लॉटरी का झांसा देकर 5 लाख की ठगी देश और दुनिया के इतिहास में 24 जुलाई की महत्वपूर्ण घटनाएं नाशपाती के सेवन से होते है ये फायदे तुतला कर बोलते हैं तो करे आंवले का सेवन मलेरिया व डेंगू से बचने के लिए लोगो को जागरूक किया पार्षद ने सेहत विभाग के अधिकारियों के साथ मिलकर क्षेत्र का दौरा किया किदवई में नि:शुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर आयोजन स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के फैसले से इलाकावासियों की खुशी आधी-अधूरी स्वास्थ्य अधिकारियों की लापरवाही के कारण स्वास्थ्य सुविधाएं प्रभावित स्वास्थ्य विभाग और शिक्षा के घटिया परिणाम पर मनोहर लाल ने जताई नराजगी सुमन महाराज ने कहा- क्षमा धर्म का प्राण और अराधना का सार है शिविर में डेढ़ सौ लोगों का स्वास्थ जांचा भारत को रूस बेचना चाहता है अपना सबसे आधुनिक लड़ाकू विमान मिग-35 जूनियर पाइलेटों से भरवा रही है जमानती बांड जेट एयरवेज स्मैक बेचने के आरोप में दो तस्कर गिरफ्तार विश्व पैरा एथलीट: भारत एक स्वर्ण सहित पांच पदक के साथ रही टॉप 30 से बाहर भारत सरकार ‘मेक इन इंडिया के तहत बनाएगी सुपर कंप्यूटर WWC17: भारत के सपने हुए चकनाचूर, इंग्लैंड चौथी बार बनी वर्ल्ड चैंपियन मेलबर्न के फेडरेशन चौक पर भारतीय झंडा फहराएंगी ऐश्वर्या वर्ल्ड कप फाइनल LIVE: भारतीय महिला टीम लड़खड़ाई, वेदा के बाद गोस्वामी भी लोटी, score 208/7
नोटबंदी से धीमी पड़ी कारखानों में उत्पादन वृद्धि: PMI
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 03:14:16 PM
1 of 1

नई दिल्ली। नवंबर माह में नोटबंदी के चलते विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि रफ्तार धीमी पड़ी है। नकदी की कमी के चलते घरेलू खपत कमजोर पड़ने से वस्तुओं के उत्पादन, नए आर्डर पर असर पड़ा है। एक मासिक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष सामने आया है। इसका एक पहलू यह भी है कि मुद्रास्फीतिक दबाव कमजोर पड़ा है और इससे रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा में दर में कटौती की उम्मीद बढ़ी है। इससे पहले अक्तूबर में यह 54.4 अंक पर 22 माह के उच्चस्तर पर पहुंच गया था।

पीएमआई के जरिए विनिर्माण क्षेत्र के प्रदर्शन को आंका जाता है। 50 से अधिक अंक विस्तार का संकेत देते हैं जबकि इससे कम होने पर यह संकुचन को दर्शाता है। आईएचएस मार्किट की अर्थशास्त्री और रिपोर्ट तैयार करने वाली पोलीयाना डे लिमा ने कहा की नवंबर के पीएमआई आंकड़े दर्शाते हैं कि 500, 1,000 रपये के नोटों को प्रचलन से अचानक हटा लिये जाने का विनिर्माण गतिविधियों पर असर पड़ा है।

नकदी की कमी से नया काम, खरीदारी गतिविधियां और उत्पादन वृद्धि प्रभावित हुई है।हालांकि, पीएमआई के नवंबर के आंकड़े लगातार 11वें महीने विनिर्माण क्षेत्र में सुधार को दर्शाते हैं। लीमा ने कहा सर्वेक्षण में कई कंपनियों ने निकट भविष्य में गतिविधियों में और प्रभाव पड़ने की आशंका जताई है जबकि दीर्घकाल में नोटबंदी से वृद्धि तेज होने की उम्मीद है, क्योंकि इससे कई गैर-नियमन वाली कंपनियां बाजार से बाहर होंगी।

यह भी पढ़े: रातों रात करोड़पति बना यह गांव... जानिए इसकी वजह!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: दुनिया के सबसे ठंडे महाद्वीप में पानी नहीं बल्कि बहता है खून, छिपे हैं कई राज



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.