loading...
नूबिया ने नया स्मार्टफोन लॉन्च किया एन1 लाइट, जानिए खास फीचर्स और कीमत आज का राशिफल (23 मई 2017, मंगलवार) दिग्गज स्मार्टफोन निर्माता कंपनी नोकिया 9 एक बार फिर से नए लीक को लेकर सुर्खियों में HBSE 10th Result 2017: परिणाम दोबारा घोषित, बेटियों ने मारी बाजी चुनाव आयोग ने राज्यसभा की 10 सीटों के लिए घोषित चुनाव रद्द किया सुपरस्टार रजनीकांत ने दिए राजनीति में आने के संकेत, सैकड़ों लोगों ने किया विरोध प्रदर्शन शादी का झांसा देकर युवती से 3 साल तक दुष्कर्म रमापति शास्त्री ने अल्पसंख्यक कोटे पर रोक से किया इंकार बीजेपी सरकार की कश्मीर को लेकर कोई स्थिर नीति नहीं: कांग्रेस ईवीएम को हैक करने की जो चुनौती दी है, उसमें स्पष्टता नहीं: आप कश्मीरी युवक को जीप के बोनट पर बांधकर आगे चलाने वाले मेजर को सेना ने किया सम्मानित कर्नाटक कैडर के आइएएस अनुराग तिवारी की हुई संदिग्ध मौत की होगी सीबीआइ जांच अगर आज चुनाव हुए तो फिर से सत्ता में आ सकती है मोदी सरकार: सर्वे राइफल लेकर फरार हुआ पुलिसकर्मी आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन में शामिल रीमा के एक्स हस्बैंड ने किया नया खुलासा, दिल की बीमारी से नहीं हुई थी रीमा की मौत ई-गवर्नेंस प्रभावी पहल, प्रगति ऑनलाइन से हुई कई योजनाओ की समीक्षा IAS अधिकारी अनुराग तिवारी की मौत के मामले में योगी सरकार CBI को सौपेंगी जांच पांच सितारा होटल में दिल्ली पुलिस ने मारा छापा, आईपीएल पर संट्टा खिलाते नौ गिरफ्तार दोस्त की संपति हड़पने के खातिर पुरे परिवार की कर डाली हत्या प्रो-कबड्डी लीग नीलामी में भारतीय खिलाडी मंजीत और सुरजीत पर जमकर हुई धन वर्षा
दुनिया के सबसे ठंडे महाद्वीप में पानी नहीं बल्कि बहता है खून, छिपे हैं कई राज
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 08:13:02 AM
1 of 1

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे ठंडे महाद्वीप अंटार्कटिका में एक ऐसा वॉटर फॉल है जहां पानी नहीं बल्कि खून बहता है। यकीन मानिए यहां बहने वाले पानी का रंग खून के जैसा गाढ़ा लाल है। अंटार्कटिका की मैक-मरडो घाटी में स्थित वाटरफॉल से बहने वाले पानी का रंग खून जैसा है। इसी कारण इस वाटरफॉल को ब्लड फॉल नाम से भी जाना जाता है। सबसे पहले 1911 में अमरीकी जीव विज्ञानी ग्रिफिथ टॉयलर ने इसकी खोज की थी। 


यह ब्लड फॉल पांच मंजिला इमारत जितना ऊंचा है। इस फॉल से लाल रंग के पानी बहने के पीछे कई कारण मशहूर हैं। सबसे पहला ये कि जीव विज्ञानियों के अनुसार, ग्लेशियर के नीचे बहने वाली झील जम गई और ग्लेशियर में दरार पड़ने से बाहर आने लगा। पानी में मौजूद आयरन ऑक्साइड हवा के संपर्क में आकर लाल रंग का हो जाता है जिससे पानी का रंग खून जैसा दिखता है। वहीं लोगों का मानना है कि यहां कई आत्माओं का निवास है, जो लोगों को मार देती है, इसी वजह से इसका रंग लाल है।

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.