रिलायंस जियो का धन धना धन पैक हुआ महंगा 399 की जगह देने होंगे 459 राष्ट्रपति कोविंद ने दीपावली की पूर्व संध्या पर देशवासियों को दी बधाई वीडियो : PM मोदी ने सेना के जवानों के साथ मनायी दिवाली मैरिलैंड के बिजनेस पार्क में हुई गोलीबारी में एक संदिग्ध बंदूकधारी गिरफ्तार कंधार में सेना के कैंप पर तालिबान ने किया आत्मघाती हमला, भारत ने दी कड़ी प्रतिक्रिया भारत से हमारी ऐसी दोस्ती 100 साल तक चले : अमेरिका मंदिर में दिया जलाने गये बालक को जिंदा जलाया... ईपीएफओ ने यूएएन को ऑनलाईन से आधार जोड़ने की नई सुविधा दी इस कुत्तें की कीमत जानकर आपके उड़ जाएंगे होश भ्रष्टाचार केस : नवाज शरीफ और उनकी बेटी-दामाद पर आरोप तय, हो सकती है जेल पिछले 80 सालों से दुकान में बंद है दुल्हन का मोम का पुतला यहां मन्नत पूरी होने पर श्रद्धालु कराते हैं बेड़नियों का नाच भारत में ही नहीं विश्व के इन देशो में भी मनाया जाता है दिवाली की त्यौहार पुराने सेकंड हैंड सोफे ने बना दिया लखपति, जानिए कैसे? दीपावली विशेष : जानिए, मां लक्ष्मी और गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि इस्लामिक स्टेट ने चोर को दी ऐसी खौफनाक सजा, देखें फोटोज विद्युत एमनेस्टी योजना : 31 दिसम्बर तक बकाया राशि एकमुश्त जमा कराने पर ब्याज व पेनल्टी में छूट अब एक और बाबा पर लगा अवैध सम्बन्ध का आरोप, उठाया ये खौफनाक कदम... रंजिश के चलते औरत को अगवा कर किया गैंगरेप, फिर प्राइवेट पार्ट... भाजपा की महिला नेता ने अपने ही पति पर लगाया अननैचुरल सैक्स का आरोप
12 बड़े कर्जदारों के खिलाफ 1 महीने के अंदर करे मामला दर्ज
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 08:40:37 AM
1 of 1

नई दिल्ली।  आज यानि सोमवार को भारतीय रिजर्व बैंक ने उन खातों की पहचान की है जो बैंकों का 2 लाख करोड़ रुपए दबाए बैठे है। इन 12 कंपनियां पर 1 महीने के अंदर मामला दर्ज करें। राष्ट्रीय कंपनी लॉ ट्राइब्युनल ये देखेगा कि इन कंपनियों से पैसा वसूली का कोई रास्ता निकल सकता है या इन्हें बेचकर ही वसूली की जा सकती है। नीति आयोग मानता है कि सख्त कार्रवाई जरुरी है।

 

समिति के चेयरमैन टी हक के मुताबिक बैंकों को दोषी कंपनियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करनी है जिससे आगे के समय में करज़ न चुकाने वाला डरें। पिछले कई दिनों से बैंकों की एनपीए- यानी डूबेई पैसे- को लेकर देश भर में बहस चल रही है। बैंकों की कुल 8 लाख करोड़ रुपये कंपनियों के पास फंस गए हैं
इन कंपनियों के पास 500 कंपनियों का पता लगाया गया है, इनमें से 12 कंपनियां करीब दो लाख करोड़ हैं।

टी हक कहते हैं कि भारत सरकार के पास कोई राष्ट्रीय स्तर पर नीति है। एनपीए के खिलाफ कड़े कार्रवाई करने के लिए हक कहते हैं कि सरकार को नए नियमों को बनाने से, जिससे NPA की समस्या दोबारा खड़े हो और बैंकों से ऋण लेने के लिए नियम और सख्त बने रहें।

रिटेल बैंक ने जिन खातों की पहचान की है उनमें एमटेक ऑटो पर 14,074 करोड़ रुपये, भूटान स्टील पर 44,478 करोड़ रुपये, एस्सार स्टील पर 37,284 करोड़ रुपये, भूस पावर एंड स्टील पर 37,248 करोड़ रुपये, आलोक इंडस्ट्रीज पर 22,075 करोड़ रुपये, मॉनेट स्टील पर 12,115 करोड़ रुपये और लैंको इन्फ्रा पर 44,364.6 करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है। इस सूची में अन्य कंपनियों में इलेक्ट्रोस्टाइल स्टील्स पर 10,273.6 करोड़ रुपये, आईआरए इन्फ्रा पर 10,065.4 करोड़ रुपये, जेपी इन्फ्राटेक पर 9,635 करोड़ रुपये, एबीजी शिपयार्ड पर 6,953 करोड़ रुपये और ज्योति स्ट्रक्चर पर 5,165 करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.