इस लड़के से मौत भी रहती है कोसो दूर, हैरान कर दिया सबको किन्नर भी करेंगे शादी इस जगह ... जाने जरा इस लड़की के शरीर में नही एक भी पसली, इसलिए हुआ ऐसा चल गया पता ! पहले मुर्गी आयी या अंडा ... आप भी जाने कौन आया पहले हाथियों के डर से इस गांव के लोग घर बनाकर रहते हैं पेड़ों पर Room No. 502 ! आज भी दिखती है वो मरी हुई लड़की इस रूम में नाराज पिता व भाई ने युवती को धारदार हथियार से काटा मज़बूरी में 7 करोड़ में बेचनी पड़ी वर्जिनिटी इस लड़की को इस नवजात बच्ची की जीभ थी सामान्य से बड़ी फिर किया ये ... 5 सितारा होटल में अमेरिकी पर्यटक से सामूहिक दुष्कर्म ट्राले-बाइक में टक्कर, महिला की मौत नहीं रहे पूर्व अंतरराष्ट्रीय हॉकी अंपायर फुलेल सिंह सुजलाना आज का राशिफल (3 दिसम्बर 2016) जल्द बॉलीवुड में इंट्री करेगे सुनील शेट्टी के बेटे अहान नोटबंदी से कालाधन आएगा, यह परियों की कहानी जैसा: महेश भट्ट ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री कैमरन ने आज मोदी से की मुलाकात 'जॉली LLB 2' का पोस्टर जारी, अक्षय का नजर आया सीधा साधा लुक..! कन्हैया कुमार ने मोदी को बताया ट्रंप से बेहतर टीवी एक्ट्रेस श्वेता तिवारी के घर गुंजी नन्ही किलकारी..! अमेरिकी रक्षा मंत्री कार्टर अपनी आखिरी विश्व यात्रा पर अगले हफ्ते आएंगे भारत
व्यक्ति की AIDS से मौत होने के कारण श्मशान में दाह संस्कार का विरोध, मजबूरी में घर के सामने ही जलाना पड़ा
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 04:56:14 PM
1 of 1

भुवनेश्वर। ओडिशा के बालासोर में AIDS रोगी की मौत के बाद भेदभाव का मामला सामने आया है। आरोप है कि गांववालों ने श्मशान में उसका अंतिम संस्कार नहीं करने दिया। विरोध के बाद मजबूरी में दलित फैमिली को अपने घर के सामने ही शख्स की चिता जलानी पड़ी। लोगों का मानना था कि AIDS पीड़ित को सार्वजनिक तौर पर जलाने से पूरे गांव में रोग फैलने का डर था।

JAIPUR:  सबसे सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166

मुंबई में करता था मजदूरी...
सूत्रों के मुताबिक- तेंतेई गांव में रहने वाले 35 साल के दलित शख्स की एक हॉस्पिटल में शुक्रवार को मौत हो गई थी। वह मुंबई में मजदूरी कर अपने घर पैसे भेजता था, लेकिन HIV से पीड़ित होने के बाद पिछले कुछ महीने पहले घर लौट आया था। पहले उसे कटक के SCB  हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, बाद में फैमिली प्राइवेट हॉस्पिटल ले गई, जहां एक लाख रुपए खर्च आया। मृतक के भाई का कहना है कि गांववालों की जिद के आगे उसे झुकना पड़ा। सोचा नहीं था कि AIDS पीड़ित के साथ ऐसा बर्ताव होता है।
HIV रोगियों से भेदभाव रोकने के लिए पास हुआ था बिल... 
तहसीलदार शत्रुघ्न सेठी और पुलिस ने गांव वालों को समझाने की काफी कोशिश की, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। एड्स पीड़ितों से भेदभाव रोकने और अधिकारों की रक्षा के लिए सरकार ने HIV एंड AIDS (प्रिवेंशन एंड कंट्रोल) बिल पास किया है।

 

यह भी पढ़े : बिस्तर में अपने साथी से कुछ ऐसा चाहती हैं लड़कियां...!!

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.