loading...
loading...
loading...
भारत में क्रिकेट खेल साथ साथ धर्म भी प्रशासन की सख्ती के बावजूद फिर अवैध रूप से गर्भपात संकल्प कैंप में बच्चों को गुरुबाणी, गुरु इतिहास और रहित मर्यादा बारे जानकारी दी पेय पदार्थ के नाम पर दुकानदार परोस रहे है जहर भारत और विश्व के इतिहास में 27 जून की प्रमुख घटनाएं रेशा देवी ने कहा- युवाओं को नशे से दूर करने के लिए धर्म के साथ जोड़े दार्जिलिंग: भारी बारिश और बंद के माहौल में मुस्लिमो ने मनाया ईद-उल-फितर रमन शर्मा ने कहा- अापातकाल देश के इतिहास में काला दिन खाना खजाना प्रतियोगिता में महिलाओं ने दिखाया उत्साह कंडबाड़ी में NGO परिवर्तन द्वारा स्वास्थ्य शिविर का आयोजन बालड़ी रक्षक योजना ने तोडा दम स्वास्थ्य को लेकर महिलाओं का उदासीन रवैया इफ्तार पार्टी है नौटंकी, इसकी हमे क्या जरूरत: गिरिराज सिंह 2018 से बदल सकता है वित्त वर्ष, इस साल नवंबर में पेश हो सकता है बजट WWC 2017: ऑस्ट्रेलिया का विजयी आगाज, इंडीज को दी 8 विकेट से शिकस्त दिल्ली के नामी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी के वेयर हाउस में 37 लाख रुपये की लूट 3 जुलाई को भोपाल में होगा ग्लोबल स्किल पार्क का शिलान्यास: चौहान मोदी के सपोर्ट में न्यूड होने वाली हॉट एक्ट्रेस ने थामा एनसीपी का दामन बैंक मैनेजर पिता 6 माह से कर रहा था अपनी बेटी के साथ ऐसा शर्मनाक काम ... भोपाल में पंचायती राज मंत्रियों का सम्मेलन 27 जून को होगा आयोजित
फाइनेंस नहीं चुकाने और चेक बाउंस का आरोप : दो लाख 89 हजार का जुर्माना, तीन माह कैद की सजा
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 08:56:40 PM
1 of 1

छतरपुर। न्यायिक अधिकारी प्रथम श्रेणी सदाशिव दांगौड़े की अदालत ने मंगलवार को धोखाधड़ी करने वाले एक आरोपी को दोषी करार देते हुए आरोपी के ऊपर दो लाख 89 हजार 605 रुपये का जुर्माना लगाकर तीन माह की कैद की सजा दी है।

एडवोकेट लखन राजपूत ने बताया...
महेन्द्रा एण्ड महेन्द्रा फाइनेंशियल सर्विसेस लिमिटेड शाखा छतरपुर के मैनेजर जीतेन्द्र मिश्रा ने कोर्ट में एक मामला पेश किया था, कि 21 अप्रैल 2016 को गणपत पुत्र मुन्ना सिंह निवासी कर्रा ने तीन लाख 15 हजार रुपए का फाइनेंस लिया था। इसने फाइनेंस ट्रैक्टर लेने के लिए कराया था। इस ऋण राशि का भुगतान गणपत को किस्तों में अदा करना था। गणपत से किश्ते निर्धारित समय पर नहीं दी  गयी। तब गणपत ने एक लाख 74 हजार 661 रुपए चुकाने के लिए चैक दिया। गणपत के खाते में पर्याप्त धनराशि न होने पर बैंक ने चैक को बाउंस कर दिया। नोटिस देने पर भी गणपत ने राशि का भुगतान नहीं किया।

अदालत ने आरोपी गणपत को आइपीसी की धारा 138 के तहत दोषी ठहराया। और गणपत के ऊपर दो लाख 89 हजार 605 रुपये का जुर्माना लगाया। साथ ही तीन माह की कैद की सजा सुनाई। जुर्माने  की राशि में से दो लाख 84 हजार 605 रुपये बतौर प्रतिकर फाइनेंस कम्पनी को देने का भी आदेश दिया।

यह भी पढ़े : OMG! उम्र 10 साल, वजन 192 Kg... इतना मोटा की दूर-दूर से देखने आते है लोग

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े : ऐसा केवल india में ही हो सकता है... देशी जुगाड़ देख मुस्कुरा देंगे आप !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.