loading...
दो लाख रुपए से अधिक की नकद खरीद पर देना होगा, 100 प्रतिशत जुर्माना चौथे टेस्ट में कोहली की जगह खेल सकता है ये बल्लेबाज स्कूल में डायरेक्टर और टीचर कर रहे थे रोमांस, फिर ऐसे आई सच्चाई सामने... आईपीएल-2017: पुणे टीम ने विश्व के नंबर-1 गेंदबाज़ को किया शामिल, मचा सकता है तहलका फिल्म 'सैराट' की एक्ट्रेस रिंकू राजगुरु के साथ हुई छेड़छाड़ आतंकवादी संगठन आईएस ने ली लंदन हमले की जिम्मेदारी, अब तक आठ गिरफ्तार मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने धौलपुर का दौरा किया भोपाल अपहरण मामले में 14 आरोपी गिरफ्तार महिला हॉकी राउंड-2: रानी का लक्ष्य विश्व लीग में टीम को शीर्ष पर पहुंचाना एयर इंडिया ने मैनेजर से मारपीट करने वाले शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ को किया ब्लैकलिस्ट सिद्धि विनायक मंदिर में विद्या के साथ हुआ ये शर्मनाक इंसिडेंट, यूं दिया करारा जवाब लडकी के अपहरण के आरोप में दो लोग गिरफ्तार ऑफिस में आजम की तस्वीर देखकर भड़के यूपी के नए मंत्री मोहसिन रजा , PM और CM की फोटो लगाने का दिया आदेश सोनाक्षी सिन्हा पूछना चाहती है 'सुल्तान' से ये सवाल भोपाल में दिनदहाड़े युवक का अपहरण एयर एशिया 15 अप्रैल को रांची से हवाई सेवा करेगी शुरू यूपी के नए स्वास्थ्य मंत्री का ऐलान, एम्बुलेंस से हटेगा 'समाजवादी' शब्द गुजरात लॉयन्स टीम के मालिक को IPL का बेसब्री से इंतजार, जाने क्या है वजह? वर्षा से क्षतिग्रस्त सड़कों व भवनों के लिए 13 करोड़ 77 लाख की मदद : कटारिया कश्मीरी गेट मेट्रो स्टेशन पर 8 घंटे रेलिंग से लटकती रही लाश, लेकिन किसी की भी नहीं पड़ी नजर
वार्षिक हो या अर्धवार्षिक परीक्षा, कुत्ते बिल्लियों से होगा तनाव काम...जाने कैसे
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 08:02:28 PM
1 of 1

नई दिल्ली। परीक्षाओं का मौसम आते ही, छात्रों और अभिवावकों के चहरों के रंग फीके पड़ने लगते हैं। साल भर स्कूल के क्रिया  कलापों के बाद, शुरू होता है वार्षिक परीक्षाओं का सिलसिला, जो पूरे साल में छात्रों द्धारा प्राप्त किये गए ज्ञान का मूल्यांकन करते हैं। कॉम्पिटिशन की दौड़ में, परीक्षाओं का आगमन छात्रों के ऊपर तनाव बढ़ा देता है। इस तनाव को कम करने के लिए मनोवैज्ञानिक अनेक उपाय सुझाते हैं। तनाव को कम करने के प्रयास लंकाशायर यूनिवर्सिटी के छात्रों ने एक आशा की किरण दिखाई है। जो कुछ नन्हे, सुन्दर जीवों के रूप में सामने आती है, जिनकी स्पर्श किसी भी कठोरहृदय इंसान के दिल में भी प्यार जगा दें।

कुत्तों के साथ मस्ती से तनाव दूर 

जब आप इन नन्हें प्यारे पिल्लों की आँखों में देखते हैं, तो आप महसूस करते हैं कि यक़ीनन आपका तनाव कम हो रहा है। इन प्यारे पिल्लों से भरे कमरे में समय बिताने की कल्पना मात्र भी आपको सुकून देती है। इस कॉन्सेप्ट को ध्यान में रखते हुए एक चैरिटेबल संस्था यूनि संघ द्धारा कुत्तों के साथ खेलकर मस्ती करते हुए, छात्रों के तनाव को दूर करने का प्रयास किया। जापान में किये गए शोधों के आधार पर सुन्दर वस्तुओँ और नन्हें जीवों के चित्र  ध्यान केंद्रित करने में मदद करते हैं। संघठनकर्ताओं के अनुसार "प्रोजेक्ट के दौरान इन नन्हें पिल्लों के देखभाल और छात्रों की सुरक्षा हमारी सबसे पहली जिम्मेदारी होगी, इनके केयर टेकर भी एक्टिविटी के दौरान साथ रहेंगे। 3 घंटे के इस तनाव मुक्त सेशन के मध्य निश्चित समय पर, पिल्लों को ब्रेक भी दिया जाएगा। यूनि संघ ने बताया कि "इन पिल्लों के लिए विशेष कमरों का प्रबन्ध किया गया है, जिसमें चुनिंदा छात्रों को निर्धारित समय के लिए प्रवेश दिया जाएगा। इस विधि से इन नन्हें प्राणियों को लोगों के साथ रहने का मौका मिलेगा, जो इनको सफल 'गाइड डॉग' बनने की ट्रेनिंग में लाभदायक साबित होगा। वैज्ञानिकों के अनुसार जब हम इन जीवों की आँखों में देखते हैं, हमारे शरीर में कुछ अलग तरह के केमिकल बनने शुरू हो जाते हैं, जो हमारे भावों में परिवर्तन लाकर, हमारे तनाव को कम करने में सहायक सिद्ध होते हैं

यह भी पढ़े : OMG! उम्र 10 साल, वजन 192 Kg... इतना मोटा की दूर-दूर से देखने आते है लोग

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े : ऐसा केवल india में ही हो सकता है... देशी जुगाड़ देख मुस्कुरा देंगे आप !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.