loading...
नवाजुद्दीन ने कराया अपना 'DNA टेस्ट', धर्म के नाम पर राजनीति करने वालों को दिया करारा जवाब IPL-10: 250 रुपए का क्रिकेट सट्टा हार गया तो नाबालिग ने बेरहमी से किया दोस्त का कत्ल पशु तस्करी मामले में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पेश की रिपोर्ट, UID नंबर जारी करने कि सिफारिश रेलवे की नई पहल 'उदय एक्सप्रेस', साधारण किराए पर लग्जरी जैसा सफर! क्रिकेट: क्रिकेट इतिहास में पहली बार बना ये शर्मनाक रिकार्ड, चीन की टीम महज 28 रन पर हुई ऑलआउट राज्य सरकार जल्द लागु करेंगी सभी विभागों में फाइल मॉनिटरिंग सिस्टम आज भारत में LG G6 स्मार्टफोन होगा लॉन्च, जानिए खासियत... ये कंपनी दे रही है 80 पैसे में 1 जीबी डाटा, जानिए... MCD चुनाव के एग्जिट पोल को देख घबराए केजरीवाल Video: देखिए, कैसे हुई बाहुबली-2 की शूटिंग और सेट डिज़ाइन? जुलाई से शुरू होगी डबल डेकर AC ट्रेन जयललिता के कोडनडु टी एस्टेट में चौकीदार की हुई हत्या रिपोर्ट: एयरटेल ने 4जी एलटीई OpenSignal के मामले में रिलायंस जियो को पछाड़ ऑटो चालक के बेटे को Free में मिला जस्टिन बीबर के कॉन्सर्ट का गोल्डन टिकट चुनाव आयोग ने केंद्र सरकार को लिखी चिट्ठी, कहा- चुनाव मेें रिश्वत देने वालों को किया जाए अमान्य घोषित Kawasaki ने भारत में Z250 का 2017 का वर्जन किया लॉन्च,जाने कीमत Video: देखिए, सलमान और माधुरी की अनदेखी तस्वीरें! Airtel लाया अपने यूजर्स के लिए दो शानदार ऑफर Video: देखिए, आखिर कौन था संजय लीला भंसाली की इस फिल्म की पहली पसंद? इतिहास गवाह है, जिसकी सुरक्षा कम की गई है, उसकी हत्या हो गई है: आजम
फाइनेंस नहीं चुकाने और चेक बाउंस का आरोप : दो लाख 89 हजार का जुर्माना, तीन माह कैद की सजा
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 08:56:40 PM
1 of 1

छतरपुर। न्यायिक अधिकारी प्रथम श्रेणी सदाशिव दांगौड़े की अदालत ने मंगलवार को धोखाधड़ी करने वाले एक आरोपी को दोषी करार देते हुए आरोपी के ऊपर दो लाख 89 हजार 605 रुपये का जुर्माना लगाकर तीन माह की कैद की सजा दी है।

एडवोकेट लखन राजपूत ने बताया...
महेन्द्रा एण्ड महेन्द्रा फाइनेंशियल सर्विसेस लिमिटेड शाखा छतरपुर के मैनेजर जीतेन्द्र मिश्रा ने कोर्ट में एक मामला पेश किया था, कि 21 अप्रैल 2016 को गणपत पुत्र मुन्ना सिंह निवासी कर्रा ने तीन लाख 15 हजार रुपए का फाइनेंस लिया था। इसने फाइनेंस ट्रैक्टर लेने के लिए कराया था। इस ऋण राशि का भुगतान गणपत को किस्तों में अदा करना था। गणपत से किश्ते निर्धारित समय पर नहीं दी  गयी। तब गणपत ने एक लाख 74 हजार 661 रुपए चुकाने के लिए चैक दिया। गणपत के खाते में पर्याप्त धनराशि न होने पर बैंक ने चैक को बाउंस कर दिया। नोटिस देने पर भी गणपत ने राशि का भुगतान नहीं किया।

अदालत ने आरोपी गणपत को आइपीसी की धारा 138 के तहत दोषी ठहराया। और गणपत के ऊपर दो लाख 89 हजार 605 रुपये का जुर्माना लगाया। साथ ही तीन माह की कैद की सजा सुनाई। जुर्माने  की राशि में से दो लाख 84 हजार 605 रुपये बतौर प्रतिकर फाइनेंस कम्पनी को देने का भी आदेश दिया।

यह भी पढ़े : OMG! उम्र 10 साल, वजन 192 Kg... इतना मोटा की दूर-दूर से देखने आते है लोग

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े : ऐसा केवल india में ही हो सकता है... देशी जुगाड़ देख मुस्कुरा देंगे आप !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.