नागिन 2 की एक्ट्रेस आशका गोराडिया- ब्रेंट गोबले की शादी की डेट आउट हरमनप्रीत को सचिन की मदद से डायना ने दिलाई प. रेलवे में नौकरी अब रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर धारक बनेगे करोड़पति अनोखा गांव: यहां प्लास्टिक की बोतलों से बने हुए है घर! अनुष्का शर्मा ने कहा, मुझे बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद जैसी किसी चीज का सामना नहीं करना पड़ा लालू-राबड़ी को नहीं मिलेगी अब पटना एयरपोर्ट पर वीवीआईपी सुरक्षा SLC प्रेसिडेंट इलेवन का प्रैक्टिस मैच ड्रॉ, कोहली-राहुल ने ठोके अर्धशतक अनोखा होटल: यहां मरे हुए लोगों को दी जाती है ये खास सुविधाएं भाभी संग मिलकर पति ने पत्नी को जिन्दा जलाया इस औरत के शौक के बारें में जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान! BCCI का भारतीय महिला टीम को तोहफा, देंगे 50-50 लाख करीना कपूर के मस्तमौला किरदार ने अनुष्‍का को किया प्रेरित ग्राहकों को कैशबैक में सोना देगा Paytm आज राहुल संग मीटिंग और मोदी संग डिनर करेंगे नितीश चिकन मोमोज़ में मिलाया जा रहा है कुत्ते का मांस राजस्थान के भाजपा सांसद सांवरमल जाट की अमित शाह की मीटिंग के दौरान बिगड़ी तबीयत देखिए VIDEO OMG: इन जुड़वां बेटियों की मां तो एक ही है पर पिता... फॉर्च्‍यून 2017 की टॉप-500 ग्‍लोबल कंपनियों की लिस्‍ट जारी मिताली-वेदा ने हरमनप्रीत की पारी देखकर किया डांस, कैमरा देख शरमाई एक ऐसी जेल, जहां जाने से थर-थर कांपते थे कैदी!
नोटबंदी के फैसले के बाद क्रेडिट और डेबिट कार्डों से लेनदेन केवल 7 फीसदी बढ़ा
sanjeevnitoday.com | Sunday, July 16, 2017 | 09:31:46 PM
1 of 1

नई दिल्ली। केंद्र सरकार की ओर से लिए नोटबंदी के फैसले के बाद डिजिटल लेने देन में भारी बढ़ोतरी हुई है लेकिन एक शीर्ष अधिकारी के अनुसार क्रेडिट और डेबिट कार्डों के जरिये लेनदेन में मात्र सात प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है हालांकि कुल डिजिटल ट्रांजेक्शन में 23 फीसद का उछाल देखने को मिला है। एक सरकारी अधिकारी ने यह जानकारी संसदीय समिति को दी है। गौरतलब है कि नोटबंदी का फैसला केंद्र सरकार ने बीते साल 8 नवंबर को लिया था।

नोटबंदी और डिजिटल अर्थव्यवस्था की ओर बदलाव पर संसद की वित्त पर स्थायी समिति के समक्ष कई मंत्रालयों के अधिकारियों ने प्रेजेंटेशन दिया था। संसदीय समिति को दी गई इस जानकारी में अधिकारी ने कहा कि सभी माध्यमों से डिजिटल लेनदेन नवंबर, 2016 के 2.24 करोड़ से 23 फीसद बढ़कर मई, 2017 में 2.75 करोड़ हो गया। सबसे ज्यादा इजाफा यूपीआई से लेनदेन में हुआ। यह नवंबर, 2016 के 10 लाख प्रतिदिन से बढ़कर मई, 2017 में तीन करोड़ प्रतिदिन पर पहुंच गया।
 
यूपीआई या यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस ऐसी प्रणाली है जिसमें कई बैंक खातों को एकल मोबाइल अप्लिकेशन में जोड़ा जा सकता है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक आईएमपीएस या तत्काल भुगतान सेवा के जरिए लेनदेन इस अवधि में 12 लाख से बढ़कर 22 लाख हो गया। यह इलेक्ट्रॉनिक तरीके से पैसे ट्रांसफर करने वाली सर्विस है। वहीं सबसे कम इजाफा प्लास्टिक कार्ड के जरिए लेनदेन में हुआ। नवंबर, 2016 के 68 लाख के आंकड़े से यह मई 2017 तक मात्र सात फीसद इजाफे के साथ 73 लाख तक ही पहुंचा।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.