loading...
सड़क दुर्घटना में 2 हिस्सों में बंटी लड़की माँ से करती रही दो मिनट बात, बोली - ''मां मुझे बचा लो'' झुग्‍गी अपनाओ अभियान के तहत स्‍लम युवा दौड़ को मिली हरी झंडी : विजय गोयल चीन 0-3 से पराजित कर भारत को सुदिरमन कप के क्वॉर्टर फाइनल में किया बाहर गांजा बेच रहे 2 युवकों को किया गिरफ्तार, मामला दर्ज ऊर्जा, जलदाय, पीडब्ल्यूडी, जल संसाधन विभागों को होगी ऑनलाइन मॉनिटरिंग : वसुन्धरा राजे विश्व के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी फ्रेंच ओपन से पहले हुए बीमार: एंडी मरे स्टार्टअप के विशेष पैविलियन में प्रदर्शित हुए किसानों के उत्पाद पीसीबी के चेयरमैन शहरयार खान की जगह अगस्त में लेंगे नजम सेठी इस अभिनेत्री को शादी से पहले मां बनने में नहीं है ऐतराज! दहेज़ उत्पीड़न, महिला ने पति सहित चार लोगों के खिलाफ दर्ज कराया मामला क्रिकेट: इंग्लैंड के स्टार स्पिनर मोईन अली ने कहा- किसी भी क्रम पर बल्लेबाजी के लिए हूं तैयार डांग क्षेत्र में जल संकट से निपटने के लिए नई इबारत लिखेंगे मिनी परकोलेशन टेंक ईपीएफओ ने दिया प्रस्ताव, होम टेक सैलरी में ऐसे होगा इजाफा VIDEO: ये बाबा सिखाते हैं हॉट योगा, साल में एक बार करते हैं स्नान श्रीनगर: खेल मंत्री अंसारी ने किया राज्य की पहली पेशेवर फुटबॉल अकादमी का उद्घाटन ट्रंप ने उत्तर कोरिया की नीतियों पर जताई चिंता, कहा - उत्तर कोरिया बन चूका है दुनिया के लिए खतरा चैंपियंस ट्रॉफी: भारत की आस्ट्रेलिया पर ये जीत रही थी यादगार, सचिन ने जड़े.... Video: केटी पेरी ये हॉट तस्वीरें है वाकई में लाजवाब! VIDEO: वेब सीरीज में दिखाई दिए छोटे पर्दे के कलाकारों के जलवे IT सेक्टर में छंटनी का मुद्दा फिर गरमाया, संस्थापक ने उठाया एक्शन पर सवाल
अनोखी बच्ची: ये बच्ची बचपन से खाती है, कांच, लोहा और प्लास्टिक!
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 02:37:43 PM
1 of 1

उन्नाव। 'भूख न जाने जाति और पाति' यह कहावत उन्नाव मे 8 साल की बच्ची रीता के ऊपर सच हुई, जब बचपन में मां के मरने के बाद और गरीबी झेल रहे पिता द्वारा भरपेट खाना न दे पाने के बाद ही रीता अपनी भूख बर्दाशत नही कर पायी और एक अनोखी बच्ची बन कर उभरी। 

रीता 8 साल की हो चुकी है और अब वह कांच, लोहा, प्लास्टिक ऐसे खाती है जैसे वह उसके खाने का एक हिस्सा बन गया हो वहीं पूरी तरह स्वस्थ रीता को देख ग्रामीण हैरानी जताते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, उन्नाव के चकलवंसी गांव के मजरे मे रहने वाली रीता भले ही 8 साल की हो गई है और लोहा, कांच, प्लास्टिक उसके खाने का हिस्सा बन चुका है लेकिन यह रीता का शौक नही बल्कि यह उसकी मजबूरी थी जो आदत मे बदल गई है। 

रीता जब 4 साल की थी तो उसकी माँ के देहान्त के बाद गरीब पिता रोटी के जुगाड़ मे जुट गया और भूख से बिलबिलाई रीता ने प्लास्टिक,लोहा और कांच खाना शुरू कर दिया फिर क्या था जब भी रीता को भूख का एहसास होता तो वह कूड़े के ढेर की तरफ बढ़ जाती और लोहा, कांच और प्लास्टिक खाकर अपनी भूख मिटाती रही। 

रीता की दादी, छेदाना ने कहा कि मां के मरने के बाद रीता का पूरी तरह ख्याल न रख पाने का मलाल मेरे मन मे भी है, और मैं इस बात को मान रही हूं कि आज जो रीता की आदत बन चुकी है उसके लिए उसकी देखभाल मे कमी एक बड़ी वजह है और पड़ोसी सुरेन्द्र ने बताया कि, जहां पिता रोजी रोटी की आस में घर से बाहर घूमता रहता था, तो वही रीता भूख मिटाने के लिए लोहा, ब्लेड और प्लास्टिक के कैसेट खाकर अपना गुजारा करती थी।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.