loading...
प्रेसिडेंसी जेल में में मचा बवाल, चाकू से किया हमला, एक कैदी बुरी तरह जख्मी 31 मार्च से पहले तमिलनाडु के शख्स ने घोषित की 246 करोड़ की ब्लैकमनी, PMGKY योजना के तहत भरना होगा 45% टैक्स बहाई क्या करते हैं - भक्तिमय जीवन LIVE धर्मशाला टेस्ट: भारत ने 6 विकेट के नुकसान पर बनाए 243 रन आटा फैक्ट्री में लगी आग, आग से फैक्ट्री पूरी खाक, दमकलों ने 7 घंटे में आग पर पाया काबू एंटी रोमियो स्क्वॉड: निर्दोष युवक-युवतियों को परेशान करने वाले पुलिसकर्मियों पर सख्त हुये CM योगी LIVE धर्मशाला टेस्ट: भारत को अश्विन के रूप में लगा छठा झटका, स्कोर 224/06 कांग्रेस के दो पूर्व सांसदों की संपत्ति हो सकती है ज़ब्त LIVE धर्मशाला टेस्ट: भारत को रहाणे के रूप में लगा पांचवा झटका, स्कोर 219/05 नबालिग से 2 साल तक 8 शिक्षको ने किया रेप, कई बार खिलाई गर्भनिरोधक गोलियां, फिर हो गया कैंसर अमेरिका के नाइट क्लब में फायरिंग, 1 की मौत 13 घायल Time पत्रिका के 100 सर्वाधिक प्रभावशाली लोगों में शामिल हुए PM मोदी शॉपिंग मोल या रेस्टोरेंट के बाहर कुछ इस तरह स्पॉट हुईं मलाइका, देखें तस्वीरें राजस्थान खनिज के क्षेत्र में बनेगा मॉडल स्टेट: सुरेन्द्र पाल MCD चुनाव: मुस्लिम आबादी क्षेत्रों में AIMIM 50 सीटों पर खड़े करेगी अपने उम्मीदवार Video: भारतीय फिल्म का यूट्यूब पर सबसे ज्यादा देखा जाने वाला ट्रेलर बना 'बाहुबली 2' का ये ट्रेलर हैमिल्टन टेस्ट: दक्षिण अफ्रीका 314 पर हुई ऑल आउट, न्यूजीलैंड ने बनाए 67/0 दुबई के रियल्टी बाजार में सबसे आगे है भारतीय इन्वैस्टर्स इस फैशन ब्रांड के लिए प्रियंका ने करवाया फ़ोटोशूट, देखें तस्वीरें चीन से सुरक्षा संतुलन बनाने के लिए अमेरिका भारत को दे सकता है F-16 लड़ाकू विमान
अनोखी बच्ची: ये बच्ची बचपन से खाती है, कांच, लोहा और प्लास्टिक!
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 02:37:43 PM
1 of 1

उन्नाव। 'भूख न जाने जाति और पाति' यह कहावत उन्नाव मे 8 साल की बच्ची रीता के ऊपर सच हुई, जब बचपन में मां के मरने के बाद और गरीबी झेल रहे पिता द्वारा भरपेट खाना न दे पाने के बाद ही रीता अपनी भूख बर्दाशत नही कर पायी और एक अनोखी बच्ची बन कर उभरी। 

रीता 8 साल की हो चुकी है और अब वह कांच, लोहा, प्लास्टिक ऐसे खाती है जैसे वह उसके खाने का एक हिस्सा बन गया हो वहीं पूरी तरह स्वस्थ रीता को देख ग्रामीण हैरानी जताते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, उन्नाव के चकलवंसी गांव के मजरे मे रहने वाली रीता भले ही 8 साल की हो गई है और लोहा, कांच, प्लास्टिक उसके खाने का हिस्सा बन चुका है लेकिन यह रीता का शौक नही बल्कि यह उसकी मजबूरी थी जो आदत मे बदल गई है। 

रीता जब 4 साल की थी तो उसकी माँ के देहान्त के बाद गरीब पिता रोटी के जुगाड़ मे जुट गया और भूख से बिलबिलाई रीता ने प्लास्टिक,लोहा और कांच खाना शुरू कर दिया फिर क्या था जब भी रीता को भूख का एहसास होता तो वह कूड़े के ढेर की तरफ बढ़ जाती और लोहा, कांच और प्लास्टिक खाकर अपनी भूख मिटाती रही। 

रीता की दादी, छेदाना ने कहा कि मां के मरने के बाद रीता का पूरी तरह ख्याल न रख पाने का मलाल मेरे मन मे भी है, और मैं इस बात को मान रही हूं कि आज जो रीता की आदत बन चुकी है उसके लिए उसकी देखभाल मे कमी एक बड़ी वजह है और पड़ोसी सुरेन्द्र ने बताया कि, जहां पिता रोजी रोटी की आस में घर से बाहर घूमता रहता था, तो वही रीता भूख मिटाने के लिए लोहा, ब्लेड और प्लास्टिक के कैसेट खाकर अपना गुजारा करती थी।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.