loading...
loading...
loading...
GOOGLE की सहायता से सिद्धू देंगे पंजाबी संस्कृति को बढ़ावा दूल्हे की सच्चाई का पता चला तो दुल्हन रह गई सन्न बारिश में भीगते हुए करीना की ये तस्वीरें हुई वायरल, देखें तस्वीरें सिर्फ 100 रुपए के लिए शराबी बेटे ने कर दी मां की हत्या सीरिया के मयादीन में स्थित आईएस संचालित जेल पर हमला ,60 लोगों की मौत तीन दिवसीय विदेश यात्रा पूरी कर लौटे मोदी, सुषमा ने किया एयरपोर्ट पर स्वागत शिवसेना ने बांधे मोदी की तारीफों के पुल, कहा- उनके शब्दों में निश्चित ही दम है Video: 'टॉयलेट- एक प्रेम कथा' का गाना हंस मत पगली... रिलीज यहां पर एक ऐसे बच्चे ने लिया जन्म जिसका नहीं है सिर! अपराधी लड़की ने कारोबारी को शराब पिलाकर कर दिया अचेत और फिर... 1.61% की गिरावट के साथ नैस्डेक 6146.62 पर बंद राष्ट्रपति चुनाव: सोनिया मनमोहन की मौजूदगी में मीरा कुमार ने भरा नामांकन डॉलर के मुकाबले रुपए में आई 2 पैसे की गिरावट वेनेजुएला के सुप्रीम कोर्ट पर आंतकी हमला कानून व्यवस्था को लेकर योगी सरकार को 100 में से 1 नंबर दूंगी: मायावती ऑटो से उतरते वक्त अपराधियों ने युवती के हाथ छीना मोबाइल और फिर... जीएसटी लागू करने की तैयारी पूरी, पर्लियमेंट के सेंट्रल हॉल में हो रहा है रिहर्सल सुरक्षा व्यवस्था के लिए US देगा भारत को संसाधन और तकनीक: अमेरिकी उपराष्ट्रपति शाहरुख़ के साथ इस फिलं में काम करने से करीना ने किया इंकार, ये है वजह एक ऐसा किला जिसकी दीवारों से टपकता था खून और रात में...
यहां संतान की प्राप्ति के लिए शिवलिंग पर चढ़ाया जाता है खीरा
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 02:24:07 PM
1 of 1

रायपुर। आज आपको एक प्राचीन देवालय के बारे में बताने जा रहे है। छत्तीसगढ के बस्तर में घने जंगलों और दुर्गम पहाड पर प्राचीन धार्मिक परंपराओं की खूबसूरती को दर्शाता है। प्राचीन धार्मिक धरोहरों में एक सुप्रसिद्ध नाम कोंडागांव जिले के आलोर ग्राम स्थित पहाड के शीर्ष पर गुफा के अंदर मौजूद प्राकृतिक शिवलिंग है। जिसका दर्शन साल में केवल एक बार किया जा सकता है, साल में एक बार भक्तों को दर्शन देकर ये माता उनकी मुरादें पूरी करतीं हैं। 

 

फरसगांव ब्लॉक के ब़डे डोंगर क्षेत्र की गुफा में मौजूद लिंगेशवरी माता को शिव और शक्ति का समन्वित रूप माना जाता है। साल भर इस गुफा का प्रवेश द्वार बंद रहता है और हर साल भाद्र महीने के शुक्ल पक्ष में नवमी तिथि के बाद आने वाले बुधवार को एक दिन के लिए क्षेत्रीय बैगा दैविक विधी-विधान के साथ इस गुफा का द्वार खोलते हैं। क्षेत्रवासियों के मुताबिक, ये पत्थर शिव-पार्वती के अर्धनारिश्वर स्वरूप का परिचायक है। 

इसलिए इसे केवल शिवलिंग नहीं, बल्कि लिंगेश्वरी माई के नाम से भी पूजा जाता है। एक ग्रामीण के मुताबिक, नि: संतान दंपत्ति यहां पहुंचकर संतान की कामना करते हैं और माता उनकी इच्छा पूरी करती है। यहां मन्नत मांगने का तरीका भी अनोखा है, प्रचलन के मुताबिक, संतान इच्छुक दंपत्ति यहां माता के चरणों मे खीरा यानि ककडी चढाते हैं और चढे हुए खीरे को पुजारियों के द्वारा वापस लौटाने के बाद पति-पत्नी खीरे को अपने नाखून से चीरकर देव स्थल के समीप ही खाते हैं।

जिससे जल्द उन्हें संतान का सुख प्राप्त हो जाता है। एक अनोखी बात ये भी है कि जब इस गुफा का पट खोला जाता है तो हर साल शिवलिंग के सामने रखे रेत में किसी न किसी जीव जंतु का पद चिन्ह रेत में बना मिलता है और ये पद चिन्ह क्षेत्र के आगामी हालात का पुर्वानुमान कराते हैं। अगर रेत में बिल्ली के पांव के निसान मिले तो क्षेत्र में भय का महौल रहेगा, इसी तरह बाघ के पैरों के निशान मिले तो क्षेत्र में जंगली जानवरों का आतंक का पूर्वानुमान लागाया जाता है। मुर्गी के के पैरों के निशान अकाल के सुचक हैं तो घोडे के पैरों के निशान युद्द और कलह का प्रतीक हैं।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.