़ाएंगे। यह पाकिस्तान को अलग-थलग करने की दिशा में एक और बड़ा कदम साबित हो सकता है। सार्क सम्मेलन रद्द होने के बाद यह नया मोर्चा मजबूत होने से पाकिस्तान अपने पड़ोस में कमजोर होगा। पाकिस्तान को लेकर चीन के नरम रुख की वजहें साफ  हैं। उसने पाकिस्तान में अपने परमाणु रिएक्टर लगा रखे हैं और वह दक्षिण एशिया में इसका बाजार बढ़ाना चाहता है। इसके अलावा पाकिस्तान में अपनी उपस्थिति बना कर वह भारत सीमा विवाद को भी उलझाए रखना चाहता है। 

अमेरिका से भारत की नजदीकी भी उसे रास नहीं आ रही। फि र आतंकवाद को लेकर उसका दृष्टिकोण भारत और अमेरिका से भिन्न है, इसलिए भी वह पाकिस्तान को दोषी मानने से बचता है। ऐसे में रूस के साथ भारत के रिश्ते और मजबूत होने से भारत को अपनी ऊर्जा और प्रतिरक्षा संबंधी जरूरतों के लिए चीन की तरफ  नहीं देखना पड़ेगा। मगर चीन के लिए भारत एक बड़ा बाजार है और वह इससे अपने व्यापारिक रिश्ते कभी खत्म नहीं करना चाहेगा, इसलिए उसने व्यापारिक रिश्तों को और मजबूत बनाने की बात कही है। फि लहाल भारत ने दुनिया भर में आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को घेरने का अभियान चला रखा है, दुनिया के ज्यादातर देश उसके साथ हैं। ऐसे में चीन को बहुत देर तक पाकिस्तान में पल रहे आतंकवाद के प्रति अपनी आंखें मूंदे रखना शायद संभव न हो।

यह भी पढ़े...बड़ी बात: चौकस और सतर्क रहना होगा

यह भी पढ़े...बड़ी बात: लोकतांत्रिक अर्थ में विचार-विमर्श हो 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.