BMC चुनाव: शिवसेना ने ली शुरूआती बढ़त, BJP दूसरे नंबर पर तुर्की में हटेगी महिला सैन्य अधिकारियों के हिजाब पहनने पर लगी ऐतिहासिक रोक Sanjeevni Today: Top Stories of 1pm इतिहास: ऐतिहासिक उपन्यासकार और निबंधकार थे वृंदावनलाल वर्मा! इस फिल्म में अंतरिक्ष यात्री का रोल निभाएंगे सुशांत सिंह यादव परिवार के बीच पैदा हुई कलह एक सोची-समझी साजिश थी: अमर सिंह डॉक्टर ने इलाज की बजाय गैंगरेप पीड़िता को बाहर फेंकने की दी धमकी! ATM से निकले 'चूरन लेबल' लिखे 2000 के फर्जी नोट, केजरीवाल ने PM मोदी पर किया हमला, कहा... चौथे चरण में भी कांग्रेस और सपा के प्रत्याशी आमने-सामने ट्रंप प्रशासन ने ट्रांसजेंडर शौचालय बनाये जाने के ओबामा के फैसले को पलटते हुए किया रद्द लाचार लड़की को अपनी आबरू बचाने के लिए जान से हाथ धोना पड़ा, जानिए घटना का क्रूर सच! भारत में पैनिक बटन वाला पहला LG K10 स्मार्टफोन हुआ लांच ऋतिक रोशन की मां ने दुनिया की सबसे वजनी महिला की मदद के लिए दी ये रकम हमें मुस्लिम प्रत्याशियों को भी देने चाहिए थे टिकट: राजनाथ Live INDvsAUS: ऑस्ट्रेलिया ने लंच तक 1 विकेट खोकर बनाए 84 रन नाइजीरिया: दो जर्मन पुरातत्वविद खुदाई के दौरान अगवा इस फिल्म के लिए सलमान ने घटाया 17 किलो वजन शोभा डे को एमपी के पुलिसकर्मी ने दिया करारा जवाब - दुबले होने का इलाज हो तो करवा दें 78 अंकों की बढ़त के साथ सेंसेक्स हुआ 28,942 दृष्टिबाधित विश्वकप जीतने वाली टीम के हर खिलाड़ी को 5-5 लाख देगी सरकार
हर जमा के साथ करना पड़ सकता है 60% टैक्स का भुगतान
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 12:27:04 PM
1 of 1

मुंबई। अप्रैल से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के अधिकारियों को अब तक बैंकों में जमा होने वाले छोटे कैश डिपॉजिट पर भी नोटिस जारी करने और उन पर 60 प्रतिशत टैक्स वसूल करने का अधिकार मिल सकता है। इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स का कहना है कि इनकम टैक्स ऐक्ट में किए गए हालिया संशोधन में यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि कितने रुपये तक के कैश डिपॉजिट पर स्क्रूटनी हो सकती है। 

आयकर कानून में संशोधन में डिपॉजिट की लिमिट का जिक्र नहीं होना प्रधानमंत्री और रेवेन्यू सेक्रेटरी के उस वादे के खिलाफ है जिसके अनुसार 2.5 लाख रुपये तक के कैश डिपॉजिट की इनक्वायरी या इन्वेस्टिगेशन नहीं होगी। खेतान ऐंड कंपनी के टैक्स पार्टनर संजय सांघवी ने कहा की प्रस्तावित संशोधन को देखने से ऐसा लगता है कि जिन लोगों के घर में थोड़ा कैश रखा हुआ था।

अगर वह उसके सोर्स के बारे में नहीं बता पाते हैं तो उनको उनको उस पर 60 प्रतिशत टैक्स, सरचार्ज और पेनल्टी देनी पड़ सकती है। इस अहम मुद्दे पर सरकार की तरफ से क्लैरिफिकेशन आना जरूरी है। जिस डिपॉजिटर को नोटिस मिलेगा, उसे बताना होगा कि उनके पास वह कैश कहां से आया। साथ ही इसके कानून में बदलाव इसलिए किया गया है कि उस कैश डिपॉजिट पर ज्यादा टैक्स वसूल किया जा सके, जिसके सोर्स के बारे में डिपॉजिटर पक्के तौर कुछ बता ना पाए। 

खेतान ऐंड कंपनी की ईडी डी बक्शी को लगता है कि कालाधन सफेद करने के लिए जनधन योजना के दुरुपयोग होने संबंधी चिंताएं दूर करने के लिए कुछ दूसरे प्रावधानों पर विचार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा की जिन खातों में पिछले 12 महीनों से कोई ट्रांजैक्शन नहीं हुआ है, उनसे सिर्फ 25 प्रतिशत रकम निकालने की शर्त रखी जा सकती है। बाकी रकम स्कीम में ट्रांसफर कर दी जानी चाहिए।

जिन लोगों ने बंद हो चुके 500 और 1000 रुपये के करंसी नोटों में बैंक डिपॉजिट किया है, उनको सरकार ने काला धन से खुद को पाक साफ बताने का एक मौका दिया है। लखानी ने कहा की जिन लोगों के पास ब्लैक मनी है और अगर इसे चल और अचल संपत्तियों में लगाया गया है, तो उन्हें स्कीम का फायदा नहीं मिल पाएगा।

 अगर 25 प्रतिशत रकम जीरो को इंट्रेस्ट बॉन्ड में लॉक कर दिया जाता है तो इससे डिक्लेयरेंट की कॉस्ट 50 प्रतिशत से बढ़कर 56 पर्सेंट (टैक्स पेमेंट के बाद बॉन्ड पर 6 प्रतिशत यील्ड मानकर) हो जाएगी। लखानी ने कहा की 500 और 1000 रुपये के नोटों की शक्ल में जमा ब्लैक मनी चल और अचल संपत्ति में लगाए गए काला धन के मुकाबले बहुत कम है। इसको देखते हुए स्कीम कुछ लोगों को अट्रैक्टिव लग सकती है, लेकिन इससे काला धन बाहर निकालने का सरकार का असल मकसद पूरा नहीं हो पाएगा।

यह भी पढ़े : INTERVIEW देने गया था ये कपल लेकिन हुआ वो जो कर देगा हैरान, VIDEO
यह भी पढ़े : रॉल्स रॉयस जैसी 378 कारों का मालिक होते हुए भी यह ब्यक्ति करता है बाल काटने का काम..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: दुनिया के सबसे ठंडे महाद्वीप में पानी नहीं बल्कि बहता है खून, छिपे हैं कई राज



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.