राशिफल : 19 अक्टूबर : कैसा रहेगा आपके लिए गुरुवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें दिवाली: लक्ष्मी पूजन के बाद घर में शंख तथा घंटी को बजाना होता है शुभ देश और दुनिया के इतिहास में 19 अक्टूबर की महत्वपूर्ण घटनाएं शाम होते ही एक लाख 71 हजार दीयों से जगमगा उठेगा अयोध्या दीपावली पर लक्ष्मी पूजन करने की संपूर्ण विधि दिवाली स्पेशल: मां लक्ष्मी की कृपा बनाये रखने के लिए घर में होनी चाहिए ये 5 चीजें दीपावली शुभ मुहूर्त: शाम सवा सात बजे से सवा नौ बजे तक दीपावली पर्व: आपातकाल की स्थिति से निपटने के लिए स्वास्थ्य महकमा अलर्ट ये बेहतरीन और आसान रंगोली डिजाइन कर सकते हैं आपकी दिवाली को रंगीन दीपावली विशेष : जानिए, मां लक्ष्मी और गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त दीपावली विशेष : क्या आपको पता है दीवाली शब्द की उत्पति कहा से हुई है ? हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और बीजेपी ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट उपराष्ट्रपति की जयपुर यात्रा की तैयारियों को लेकर हुई उच्च स्तरीय बैठक टीम इंडिया ने ऐसे मनाया पांड्या का बर्थडे, वीडियो देख कर हंसी के मारे हो जाओगे लोट पॉट आज बाजार का हीरो रहा रिलायंस इंडस्ट्रीज, निवेशकों ने कमाए 27000 करोड़ ... SBI ने पेश किया दिवाली ऑफर, मुफ्त में दे रहा है Mi Max 2 दिवाली से एक दिन पहले सोने की कीमतों में 290 रुपए की हुई बढ़ोतरी अयोध्या में 2019 तक राम मंदिर बनने के योगी आदित्यनाथ ने दिए संकेत युवराज सिंह पर उनकी भाभी ने लगाया घरेलू हिंसा का आरोप, कराया केस दर्ज यहां दहकते हुए अंगारों पर चलकर भक्तों ने किए माता के दर्शन
पोक्सो अधिनियम के तहत बच्चों के चार अधिकार निर्धारित
sanjeevnitoday.com | Friday, August 11, 2017 | 03:38:05 PM
1 of 1

नई दिल्ली। किशोर न्याय अधिनियम 2015 एवं पोक्सो अधिनियम 2012 पर समाहरणालय सभागार में गुरुवार को कार्यशाला हुई। मौके पर राज्य संसाधनसेवी सह प्रशिक्षक पीआर सेनगुप्ता ने दोनों अधिनियमों के बारे में पुलिस पदाधिकारियों को विस्तार से जानकारी दी। 


इससे पूर्व एसपी हरिलाल चौहान, एसी अनिल तिर्की, एसडीओ सौरव कुमार व एसडीपीओ अभिषेक कुमार ने संयुक्त रूप से दीप जलाकर कार्यशाला का शुभारंभ किया। बच्चों के चार अधिकार निर्धारित: कार्यशाला में उपस्थित राज्य संसाधनसेवी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र अधिवेशन (यूएनसीआरसी, 1989) में बच्चों के अधिकार निर्धारित किया गया। इसे भारत ने लगभग तीन साल बाद लागू किया। 

PICS: एक ऐसा किला जिसके बारें में जानकर आप भी रह जाएंगे दंग


बच्चों को चार अधिकार निर्धारित किया गया है। इनमें जीने का अधिकार, विकास का अधिकार, सुरक्षा का अधिकार व सहभागिता का अधिकार शामिल है। उन्होंने बच्चों से जुड़े मामलों में पूरी सावधानी बरतने को कहा। उन्होंने कहा कि बच्चों को बाल मित्र कक्ष में ले जाकर आराम से पूछताछ करनी है। उन पर लगे आरोपों की जानकारी उन्हें देनी है। 


तीन श्रेणियों के अपराध: सेनगुप्ता ने बताया कि अपराध को तीन श्रेणियों में विभाजित किया गया है। पहला जिनमें तीन साल तक के सजा का प्रावधान हो सामान्य अपराध कहलाता है। तीन से सात साल की सजा गंभीर अपराध की श्रेणी में आता है। सात साल से अधिक की सजा को जघन्य अपराध कहा जाता है। उन्होंने पुलिस पदाधिकारी को किन बातों पर ध्यान रखना चाहिए उसके संदर्भ में भी विस्तार से बताया। कहा कि अपराध अगर नाबालिग बच्ची से हुआ है, तो पूछताछ के दौरान महिला बाल कल्याण पदाधिकारी की उपस्थिति अनिवार्य है। बच्चे को अपनी बात रखने का पूरा समय देना है। अगर बच्चा स्थानीय भाषा नहीं जानता तो उस भाषा को जाननेवाले की व्यवस्था करनी है। मौके पर बाल कल्याण विभाग के पदाधिकारी समेत सभी थानों के पुलिस अधिकारी, एसडीपीओ महागामा आरके मित्रा आदि उपस्थित थे।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.