loading...
महमूद मदनी का बड़ा बयान, जिस घर में न हो शौचालय, वहां मौलवी न पढ़ें निकाह कुख्यात अपराधी सनातन मड़ैया गिरफ्तार शिखा की शानदार गेंदबाजी ने दिलाई भारत को लगातार तीसरी जीत तम्मा तम्मा अगेन बादशाह के साथ किम जोंग के भाई की हत्या में उ. कोरिया का हाथ: दक्षिण कोरिया बाबुल के घर से विदा होने के बाद सीधे पोलिंग बूथ पहुंची दुल्हन आतंकवाद के खात्मे के लिए जयपुर से वाघा बॉर्डर तक 'हुंकार दौड़' रंगदारी मामले में आरोपी नक्सली गिरफ्तार मेकअप के दौरान कुछ एेसी दिखती है बॉलीवुड एक्ट्रैसेस, देखें तस्वीरें डोनाल्ड ट्रंप के बाद व्हाइट हाउस के अधिकारी राज शाह ने भी की मीडिया की आलोचना सोशल मीडिया पर धोनी के समर्थन में आये प्रशंसक OMG: ये है दुनिया की सबसे खतरनाक जेल, जहां एक-दूसरे को मारकर खा जाते हैं कैदी यूपी विस चुनाव 2017 : तीसरे चरण का मतदान समाप्त, 55 से 60 फीसदी के बीच रहा मतदान सीपीडब्ल्यूडी में कॉर्पोरेट वर्क कल्चर योजना के विरोध में उतरे कर्मचारी दरगाह हमले के बाद पाकिस्तान ने आतंवादियो पर तेज की कार्यवाही श्रीलंका ने दूसरे टी-20 में ऑस्ट्रेलिया को 2 विकेट से हराया VIDEO: करिश्मा कपूर के बॉयफ्रेंड से मिले पापा रणधीर कपूर नेत्रहीन टी-20 विश्व कप विजेता भारतीय टीम को सम्मानित करेंगे गोयल सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश कबीर का निधन, अपोलो अस्पताल ने की पुष्टि रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु का हिस्सा नहीं होंगे स्टार्क
नोटबंदी से धीमी पड़ी कारखानों में उत्पादन वृद्धि: PMI
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 03:14:16 PM
1 of 1

नई दिल्ली। नवंबर माह में नोटबंदी के चलते विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि रफ्तार धीमी पड़ी है। नकदी की कमी के चलते घरेलू खपत कमजोर पड़ने से वस्तुओं के उत्पादन, नए आर्डर पर असर पड़ा है। एक मासिक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष सामने आया है। इसका एक पहलू यह भी है कि मुद्रास्फीतिक दबाव कमजोर पड़ा है और इससे रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा में दर में कटौती की उम्मीद बढ़ी है। इससे पहले अक्तूबर में यह 54.4 अंक पर 22 माह के उच्चस्तर पर पहुंच गया था।

पीएमआई के जरिए विनिर्माण क्षेत्र के प्रदर्शन को आंका जाता है। 50 से अधिक अंक विस्तार का संकेत देते हैं जबकि इससे कम होने पर यह संकुचन को दर्शाता है। आईएचएस मार्किट की अर्थशास्त्री और रिपोर्ट तैयार करने वाली पोलीयाना डे लिमा ने कहा की नवंबर के पीएमआई आंकड़े दर्शाते हैं कि 500, 1,000 रपये के नोटों को प्रचलन से अचानक हटा लिये जाने का विनिर्माण गतिविधियों पर असर पड़ा है।

नकदी की कमी से नया काम, खरीदारी गतिविधियां और उत्पादन वृद्धि प्रभावित हुई है।हालांकि, पीएमआई के नवंबर के आंकड़े लगातार 11वें महीने विनिर्माण क्षेत्र में सुधार को दर्शाते हैं। लीमा ने कहा सर्वेक्षण में कई कंपनियों ने निकट भविष्य में गतिविधियों में और प्रभाव पड़ने की आशंका जताई है जबकि दीर्घकाल में नोटबंदी से वृद्धि तेज होने की उम्मीद है, क्योंकि इससे कई गैर-नियमन वाली कंपनियां बाजार से बाहर होंगी।

यह भी पढ़े: रातों रात करोड़पति बना यह गांव... जानिए इसकी वजह!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: दुनिया के सबसे ठंडे महाद्वीप में पानी नहीं बल्कि बहता है खून, छिपे हैं कई राज



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.