loading...
loading...
loading...
महिला पत्रकार की खूबसूरती पर फिदा हुए ट्रंप, कर दी यह हरकत सैकड़ों लोगों का पेट भरने के खातिर ठुकरा दी लाखों की नौकरी नीतीश कुमार दे रहे थे भाषण और कैंडी-क्रश खेल रहे थे IPS अधिकारी नहीं मिली एंबुलेंस, बीमार बहन को कंधे पर लेकर दौड़ता रहा भाई, फिर हुई मौत उत्तरी भारत में मानसून का प्रवेश, राजस्थान समेत कई हिस्सों में भारी बारिश की संभावना साबरमती आश्रम की 100वी वर्षगांठ पर पहुंचे PM मोदी इस झील के पानी में समय-समय पर होते हैं बदलाव, जानिए रहस्य! GST से पहले बिग बाजार से लेकर ऐमजॉन तक हो रही है ऑफर्स की बौछार राष्ट्रपति चुनावों को लेकर 5 अगस्त को होगा मतदान: नसीम जैदी इस अजीबोगरीब परम्परा के बारें में सुनकर आप चौंक जाएंगे! शराब ठेकों के विरोध में सड़कों पर उतरीं महिलाएं, जीटी रोड जाम मध्यप्रदेश में दो जुलाई को रचा जायेगा इतिहास एक साथ लगेंगे 6 करोड़ पौधे 1 जुलाई से लागू हो रहा है GST, 30 जून की आधी रात को संसद में ख़ास कार्यक्रम का आयोजन इस बच्ची के जज़्बे को देखकर आपके भी उड़ जाएंगे होश बाइक सवारों ने युवती के हाथ से छीना फोन और फिर... BSNL दे रहा है यूजर्स को हर दिन 2 जीबी फ्री डाटा और अनलिमिटेड कॉलिंग 'स्पाइडर मैन: होमकमिंग' का ट्रेलर लांच, टाइगर श्रॉफ देंगे अपनी आवाज चीन ने फिर किया कारनामा, बना डाला शीशे का ब्रिज अपराधियों ने 2 सगी बहनों से की छेड़खानी, फिर दी धमकी डाओ में हुई 150 अंकों की बढ़ोतरी
भारत: शर्मनाक देह-व्यापार..! यहाँ मां के बाद बेटी संभालती है जिस्मफरोशी का धंधा..!
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 04:54:17 AM
1 of 1

नई दिल्ली: जिस्‍मफरोशी को लेकर हर देश में अलग अलग कानून होते है वैसे ही कानून यहां भारत में भी है। मगर दूसरे देशों के मुकाबले भारत में जिस्मफरोशी के धंधे को लेकर ज्यादा सख्ती बर्ती जाती है। इतनी सख्ती होने के बावजूद भी यहा चोरी छिपे यह धंधा होता रहता है। भारत  ऐसी ही एक जगह है बिहार में जहां यह धंधा पारवारिक है यानी कि मां के बाद बेटी को अपने जिस्‍म का सौदा करना पड़ता है। आइये जानते है इसके बारे में..

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

वेश्‍यालय का इतिहास मुगलकालीन...
बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के ‘चतुर्भुज स्‍थान’ नामक जगह पर स्‍थित वेश्‍यालय का इतिहास मुगलकालीन है। यह जगह भारत-नेपाल सीमा के करीब है और यहां की आबादी लगभग 10 हजार है। पुराने समय में यहां पर ढोलक, घुंघरुओं और हारमोनियम की आवाज ही पहचान हुआ करती थी। हालांकि पहले यह कला, संगीत और नृत्‍य का केंद्र हुआ करता था लेकिन अब यहां जिस्‍म का बाजार लगता है। सबसे खास बात यह है कि वेश्‍यावृत्‍ति यहां पर पारिवारिक व पारंपरिक पेशा मानी जाती है। मां के बाद उसकी बेटी को यहां अपने जिस्‍म का धंधा करना पड़ता है। इतिहास पर नजर डालें तो पन्‍नाबाई, भ्रमर, गौहरखान और चंदाबाई जैसे नगीने मुजफ्फरपुर के इस बाजार में आकर लोगों को नृत्‍य दिखाकर मनोरंजन किया करते थे। 

आधुनिकता ने जीने और कला-प्रदर्शन के तरीकों को ही दिया बदल...
लेकिन अब यहां मुजरा बीते कल की बात हो गई और नए गानों की धुन पर नाचने वाली वो तवायफ अब प्रॉस्‍टीट्यूट बन गई। इस आधुनिकता ने जीने और कला-प्रदर्शन के तरीकों को ही बदल दिया। इस बाजार में कला, कला न रह की एक बाजारू वस्‍तु बन गई। यह जगह काफी ऐतिहासिक भी है। शरतचंद्र चट्टोपाध्याय की पारो के रूप में सरस्वती से भी यहीं मुलाकात हुई थी। और यहां से लौटने के बाद ही उन्होंने ‘देवदास’ की रचना की थी। यूं तो चतुर्भुज स्थान का नामकरण चतुर्भुज भगवान के मंदिर के कारण हुआ था, लेकिन लोकमानस में इसकी पहचान वहां की तंग, बंद और बदनाम गलियों के कारण है। रिपोर्ट की मानें तो बिहार के 38 जिलों में 50 रेड लाइट एरियाज़ हैं, जहां दो लाख से अधिक आबादी बसती है। ऐसे में यहां पर वेश्‍यावृत्‍ति का धंधा काफी बड़े पैमाने पर पैर पसारे हुए है।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.