चुनाव चिन्ह "दो पत्तियां " हुआ AIADMK का, शशिकला गुट कर सकता है केस फाइल UP: बागपत में 3 मौलवियों की दबंगो ने की जमकर धुनाई, चलती ट्रैन से फेंका बाहर हौंडा एक्टिवा की बिक्री में भारी इजाफा, बेच दिए इतने लाख मॉडल जॉर्जिया: पुलिस अभियान में तीन संदिग्ध आतंकी ढेर कोटा नगर निगम ने लगाया बाहरी छात्रों पर ये टैक्स! कभी ख़ुशी... की ‘पू’ अब दिखती है इतनी हॉट, इस एक्टर के साथ करेंगी डेब्यू बिना स्मार्टफोन के बुक होगी कैब, जानिए किसी बॉलीवुड एक्ट्रेस से कम नहीं है क्रिकेटर हार्दिक पंड्या की होने वाली भाभी, देखें तस्वीरें पत्रकार की हत्‍या मामले में अखबारों ने संपादकीय पेज पर छोड़ी खाली जगह J&K: पथराव के मामले में पहली बार सरकार ने उठाया ये कदम अर्जुन तेंदुलकर का कूच बिहार ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन, झटके पांच विकेट 'पद्मावती' को ब्रिटिश सेंसर बोर्ड ने दिखाई हरी झंडी, 1 दिसंबर को होंगी रिलीज VIDEO: 'एंटरटेनमेंट की रात' में मौनी रॉय ने कुछ इस अंदाज में किया डांस महिला की जगह दे दी पुरुष की बॉडी, क्रिया क्रम के दौरान हुआ खुलासा PICS: जीवनसंगिनी को लाने के लिए घोड़ी पर सवार हुए भुवनेश्वर कुमार विवाह बंधन में बंधे जहीर-सागरिका, सामने आई पहली तस्वीर राय लक्ष्मी का 'जूली 2' से एक जबरदस्त इंटीमेट सीन हुआ लीक इस औरत को पिछले एक माह में 5 बार काट चुके है सांप CM योगी के इकलौते मुस्लिम मंत्री मोहसिन रजा का निकाह पंजीकरण हुआ रद्द ब्रिक्स देशों की शीर्ष 20 यूनिवर्सिटी की सूची में चार भारतीय
प्रधानमंत्री जन-धन खातों में रिकॉर्ड धनराशि जमा, 64,564 करोड़ रुपए तक पहुंची
sanjeevnitoday.com | Sunday, July 16, 2017 | 07:21:44 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सरकारी आंकड़ों के अनुसार जन धन खातों में जमा राशि 64,564 करोड़ रूपए की नई ऊंचाई पर पहुंच गई है इसमें से 300 करोड़ रुपये से ज्यादा नोटबंदी के बाद पहले सात महीने में आए हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रमुख योजनाओं में एक समझी जाने वाली प्रधानमंत्री जन धन योजना वित्तीय समावेशन की प्रमुख पहल है। इसका उद्देश्य अब तक बैंकिंग सेवाओं से वंचित लोगों को औपचारिक बैंकिंग प्रणाली के दायरे में लाना है। इस योजना के तहत शून्य शेष सुविधा वाले खाते खोले जाते हैं। 

पीटीआई भाषा के संवाददाता द्वारा दाखिल आरटीआई आवेदन पर वित्त मंत्रालय ने यह जानकारी दी है। इसके अनुसार 14 जून तक देश भर में करीब 28.9 करोड़ प्रधानमंत्री जन-धन खाते थे. इसमें से 23.27 करोड़ बैंक खाते सरकारी बैंकों में, 4.7 करोड़ अकाउंट्स रीजनल रूरल बैंकों में और 92.7 लाख खाते प्राइवेट बैंकों में थे फाइनेंस मिनिस्ट्री के आंकड़ों बताते हैं कि इन खातों में संयुक्त रूप से 64,564 करोड़ रपये जमा है। उनमें 50,800 करोड़ रुपए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के जनधन खातों में हैं जबकि 11,683.42 करोड़ रुपए क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों और 2,080.62 करोड़ रुपए निजी बैंकों में हैं। 

फाइनेंस मिनिस्ट्री में वित्त राज्यमंत्री संतोष गंगवार ने लोकसभा को बताया था कि सोलह नवंबर, 2016 तक इस योजना के तहत 25.58 करोड़ करोड़ खाते खुलवाए गए थे जिनमें 64,252.15 करोड़ रुपए थे। वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी थी। यानी सोलह नवंबर, 2016 से लेकर 14 जून, 2017 के बीच करीब 311.93 करोड़ रपये जमा कराए गए।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल आठ नवंबर को 500 और 1000 रुपए के मौजूदा नोटों का चलन बंद करने की घोषणा की थी।  



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.