प्रेमी ने की प्रेमिका की गला रेतकर हत्या, दोस्त के कमरे से मिली लड़की की डेडबॉडी सेंसर बोर्ड ने 'पद्मावती' को लौटाया वापस, टल सकती है रिलीज डेट देश और दुनिया के इतिहास में 18 नवंबर की महत्वपूर्ण घटनाएं टाटा संस ने अपने दो अधिकारियों को बोर्ड में नियुक्त किया चेहरे पर निखार लाने के लिए करें ये घरेलू ट्रीटमेंट्स भयानक सड़क हादसे में सात लोगो की मौत युवा विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप के लिए भारतीय टीम घोषित पद्मावती के विरोध में सर्वसमाज और करणी सेना ने किया विरोध प्रदर्शन एनजीटी ने दिल्ली-एनसीआर में निर्माण गतिविधियों पर प्रतिबंध हटाया, ट्रकों को प्रवेश की अनुमति वैश्विक स्तर पर शांति एवं स्थिरता स्थापित करने वाली ताकत है भारत-फ्रांस सामरिक गठजोड़: पीएम मोदी गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के 70 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी एक सप्ताह पहले लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुए फुटबॉलर ने किया आत्मसमर्पण MRP स्टीकर लगाने समय अवधि में की बढ़ोतरी राफेल युद्धक विमान सौदे से नाराज कांग्रेस ने मोदी सरकार पर सवालों से किया हमला मुख्यमंत्री ने की वित्त मंत्री से मुलाकात, वर्तमान अफीम नीति में बदलाव के लिए जताया आभार इस्लामिक स्टेट इराक और सीरिया में गवां चुका है 95 फीसदी हिस्सा: गठबंधन सेना राजदेव हत्याकांड : SC ने तेज प्रताप की वायरल तस्वीरों पर सीबीआई से मांगी रिपोर्ट जापान में एक ट्रेन के तय समय से पहले चलने पर रेलवे ने जारी किया माफ़ी नामा आलू डालो, सोना निकलेगा, राहुल गांधी के वायरल वीडियो की सच्चाई, देखें वीडियो BJP नेता शिव कुमार के बाद घायल लड़की ने भी तोडा दम
सरकार बैंकों की संख्या घटाकर 12 कर सकती है, ये बन रही योजना
sanjeevnitoday.com | Sunday, July 16, 2017 | 08:52:06 PM
1 of 1

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार 3-4 ग्लोबल लेवल के बड़े बैंक तैयार करने के लिए कंसॉलिडेशन (एकीकरण) के एजेंडे पर तेजी से काम कर रही है पब्लिक सैक्टर बैंक की संख्या घटाकर 12 तक सीमित करने पर विचार कर रही है। सरकार इससे जुड़े एक एजैंडे पर काम कर रही है। एक अधिकारी ने बताया कि 21 पब्लिक सैक्टर बैंकों को मध्य अवधि में 10 से 12 में समेट दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि थ्री-टायर स्ट्रक्चर के हिसाब से 3 से 4 ऐसे बैंक बनाए जाएंगे जो भारतीय स्टेट बैंक जितने बड़े होंगे।

उस अधिकारी ने यह भी जानकारी दी कि क्षेत्र संबंधीc जैसे कि पंजाब और सिंध बैंक व आंध्रा बैंक स्वतंत्र बैंक के तौर पर काम करते रहेंगे। इसके अलावा कुछ मिड-लैंडर्स भी अपने ऑप्रेशन चलाते रहेंगे। पिछले महीने फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने पिछले महीने कहा था कि केंद्र सरकार पब्लिक सेक्टर के बैंकों के कंसॉलिडेशन पर सक्रियता के साथ काम कर रही है. हालांकि, उन्होंने यह कहते हुए इसका ब्योरा देने से इनकार कर दिया था कि यह एक प्राइस-सेंसिटिव इंफॉर्मेशन है। 

SBI के मर्जर से उत्साहित फाइनेंस मिनिस्ट्री इस फाइनेंशियल ईयर में ऐसे दूसरे प्रस्तावों को मंजूरी देने पर विचार कर रही है हालांकि यह तब ही होने की उम्मीद है जब बैड लोन की स्थिति नियंत्रण में आ जाती है। भारतीय रिजर्व बैंक (आर.बी.आई.) के मुताबिक व्यवस्था में कुछ बड़े बैंक, कुछ छोटे और कुछ स्थानीय बैंक रहेंगे। उन्होंने कहा था कि सिस्टम में वैरायटी की जरूरत है। 

एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर बताया कि एक संभावना यह भी है कि पंजाब नैशनल बैंक (पी.एन.बी.), बैंक ऑफ  बड़ौदा, केनरा बैंक और बैंक ऑफ  इंडिया अधिग्रहण के लिए संभावित प्लेयर क़ि खोज कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि इसके लिए ये बैंक रीजनल संतुलन, भौगोलिक पहुंच और वित्तीय दबाव व आसानी से मानव संसाधन तक पहुंच भी देखेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि कमजोर बैंक को मजबूत बैंकों के साथ मर्ज नहीं किया जाना चाहिए। 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.