बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं के विरोध में राज्य सरकार के खिलाफ धरना रेलों में परोसा जाने वाला भोजन और पानी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक विभागीय लापरवाही के चलते स्वास्थ्य केंद्र दनकौर की मशीने हुई खराब स्वास्थ्य निदेशक ने सभी शिविरों का निरीक्षण किया विद्यालय परिसर में 500 बच्चों का स्वास्थ्य जांचा सुमन मुनि महाराज ने जैन धर्म में तप को मोक्ष का मार्ग बताया हमें सदा अपने कुल व धर्म पर अभिमान करना चाहिए गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए एएनसी जांच जरूरी शंखनाद संस्था ने चलाया "भीख नही शिक्षा दो" अभियान, सुमन शर्मा ने किया पोस्टर विमोचन पाक को अमेरिका का झटका, आंतक के खिलाफ मिलने वाले फंड पर लगाई रोक एस. बद्रीनाथ ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट को कहा अलविदा अमेरिका ने पाक को दिया एक और झटका, लगातार दूसरे साल एंटी टेरर फंडिंग पर लगाई रोक चीनी की कीमतों में बढ़ोतरी, तेल के दाम हुए सस्ते WWC17: सेमीफाइनल की पारी को लेकर हरमनप्रीत ने किया खुलाशा चित्तौड़गढ़ सांसद ने की कृषि विज्ञान केन्द्र की मांग को लेकर परषोत्तम रूपाला से की मुलाकात एप्पल की नई टेक्नोलॉजी से बढ़ेगी भारतीय रेलों की स्पीड: सुरेश प्रभु ATP टूर्नामेंट चेन्नई से पुणे स्थानांतरित होने से अमृतराज बंधु दुखी बॉडी पर इन 7 जगहों पर है तिल है तो हो सकता है ये... मोर्ने मोर्केल ने वनडे क्रिकेट करियर को लेकर चिंता की व्यक्त ड्रग रैकेट में फंसा 'बाहुबली-2' का एक्टर सुब्बाराजू, SIT ने की पूछताछ
जानिए, असली मावा पहचानने की Tips
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 09:05:16 AM
1 of 1

नई दिल्ली। स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन द्वारा आज तक मिलावट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं गई है। सबसे ज्यादा मिलावट मावे की मिठाई में की जाती है।  दुकानों में अनुमान के अनुसार, दुर्गा पूजा से लेकर दीपावली तक 50 लाख रुपये से अधिक का कारोबार होता है, जिसमें से 60 से 65 फीसद मिठाईयों में मिलावट रहती है। बाजार में धड़ल्ले से मिलावटी मिठाईयां बेची जा रही हैं। मिठाईयों के गुणवत्ता की जाँच को स्वास्थ्य विभाग अपने दायरे में नहीं मानता है, और  दूसरी ओर फूड इंस्पेक्टर का कार्यालय ढूढने से नहीं मिलता है।  वहाँ न तो कार्यालय है और न ही फूड इंसपेक्टर ही है।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

जमुई जिले की किसी भी मिठाई दुकानों की जाँच करने फूड इंसपेक्टर आते हैं, तो किसी को पता नहीं चल पाता है। जाँच के लिए लैब नहीं रहने के कारण नमूने भी इकठ्ठे नहीं किए जाते हैं, और इसी  वजह से जमुई में मिलावटी मिठाईयों का कारोबार काफी फल-फूल रहा है।मिठाई खरीदते समय इन बातो का ध्यान देना चाहिए। मिठाई को हाथ में लेने पर रंग हाथों पर लग जाता है, तो समझ लेना वह मिठाई नकली है। मिठाइयों पर लगाए जाने वाला चादी का अर्क हाथ लगाने पर रंग छोड़ता है, तो वह भी नकली है। अगर मावे से बनी मिठाई को दोनों हाथों के बीच रगड़ने पर उसमें से चिकनाहट नहीं बाहर आती है, तो वह भी नकली मावे से बनी मिठाई है। इस तरह हम नकली मिठाई की पहचान कर सकते हैं।

चिकित्सा पदाधिकारी मनीष कुमार सिंह ने बताया कि मिठाई में अधिक चीनी की मात्रा रहने से डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। खराब मावा या अन्य रसायन युक्त मिठाई के सेवन से पेट से संबंधित गड़बड़ी हो सकती है। नकली मिठाई का सेवन नहीं करना चाहिए। खासकर बच्चों को इससे बचाने की आवश्यकता है। रोज लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ हो रहा है, दूसरी ओर जिम्मेवार लोग अपनी जिम्मेदारी से मुंह मोड़ने पर लगे हैं। 

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : खुशियां बाँट रही फीमेल डॉक्टर.. न्यूड होकर करती है इलाज, मरीजों की लगी रहती हैं लंबी कतार !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.