loading...
धर्मशाला टेस्ट: अपनी शानदार गेंदबाजी को लेकर कुलदीप ने दिया ये बयान बिजली दरों की बढ़ोत्तरी के विरोध में भाजपा ने सदन में किया हंगामा योगी आदित्यनाथ के खिलाफ कमेंट को लेकर शीरिष कुंदर ने माफी मांगी तीन सड़क हादसों में मासूम समेत तीन की मौत केंद्र सरकार ने अप्रत्यक्ष कर में पारदर्षिता की लिये CBEC के नाम व कार्य में किये बदलाव कुलदीप की शानदार गेंदबाजी को लेकर उनके कोच ने दिया ये बयान केवल एमसीडी का नहीं, मिनी इंडिया का चुनाव है: वेंकैया नायडू अगले माह अमित शाह 3 दिन के लिए राजस्थान दौरे पर, वसुंधरा के नेतृत्व में ही होगा अगला चुनाव जिओ ने फ्री डाटा सर्विस ख़त्म होने से पहले लॉन्च किये वार्षिक प्लान VIDEO: इन बॉलीवुड स्टार्स की ये तस्वीरें देखकर दंग रह जाऐंगें आप! जेटली मानहानि केस: मुश्किल में फंसे केजरीवाल, कोर्ट ने तय किये आरोप सीएम केजरीवाल के खिलाफ अवमानना नोटिस तैयार, 20 मई से ट्रायल शुरू वंश बढ़ाने के लिए भाई से संबंध बनाने के लिए कहता था पति, तो पत्नी ने कर दी हत्या गोरखपुर में सरकार: एमपी इंटर काॅलेज में आयोजित अभिनन्दन समारोह में शामिल हुए योगी भारत में व्यापार को लेकर Bajaj Auto और Kawasaki हुये अलग सनी लियोनी, शेयर की हैं बिकिनी में हॉट तस्वीरे… 54 टेस्ट मैचों के बाद विराट ने मिस किया ये मैच उत्तर प्रदेश: मुस्लिमो को नमाज के दौरान लाउडस्पीकर का प्रयोग बंद करने की धमकी, पोस्टर बरामद जिला परिषदों में कनिष्ठ लिपिकों की भर्ती प्रक्रिया जारी: राजेन्द्र राठौड़ अमित शाह ने रामलीला मैदान से फूंका MCD चुनाव का बिगुल
कच्चे तेल के निर्यात के अनुरोध वाली केयर्न इंडिया की याचिका खारिज
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 09:11:43 AM
1 of 1

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय से केयर्न इंडिया लि. को झटका लगा है। अदालत ने ब्रिटेन के वेदांता समूह की कंपनी केयर्न इंडिया लि. की याचिका आज खारिज कर दी। याचिका में कंपनी ने अपने राजस्थान के बाड़मेर तेल फील्ड से अतिरिक्त कच्चे तेल के निर्यात की इजाजत देने का आग्रह किया था।  

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166 

अदालत ने इस आधार पर याचिका खारिज कर दी कि घरेलू कच्चा तेल का तब तक निर्यात नहीं किया जा सकता जब तक भारत इस मामले में ‘आत्मनिर्भर’ नहीं हो जाता। न्यायाधीश मनमोहन ने कहा कि इस मामले में एेसी कोई सूचना नहीं है कि भारत ने आत्मनिर्भरता हासिल कर ली है, एेसे में केयर्न तेल फील्ड से उत्पादित अपने हिस्से का कच्चा तेल की मांग नहीं होने से सरकार से सिर्फ मुआवजे का दावा कर सकती है।   

केयर्न तथा केंद्र के बीच उत्पादन साझेदारी अनुबंध (पीएससी) के तहत कंपनी को बाड़मेर से उत्पादित कच्चे तेल का 70 फीसदी मिलेगा जबकि शेष सरकार के पास जाएगा। केयर्न ने सुनवाई के दौरान कहा था कि कच्चे तेल की कंपनी की हिस्सेदारी सरकार या उसके द्वारा नामित ले सकती है और जिसका उठाव नहीं होता है, उसे निजी कंपनियों को बेचा जा सकता है या निर्यात किया जा सकता है। 

सरकार की तरफ से पेश अतिरिक्त सोलिसिटर जनरल तुषार मेहता तथा केंद्र के स्थायी वकील अनुराग अहलूवालिया ने केयर्न की अर्जी का विरोध करते हुए कहा कि एक अधिकार प्राप्त समिति ने निर्णय किया था कि घरेलू कच्चे तेल के निर्यात की अनुमति नहीं दी जा सकती क्योंकि यह देश की ऊर्जा सुरक्षा के लिहाज से नुकसानदायक होगा।  

अदालत ने सचिवों की अधिकार प्राप्त समिति के फैसले पर सहमति जताई और केयर्न को उसके हिस्से के कच्चे तेल के निर्यात की मंजूरी देने से मना कर दिया। अदालत ने कहा कि समिति ने जो कारण दिये, वे वैध और प्रासंगिक हैं। अदालत ने अपने फैसले में कहा, ‘‘वास्तव में तेल निर्यात पर अंकुश लगाने वाली नीति को लेकर केंद्र सरकार के सभी विभागों में सहमति है और यह देश की ऊर्जा सुरक्षा से जुड़ा है।’’ अधिकार प्राप्त समिति ने केयर्न को उसके हिस्से के कच्चे तेल के निर्यात के अनुरोध को खारिज कर दिया था। समिति का कहना था कि जबतक भारत आत्मनिर्भर नहीं होता, घरेलू कच्चे तेल का निर्यात नहीं किया जा सकता क्योंकि यह देश की ऊर्जा सुरक्षा के लिए हानिकारक हैं और पीएससी के उपबंधों का भी उल्लंघन करता है।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : खुशियां बाँट रही फीमेल डॉक्टर.. न्यूड होकर करती है इलाज, मरीजों की लगी रहती हैं लंबी कतार !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.