loading...
Airtel: ग्राहकों के लिए रोमिंग चार्जेज खत्म करने की तैयारी में POK में मुख्य न्यायाधीश का फरमान, 'अदालती कर्मचारियों का नमाज पढ़ने पर ही बढ़ेगा वेतन' अजहरूद्दीन ने भारतीय टीम को लेकर दिया बड़ा ये बयान, कहा... बेहतर फ्रंट कैमरा से लैस ये हैं टॉप 5 बजट स्मार्टफोन्स, कीमत 7000 रुपये से भी कम, जानिए! ...तो अब ये भूमिका निभाना चाहते हैं विवेक कमजोरी रुख के साथ हुई एशियाई बाजारों की शुरुआत शराबबंदी के बाद महागठबंधन सरकार का पहला बजट आज, बुनकरों के लिए हो सकता है बड़ा ऐलान विजय हजारे ट्राफी में ईडन गार्डन्स पर धोनी ने खेली आकर्षक शतकीय पारी ओलांद ने ट्रंप को बातों-बातों में सुनाई खरी-खोटी फिल्म 'इत्तफाक' में जल्द नजर आएंगी ये जोड़ी अमेजन इंडिया पर माइक्रोमैक्स के हैंडसेट्स पर जबरदस्त ऑफर,जानिए! राज्य में इस्पात संयंत्र की स्थापना के लिए सौर ऊर्जा संयंत्र लगाएगी आर्सेलर-मित्तल व्हाइट हाउस स्थित ओवल ऑफिस में पहली बार ट्रंप से मिले भारतीय राजदूत सरना ISIS में शामिल भारतीय युवक की ड्रोन हमले में मौत 'किक 2' एमी जैक्सन नहीं बल्कि नजर आएंगी ये एक्ट्रेस रिलायंस जियो यूजर ने इस सेवा को समय रहते सब्सक्राइब नहीं किया तो ये होगा! 28 फरवरी को रहेंगी सभी बैंको की हड़ताल अखिलेश ने मोदी पर साधा निशाना- PM कब करेंगे काम की बात चुनाव विशेष: पूर्वांचल को अलग राज्य का दर्जा दिलवाएगी मायावती आज का राशिफल (27 फरवरी 2017,सोमवार)
टाटा संस पर न्यायाधिकरण के आदेश को भंग करने का आरोप
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:35:40 PM
1 of 1

नई दिल्ली l आज गुरुवार को सायरस मिस्त्री के परिवार के स्वामित्व वाली दो निवेश कंपनियों ने  राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में टाटा संस और रतन टाटा सहित उसके निदेशकों के खिलाफ मानहानि की याचिका दायर की। याचिका में इल्जाम लगाया गया है कि उन्हें टाटा संस के निदेशक मंडल से हटाने की पहल करके टाटा न्यायाधिकरण के आदेश को भंग कर रही है।

 

 इसके अतिरिक्त कंपनी ने टाटा, और टाटा संस के अन्य निदेशकों और सर रतन टाटा ट्रस्ट और सर दोराबजी ट्रस्ट के न्यासियों को दंड देने की भी मांग की है।  ट्रस्टियों में एन. ए. सूनावाला, आर. के. कृष्णकुमार और आर. वेंकटरमण शामिल हैं। याचिका में सायरस इंवेस्टमेंट लिमिटेड और स्टर्लिंग इंवेस्टमेंट ने न्यायाधिकरण से टाटा संस के जरिये 6 फरवरी या अन्य किसी तिथि या उस वक्त किसी तरह के कारोबार करने के लिए बुलाई गई असाधारण आम बैैठक पर रोक का आदेश जारी करने की अपील की है।

 मिस्त्री की आेर दायर की गई इस याचिका पर प्रतिक्रिया देते हुए टाटा समूह के एक प्रवक्ता ने कहा, किसी तरह की मानहानि नहीं की गई है। कंपनी ने इनके लिए 6 महीने की अधिकतम कारावास की सजा और 2000 रुपए जुर्माना अथवा दोनों देने की अपील की है। हम अपना जवाब एनसीएलटी में दाखिल करेंगे।

यह भी पढ़े : भूल से मां के प्रेमी के बगल में जाकर सो गई बेटी फिर क्या हुआ जानिए...

यह भी पढ़े : पति ग्रुप सैक्स करने पर करता था मजबूर, नहीं मानी तो...!

यह भी पढ़े : बेटे की खातिर मां ने "निगला" सांप का जहर... फिर भी नहीं बचा उसकी सकी मौत!
यह भी पढ़े : लड़की ने शादी का रिश्ता तोडा, तो युवक ने ब्लेड से अपना ही प्राइवेट पार्ट काट डाला



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.