शशिकला को संभालनी चाहिए अन्नाद्रमुक की कमान : पन्नीरसेल्वम HOCKEY: इंग्लैंड भी नही रोक सका भारत का विजयी अभियान, 5-3 से परास्त BIRTHDAY PARTY: स्टनिंग लुक में नजर आई नव्या पिस्टल दिखाकर महिला से मारपीट और गैंगरेप पर्रिकर ने मॉरीशस को पूर्ण सहयोग का दिया आश्वासन ऐसा क्या कारण था जो कटप्पा ने बाहुबली को मारा तेलंगाना में करीब 82 लाख रूपये के नए नोट जब्त पंजाब: बेरवाला गांव के जंगल में मिली मिसाइल,मचा हड़कंम एयर इंडिया फंसे यात्रियों को निकालने के लिए आज रात दो उड़ानें करेगी संचालित नहीं मिली एम्बुलेंस, मजबूरन हाथ रिक्शे से लाना पड़ा शव life Ok शो ‘बहू हमारी रजनीकांत’ बंद नहीं होगा भारत को तीन साल में मिलेगी राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप: वायुसेनाध्यक्ष खेल मंत्री ने सोनीपत में नए कुश्ती हाल का उद्घाटन किया.. नोटबंदी भ्रष्टाचार ख़त्म करने का अचूक हथियार: मोदी खरीददारी करने गयी महिला से छेड़छाड़, आरोपी फरार तेंदुए की कीमती खाल की तस्करी के आरोप में एक गिरफ्तार गुरदासपुर के छावनी इलाके में तलाशी अभियान 'ओके जानू' 13 जनवरी, 2017 को सिल्वर स्क्रीन पर होगी रिलीज स्पेशल टीम ने कुख्यात सूरज गिरोह के 9 गुर्गों को किया गिरफ्तार जम्मू कश्मीर में ले घूमने का मजा, सुरक्षा की चिंता न करें : महबूबा
वार्षिक हो या अर्धवार्षिक परीक्षा, कुत्ते बिल्लियों से होगा तनाव काम...जाने कैसे
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 08:02:28 PM
1 of 1

नई दिल्ली। परीक्षाओं का मौसम आते ही, छात्रों और अभिवावकों के चहरों के रंग फीके पड़ने लगते हैं। साल भर स्कूल के क्रिया  कलापों के बाद, शुरू होता है वार्षिक परीक्षाओं का सिलसिला, जो पूरे साल में छात्रों द्धारा प्राप्त किये गए ज्ञान का मूल्यांकन करते हैं। कॉम्पिटिशन की दौड़ में, परीक्षाओं का आगमन छात्रों के ऊपर तनाव बढ़ा देता है। इस तनाव को कम करने के लिए मनोवैज्ञानिक अनेक उपाय सुझाते हैं। तनाव को कम करने के प्रयास लंकाशायर यूनिवर्सिटी के छात्रों ने एक आशा की किरण दिखाई है। जो कुछ नन्हे, सुन्दर जीवों के रूप में सामने आती है, जिनकी स्पर्श किसी भी कठोरहृदय इंसान के दिल में भी प्यार जगा दें।

कुत्तों के साथ मस्ती से तनाव दूर 

जब आप इन नन्हें प्यारे पिल्लों की आँखों में देखते हैं, तो आप महसूस करते हैं कि यक़ीनन आपका तनाव कम हो रहा है। इन प्यारे पिल्लों से भरे कमरे में समय बिताने की कल्पना मात्र भी आपको सुकून देती है। इस कॉन्सेप्ट को ध्यान में रखते हुए एक चैरिटेबल संस्था यूनि संघ द्धारा कुत्तों के साथ खेलकर मस्ती करते हुए, छात्रों के तनाव को दूर करने का प्रयास किया। जापान में किये गए शोधों के आधार पर सुन्दर वस्तुओँ और नन्हें जीवों के चित्र  ध्यान केंद्रित करने में मदद करते हैं। संघठनकर्ताओं के अनुसार "प्रोजेक्ट के दौरान इन नन्हें पिल्लों के देखभाल और छात्रों की सुरक्षा हमारी सबसे पहली जिम्मेदारी होगी, इनके केयर टेकर भी एक्टिविटी के दौरान साथ रहेंगे। 3 घंटे के इस तनाव मुक्त सेशन के मध्य निश्चित समय पर, पिल्लों को ब्रेक भी दिया जाएगा। यूनि संघ ने बताया कि "इन पिल्लों के लिए विशेष कमरों का प्रबन्ध किया गया है, जिसमें चुनिंदा छात्रों को निर्धारित समय के लिए प्रवेश दिया जाएगा। इस विधि से इन नन्हें प्राणियों को लोगों के साथ रहने का मौका मिलेगा, जो इनको सफल 'गाइड डॉग' बनने की ट्रेनिंग में लाभदायक साबित होगा। वैज्ञानिकों के अनुसार जब हम इन जीवों की आँखों में देखते हैं, हमारे शरीर में कुछ अलग तरह के केमिकल बनने शुरू हो जाते हैं, जो हमारे भावों में परिवर्तन लाकर, हमारे तनाव को कम करने में सहायक सिद्ध होते हैं

यह भी पढ़े : OMG! उम्र 10 साल, वजन 192 Kg... इतना मोटा की दूर-दूर से देखने आते है लोग

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े : ऐसा केवल india में ही हो सकता है... देशी जुगाड़ देख मुस्कुरा देंगे आप !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.