देश और दुनिया के इतिहास में 24 जुलाई की महत्वपूर्ण घटनाएं नाशपाती के सेवन से होते है ये फायदे तुतला कर बोलते हैं तो करे आंवले का सेवन मलेरिया व डेंगू से बचने के लिए लोगो को जागरूक किया पार्षद ने सेहत विभाग के अधिकारियों के साथ मिलकर क्षेत्र का दौरा किया किदवई में नि:शुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर आयोजन स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के फैसले से इलाकावासियों की खुशी आधी-अधूरी स्वास्थ्य अधिकारियों की लापरवाही के कारण स्वास्थ्य सुविधाएं प्रभावित स्वास्थ्य विभाग और शिक्षा के घटिया परिणाम पर मनोहर लाल ने जताई नराजगी सुमन महाराज ने कहा- क्षमा धर्म का प्राण और अराधना का सार है शिविर में डेढ़ सौ लोगों का स्वास्थ जांचा भारत को रूस बेचना चाहता है अपना सबसे आधुनिक लड़ाकू विमान मिग-35 जूनियर पाइलेटों से भरवा रही है जमानती बांड जेट एयरवेज स्मैक बेचने के आरोप में दो तस्कर गिरफ्तार विश्व पैरा एथलीट: भारत एक स्वर्ण सहित पांच पदक के साथ रही टॉप 30 से बाहर भारत सरकार ‘मेक इन इंडिया के तहत बनाएगी सुपर कंप्यूटर WWC17: भारत के सपने हुए चकनाचूर, इंग्लैंड चौथी बार बनी वर्ल्ड चैंपियन मेलबर्न के फेडरेशन चौक पर भारतीय झंडा फहराएंगी ऐश्वर्या वर्ल्ड कप फाइनल LIVE: भारतीय महिला टीम लड़खड़ाई, वेदा के बाद गोस्वामी भी लोटी, score 208/7 चार वर्षीय मासूम बच्ची को चिमटो से दागने वाली दादी गिरफ्तार
अनोखी बच्ची: ये बच्ची बचपन से खाती है, कांच, लोहा और प्लास्टिक!
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 02:37:43 PM
1 of 1

उन्नाव। 'भूख न जाने जाति और पाति' यह कहावत उन्नाव मे 8 साल की बच्ची रीता के ऊपर सच हुई, जब बचपन में मां के मरने के बाद और गरीबी झेल रहे पिता द्वारा भरपेट खाना न दे पाने के बाद ही रीता अपनी भूख बर्दाशत नही कर पायी और एक अनोखी बच्ची बन कर उभरी। 

रीता 8 साल की हो चुकी है और अब वह कांच, लोहा, प्लास्टिक ऐसे खाती है जैसे वह उसके खाने का एक हिस्सा बन गया हो वहीं पूरी तरह स्वस्थ रीता को देख ग्रामीण हैरानी जताते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, उन्नाव के चकलवंसी गांव के मजरे मे रहने वाली रीता भले ही 8 साल की हो गई है और लोहा, कांच, प्लास्टिक उसके खाने का हिस्सा बन चुका है लेकिन यह रीता का शौक नही बल्कि यह उसकी मजबूरी थी जो आदत मे बदल गई है। 

रीता जब 4 साल की थी तो उसकी माँ के देहान्त के बाद गरीब पिता रोटी के जुगाड़ मे जुट गया और भूख से बिलबिलाई रीता ने प्लास्टिक,लोहा और कांच खाना शुरू कर दिया फिर क्या था जब भी रीता को भूख का एहसास होता तो वह कूड़े के ढेर की तरफ बढ़ जाती और लोहा, कांच और प्लास्टिक खाकर अपनी भूख मिटाती रही। 

रीता की दादी, छेदाना ने कहा कि मां के मरने के बाद रीता का पूरी तरह ख्याल न रख पाने का मलाल मेरे मन मे भी है, और मैं इस बात को मान रही हूं कि आज जो रीता की आदत बन चुकी है उसके लिए उसकी देखभाल मे कमी एक बड़ी वजह है और पड़ोसी सुरेन्द्र ने बताया कि, जहां पिता रोजी रोटी की आस में घर से बाहर घूमता रहता था, तो वही रीता भूख मिटाने के लिए लोहा, ब्लेड और प्लास्टिक के कैसेट खाकर अपना गुजारा करती थी।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.