Horror ! ये है वो छः गांव जहां रहती है 1500 से अधिक चुड़ैल, पढ़े एक बार चुनाव आयोग का फैसला, सपा की साइकिल चलायेंगे अखिलेश सुप्रीम कोर्ट ने महिला के गर्भ में पल रहे 24 हफ्ते के भ्रूण को हटाने की अनुमति दी सोफिया करवाना चाहती है इस बॉलीवुड ड्रामा क्वीन की शादी चीनी मीडिया ने ट्रम्प पर किया पलटवार, कहा: युद्ध महंगा पड़ेगा, लेकिन पीछे नहीं हटेगा चीन साइना नेहवाल की नजरें मलेशिया मास्टर्स खिताब पर जयनारायण व्यास विवि भर्ती घोटाले में पूर्व कुलपति को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने तुरन्त रिहा करने का दिया आदेश BREAKING NEWS: अखिलेश की हुई साइकिल और समाजवादी पार्टी, चुनाव आयोग ने दिया फैसला चीन ने कसा तंज: NSG सदस्यता कोई फेयरवेल गिफ्ट नहीं, जो भारत को दे दंगल गर्ल जायरा वसीम ने फेसबुक पोस्ट पर मांगी माफ़ी उत्तराखंड में कांग्रेस को तगड़ा झटका, यशपाल आर्य ने 'पंजा' छोड़कर थामा 'कमल' मैनू मांगना नहीं आंदा, मानू अपना बना लो : सिद्धू किर्गिस्‍तान: घने कोहरे के बीच उतरने के प्रयास में घरो पर गिरा मालवाहक विमान, 32 की मौत अनंतनाग मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर अपनी महत्वकांक्षा को सीमित नहीं करना चाहिएः कोहली आखिर क्यों... टॉयलेट में छुपकर BSF जवान तेजबहादुर को करना पड़ा पत्नी को फ़ोन, पढ़िए पूरा मामला BREAKING NEWS: ATM से हर दिन निकाल सकेंगे 10 हजार, चालू खाते की लिमिट 1 लाख हुई राहुल ने पहले दिखाया फटा कुर्ता फिर बरस पड़े मोदी पर बोले : गरीबो के साथ नही ये शिवराज सरकार का बड़ा फैसला, 3285 करोड़ निवेश की छह परियोजनाओं को दी मंजूरी whats App पर चल रहा मुकदमा, बन सकते है सरकारी नियम !
कच्चे तेल के निर्यात के अनुरोध वाली केयर्न इंडिया की याचिका खारिज
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 09:11:43 AM
1 of 1

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय से केयर्न इंडिया लि. को झटका लगा है। अदालत ने ब्रिटेन के वेदांता समूह की कंपनी केयर्न इंडिया लि. की याचिका आज खारिज कर दी। याचिका में कंपनी ने अपने राजस्थान के बाड़मेर तेल फील्ड से अतिरिक्त कच्चे तेल के निर्यात की इजाजत देने का आग्रह किया था।  

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166 

अदालत ने इस आधार पर याचिका खारिज कर दी कि घरेलू कच्चा तेल का तब तक निर्यात नहीं किया जा सकता जब तक भारत इस मामले में ‘आत्मनिर्भर’ नहीं हो जाता। न्यायाधीश मनमोहन ने कहा कि इस मामले में एेसी कोई सूचना नहीं है कि भारत ने आत्मनिर्भरता हासिल कर ली है, एेसे में केयर्न तेल फील्ड से उत्पादित अपने हिस्से का कच्चा तेल की मांग नहीं होने से सरकार से सिर्फ मुआवजे का दावा कर सकती है।   

केयर्न तथा केंद्र के बीच उत्पादन साझेदारी अनुबंध (पीएससी) के तहत कंपनी को बाड़मेर से उत्पादित कच्चे तेल का 70 फीसदी मिलेगा जबकि शेष सरकार के पास जाएगा। केयर्न ने सुनवाई के दौरान कहा था कि कच्चे तेल की कंपनी की हिस्सेदारी सरकार या उसके द्वारा नामित ले सकती है और जिसका उठाव नहीं होता है, उसे निजी कंपनियों को बेचा जा सकता है या निर्यात किया जा सकता है। 

सरकार की तरफ से पेश अतिरिक्त सोलिसिटर जनरल तुषार मेहता तथा केंद्र के स्थायी वकील अनुराग अहलूवालिया ने केयर्न की अर्जी का विरोध करते हुए कहा कि एक अधिकार प्राप्त समिति ने निर्णय किया था कि घरेलू कच्चे तेल के निर्यात की अनुमति नहीं दी जा सकती क्योंकि यह देश की ऊर्जा सुरक्षा के लिहाज से नुकसानदायक होगा।  

अदालत ने सचिवों की अधिकार प्राप्त समिति के फैसले पर सहमति जताई और केयर्न को उसके हिस्से के कच्चे तेल के निर्यात की मंजूरी देने से मना कर दिया। अदालत ने कहा कि समिति ने जो कारण दिये, वे वैध और प्रासंगिक हैं। अदालत ने अपने फैसले में कहा, ‘‘वास्तव में तेल निर्यात पर अंकुश लगाने वाली नीति को लेकर केंद्र सरकार के सभी विभागों में सहमति है और यह देश की ऊर्जा सुरक्षा से जुड़ा है।’’ अधिकार प्राप्त समिति ने केयर्न को उसके हिस्से के कच्चे तेल के निर्यात के अनुरोध को खारिज कर दिया था। समिति का कहना था कि जबतक भारत आत्मनिर्भर नहीं होता, घरेलू कच्चे तेल का निर्यात नहीं किया जा सकता क्योंकि यह देश की ऊर्जा सुरक्षा के लिए हानिकारक हैं और पीएससी के उपबंधों का भी उल्लंघन करता है।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : खुशियां बाँट रही फीमेल डॉक्टर.. न्यूड होकर करती है इलाज, मरीजों की लगी रहती हैं लंबी कतार !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.