loading...
loading...
loading...
एक जुलाई से देश में जीएसटी लागू होने पर व्यापारियों ने पूछे सवाल इस लेडी टीचर ने स्‍टूडेंड और टीचर के पवित्र रिश्ते को किया कलंकित, स्‍टूडेंड से बनाये शारीरिक संबंध वीडियो: राखी सावंत ने अम्बानी को अपने पाप धोने का बताया रास्ता वीडियो: युवक ने की भीड़ के सामने औरत की निर्ममता से पिटाई इस साल चाइना में रिलीज होगी 'सुल्तान', क्या दे पाएगी 'दंगल' को टक्कर? एक ऐसा गांव जिसकी परम्परा को सुनकर आप भी रह जाएंगे दंग चीन में भूस्खलन में दबे लोगो की संख्या बढ़कर हुई 141 सरकार, ट्राई के बीच नीतिगत मुद्दों पर विचार विमर्श पुलिस में होना चाहता था भर्ती, फिजीकल टेस्ट की तैयारी करते वक्त हुई मौत बुलंदशहर में 'लेडी पुलिस सिंघम' ने नियम तोड़ने पर BJP नेता को लगाई फटकार OMG: जुहू का अपना घर छोड़ गोरेगांव के होटेल में शिफ्ट हो गए है शाहिद ये है दुनिया के सबसे खतरनाक ब्रिज, यहां चलना खतरे से नहीं है खाली शहीद पिता को मुखाग्नि देते वक़्त खूब रोया 1 साल का बेटा Snapdeal दे रहा है इन ऑफर्स पर भरी डिस्काउंट महिला को प्यार का झांसा देकर लुटे एक करोड़ रुपए कर्नाटक लोक सेवा आयोग ने निकाली टीचर की भर्ती, आज ही करे ऑनलाइन आवेदन राष्ट्रपति चुनावों की तैयारियों को लेकर रविवार को लखनऊ पहुंचेंगे कोविंद डॉलर के मुकाबले रुपए में हुई 7 पैसे की बढ़ोतरी शिवराज के मंत्री नरोत्तम मिश्र पर लगा 3 साल का बैन: चुनाव आयोग सरकारी नौकरी का झांसा देकर ठगे10.50 लाख रुपए
SC ने की DMRC की याचिका खारिज
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 01:00:26 PM
1 of 1

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने एयरपोर्ट लाइन से जुड़े  मामले में दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) की याचिका खारिज करते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय ने  DMRC को 60 करोड़ रुपए का रिलायंस इन्फ्रा को  अंतरिम भुगतान करने का आदेश दिया था, जिसके खिलाफ यह याचिका दायर की गई थी।

 

 
इसके मुताबिक DMRC को 2,950 करोड़ रुपए आर इन्फ्रा को देने हैं। शीर्ष न्यायालय ने DMRC को निर्देश दिए हैं, कि वह दिल्ली एयरपोर्ट एक्सप्रेस प्राइवेट लिमिटेड (DEMPL) के कर्जदाताओं को एक सप्ताह के अंदर अंतरिम भुगतान करे। जो आर इन्फ्रा की सहायक इकाई है।
 पिछले महीने आर-इन्फ्रा ने एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन समझौते को कथित रूप से तोड़े जाने के मामले में मध्यस्थता पंचाट में जीत हासिल की थी। 


 उच्चतम न्यायालय के अवकाशकालीन पीठ के मुताबिक हमें नहीं लगता  कि उच्च न्यायालय के फैसले में हस्तक्षेप किया जाए।' सूत्रों के अनुसार अगर 1,775 करोड़ रुपए ब्याज भी शामिल कर लिया जाए तो कुल धनराशि 4,725 करोड़ रुपए हो जाएगी, जो पंचाट के जरिए दी गई सबसे बड़ी धनराशि है। 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.