संजीवनी टुडे

News

अनोखा मंदिर: सिर्फ 5 घंटे ही होते है माता के दर्शन

Sanjeevni Today 05-12-2017 15:24:37

गरियाबंद। आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारें में बताने को जा रहे है जिसके सम्बन्ध में जानकर आप चौंक जाएंगे। दरअसल, छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिला मुख्यालय से 12 किलोमीटर दूर एक पहाड़ी पर स्थित निराई माता मंदिर श्रद्घालुओं एवं भक्तों का आकर्षण का केंद्र है। निरई माता को  नारियल, अगरबत्ती से मनाया जाता हैं। 

यह भी पढ़े: वीडियो: अभिनेत्री जैकलिन फर्नाडीज ने करवाई टॉपलेस फोटोशूट

पांच घंटे ही होते है माता के दर्शन
यहां सुबह 4 बजे से सुबह 9 बजे तक मतलब केवल 5 घंटे ही माता के दर्शन किए जा सकते हैं। यहां दर्शन करने हर साल हजारों लोग पहुंचते हैं। इस देवी मंदिर की खासियत यह है कि, यहां हर साल चैत्र नवरात्र के दौरान स्वत ही ज्योति प्रज्वलित होती है। 

यह भी पढ़े: वीडियो: स्कूल निरीक्षण के लिए पहुंचे CM योगी, बच्चों से पूछा- प्रदेश का मुख्यमंत्री कौन है?

200 साल पुरानी मान्यता
ग्रामीण के मुताबिक, माता को लोग सिर्फ विश्वास से ही पूजते हैं। इसके पीछे 200 साल पुरानी मान्यता है। आज से दो सौ वर्ष पूर्व मोहेरा ग्राम के मालगुजार जयराम गिरी गोस्वामी ने माता की पूजा करने बहुरसिंग ध्रुव के पूर्वजों को छ: एकड़ जमीन दान में दिए थे। जमीन में कृषि कर आमदनी से माता की पूजा पाठ जातरा संपन्न हो रहा है। 

बड़ी संख्या में मन्नत मांगते हैं श्रद्वालु
माता की कृपा से मनोकामना पूर्ण होने पर हजारों की संख्या में लोग यहां पूजा अर्चना करते हैं। यहां रायपुर, धमतरी, दुर्ग, भिलाई, मगरलोड, राजिम, छुरा, मैनपुर, देवभोग, गरियाबंद सहित अनेक जगहों से बड़ी संख्या में श्रद्वालु मन्नत मांगने पहुंचते हैं। चैत नवरात्रि के प्रथम सप्ताह रविवार को जातरा मनाया जाता हैं। जातरा के दिन गरियाबंद, महासमुंद, रायपुर, धमतरी, कुरूद, मगरलोड, सिहावा, नयापारा, राजिम क्षेत्र के हजारों माता भक्तजन श्रध्दा पूर्वक दर्शन करने आते हैं। 

महिलाओं को प्रवेश की नहीं इजाजत
इस मंदिर में महिलाओं को प्रवेश और पूजा-पाठ की इजाजत नहीं हैं, यहां केवल पुरुष पूजा-पाठ की रीतियों को निभाते हैं। 

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !  

Watch Video

More From ajab-gjab

Recommended