अवैध हथियार रखने के मामले में एक और गिरफ्तार नई मेट्रो रेल नीति को मिली केंद्र सरकार से मंजूरी, करीब सात शहरों में मेट्रो रेल नेटवर्क जिम्बाब्वे के प्रेसिडेंट की पत्नी ग्रेस मुगाबे ने फोड़ा मॉडल का सिर, केस दर्ज कपिल शर्मा और नवजोत सिंह सिद्धू के झगडे की वजह बनी अर्चना! बेहद खतरनाक हैं प्लास्टिक बैग्स में पैक खाना, हो सकती है ये जानलेवा बीमारी! वित्त वर्ष में टाटा पावर की उत्पादन क्षमता में 13 फीसदी की बढोतरी पुलिस मुठभेड़ में पचास हजार ईनामी नितिन की मौत, 2 पुलिसकर्मी घायल ‘पहरेदार पिया की’ का BCCC ने बदला टाइम, अब इस समय होगा प्रसारित बिहार के सृजन घोटाले का मामला उच्च न्यायालय में पहुंचा 2019 तक LED इस्तेमाल करने वाला पहला देश बन सकता है भारत: पियुष गोयल गोरखपुर: BRD मेडिकल कॉलेज में 48 घंटों में हुई 34 और बच्चों की मौत 17 अगस्त राशिफल : जानिए कैसा रहेगा आपके लिए गुरुवार का दिन देश्‍ा और दुनिया के इतिहास में 17 अगस्‍त की महत्वपूर्ण घटनाएं मरीजों की सेवा करने में भी अपना योगदान देंगे स्वास्थ्य महकमे के कर्मचारी स्वास्थ्य केंद्र पर आठ माह से लटक हुआ है ताला सदर अस्पतालों में दवा और जांच की सुविधाओं का घोर अभाव प्रेग्नेंसी डर काे दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके शराब पीने से तबाह हो सकती है आपकी सेक्स लाइफ बार-बार जम्हाई आने के ये हो सकते है कारण AC में रहने की आदत आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक
GST से भूमि एवं रियल एस्टेट में पारदर्शिता बढ़ेगी तथा भ्रष्टाचार घटेगा
sanjeevnitoday.com | Sunday, August 13, 2017 | 12:38:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। बिजली, शराब, रियल एस्टेट एवं शिक्षा समेत नए क्रियान्वित अप्रत्यक्ष कर के आधार को विस्तृत करने के लिए वस्तु एवं सेवा कर (जी.एस.टी.) दायरे में लाने की इकोनॉमिक सर्वे में वकालत की गई है। बिजली को जी.एस.टी. के दायरे में लाने से इंडस्ट्री में प्रतिस्पर्धा होगी क्योंकि बिजली पर कर निर्माताओं की लागत में जोड़ा जाता है तथा बतौर इनपुट टैक्स वे क्रैडिट की वापसी का दावा कर सकते हैं। उक्त बातें मुख्य आॢथक सलाहकार अरविंद सुब्रह्मण्यन ने इकोनॉमिक सर्वे जारी करते हुए कही। उन्होंने कहा कि जी.एस.टी. में भूमि एवं रियल एस्टेट तथा शराब को दायरे में लाने से पारदॢशता बढ़ेगी तथा भ्रष्टाचार घटेगा। 

यह भी पढ़े: अमेरिका के वर्जीनिया में राष्ट्रवादियों और विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प, 3 की मौत

खास बात यह है कि सर्वे में सोने पर 3 प्रतिशत जी.एस.टी. की दर को कम बताया गया है। सर्वे में कहा गया है कि सोने का इस्तेमाल सम्पन्न वर्ग करता है इसलिए इसे बढ़ाना उचित रहेगा। सर्वे में शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं को जी.एस.टी. के पूर्णत: बाहर करने के निर्णय की आलोचना करते हुए परोक्ष रूप से इसे कर के दायरे में लाने की वकालत की गई है। इसमें कहा गया है कि शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं का इस्तेमाल सम्पन्न वर्ग आम तौर पर अधिक करता है इसलिए इसे जी.एस.टी. से बाहर रखना तर्कसंगत नहीं है। सर्वे में कहा गया है कि जी.एस.टी. लागू होने के शुरूआती फायदे नजर आने लगे हैं। सर्वेक्षण कहता है कि जून व जुलाई में कर आधार के विस्तार के पूर्व लक्षण हैं। 6.6 लाख नए करदाता बने हैं जो जी.एस.टी. पंजीकरण से पहले टैक्स के दायरे से बाहर थे। सर्वेक्षण कहता है कि पूर्व आकलन परिणाम के तौर पर टैक्स आधार में बड़ी वृद्धि को इंगित करता है।

 

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.