ये बेहतरीन और आसान रंगोली डिजाइन कर सकते हैं आपकी दिवाली को रंगीन दीपावली विशेष : जानिए, मां लक्ष्मी और गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त दीपावली विशेष : क्या आपको पता है दीवाली शब्द की उत्पति कहा से हुई है ? हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और बीजेपी ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट उपराष्ट्रपति की जयपुर यात्रा की तैयारियों को लेकर हुई उच्च स्तरीय बैठक टीम इंडिया ने ऐसे मनाया पांड्या का बर्थडे, वीडियो देख कर हंसी के मारे हो जाओगे लोट पॉट आज बाजार का हीरो रहा रिलायंस इंडस्ट्रीज, निवेशकों ने कमाए 27000 करोड़ ... SBI ने पेश किया दिवाली ऑफर, मुफ्त में दे रहा है Mi Max 2 दिवाली से एक दिन पहले सोने की कीमतों में 290 रुपए की हुई बढ़ोतरी अयोध्या में 2019 तक राम मंदिर बनने के योगी आदित्यनाथ ने दिए संकेत युवराज सिंह पर उनकी भाभी ने लगाया घरेलू हिंसा का आरोप, कराया केस दर्ज यहां दहकते हुए अंगारों पर चलकर भक्तों ने किए माता के दर्शन VIDEO : हर्षिता मर्डर केस में नया खुलासा, बहन ने कहा -जीजा ने करवाया हर्षिता का कत्ल संसार के सबसे महंगे गणपति, कीमत सुनकर आप रह जाएंगे हैरान बिना जांच किए कैंसर के बारें में पता लगा लेती है ये औरत वीडियो : हर्षिता को पहले फेसबुक पर मिली थी धमकी, जवाब में कहा था- 'मैं जाटनी हूं डरती नहीं’ Railway crossing पर ट्रैक्टर से टकराई शताब्दी एक्सप्रेस, ट्रैक्टर चालक घायल VIDEO : सपना को टक्कर देने वाली हर्षिता दहिया की गोली मारकर की हत्या Salesgirls के मोबाइल फोन से चुराए फोटो-वीडियो, फिर करने लगा Blackmail विशेष लेख : हिन्दू संस्कृति, दीपावली और पटाखे
फैशन नही है ये ! टहनियों पर ब्लूटूथ से बात करते है यहाँ के जवान
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 08:44:53 PM
1 of 1

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 80 किमी दूर धमतरी के बहीगांव सीआरपीएफ कैंप में मोबाइल नेटवर्क ठीक से नहीं आता। दरअसल, यहां नक्सल प्रभावित इलाके मेचका, सिहावा, खल्लारी व बोराई में बने बेस कैंपों के आसपास कोई मोबाइल टावर नहीं है। इस कारण इलाके में पोस्टेड सीआरपीएफ जवान मोबाइल होने के बावजूद घरवालों, दोस्तों और दुनिया से किसी भी तरह का कॉन्टैक्ट नहीं रख पाते।इस मुश्किल से निपटने के लिए जवानों ने कैंप के बाहर पेड़ों पर करीब 30-40 फीट ऊपर टहनियों में रस्सी बांध रखी है। जब उन्हें किसी से मोबाइल पर बात करनी होती है, तो वे पहले मोबाइल को मोजे में डालकर रस्सी से बांध देते हैं। फिर कॉल डायल कर रस्सी के दूसरे छोर को खींच लेते हैं। अब मोबाइल ऊपर चला जाता है। वह पेड़ के नीचे कान में ब्लूटूथ लगाकर घंटों खड़े रहते हैं। ऊंचाई पर जाने से सिग्नल आ जाता है और वे पत्नी-बच्चों से बात कर पाते हैं।

2009 से तैनात हैं यहां जवान
यहां के बिरनासिल्ली कैंप में तैनात जवान बताते हैं कि मोबाइल में नेटवर्क नहीं आने से वे परिवार वालों से हफ्तों बात नहीं कर पाते हैं। ऐसे में घरवालों की चिंता उन्हें हमेशा सताती रहती है। खासकर तब जब घर पर कोई खास मौका हो या किसी की तबीयत खराब हो। नक्सली हमलों की खबरें पढ़कर भी घरवाले हमेशा परेशान रहते हैं। ऐसे में यह जुगाड़ ही हम लोगों का सहारा है।  रिसगांव में 2009 में नक्सली हमला होने के बाद बिरनासिल्ली, मेचका और बोरई में कैंप बनाकर सीआरपीएफ जवानों को तैनात किया गया। नेटवर्क न होने से सर्चिंग के दौरान जवानों को एक-दूसरे और थानों से कॉन्टैक्ट करने में भी परेशानी होती है, हालांकि अब नेटवर्क समस्या को दूर करने के 22 स्थानों का सर्वे किया गया है।

 

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.