सिख विरोधी दंगों पर चार हफ्ते में स्टेटस रिपोर्ट दे केंद्रःसुप्रीम कोर्ट गोवाः भाजपा ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई : रघुवर दास 'खुल्लम खुल्ला' की सफलता की दुआ मांगने तिरूपति पहुंचे ऋषि कपूर उप्रः भाजपा उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, 149 के नाम पर मुहर मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे के विरुद्ध मामला दर्ज दिल्ली विस का दो दिवसीय सत्र मंगलवार से, हंगामा के आसार भाजपा ने उत्तराखंड के लिए 64 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की सरकार की तीसरी वर्षगांठ पर 'अच्छा काम, ठोस परिणाम' विकास प्रदर्शनी हलफनामा न सौंपने पर चीफ जस्टिस नाराज, दस राज्यों के सचिव तलब नेताजी का चेहरा ही सपा की पहचान: अखिलेश इटली में छुट्टियां मना रही है श्रीदेवी अपनी फैमिली के साथ, देखें तस्वीरें 1 जुलाई से लागू होगा GST कोडवर्ड में कौन कर रहा है बात, पुलिस को मिलीं कुछ संदिग्ध फोन कॉल! आईएमएफ ने भारत की विकास दर घटाकर 6.6 फीसदी की दस हजार कांस्टेबल और ढाई हजार दारोगा की होगी बहाली : डीजीपी छत्तीसगढ़: राजनाथ ने कहा- नक्सल को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार करेगी सहयोग जापानी वैज्ञानिकों का दावा, पृथ्वी के केन्द्र का तीसरा पदार्थ सिलिकॉन अमृतसर पूर्व सीट से लड़ेंगे सिद्धू प्रौद्योगिकी के बदलते दौर में फिल्म निर्माण एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया में तब्‍दील हो गया है: कर्नल राठौर
फैशन नही है ये ! टहनियों पर ब्लूटूथ से बात करते है यहाँ के जवान
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 08:44:53 PM
1 of 1

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 80 किमी दूर धमतरी के बहीगांव सीआरपीएफ कैंप में मोबाइल नेटवर्क ठीक से नहीं आता। दरअसल, यहां नक्सल प्रभावित इलाके मेचका, सिहावा, खल्लारी व बोराई में बने बेस कैंपों के आसपास कोई मोबाइल टावर नहीं है। इस कारण इलाके में पोस्टेड सीआरपीएफ जवान मोबाइल होने के बावजूद घरवालों, दोस्तों और दुनिया से किसी भी तरह का कॉन्टैक्ट नहीं रख पाते।इस मुश्किल से निपटने के लिए जवानों ने कैंप के बाहर पेड़ों पर करीब 30-40 फीट ऊपर टहनियों में रस्सी बांध रखी है। जब उन्हें किसी से मोबाइल पर बात करनी होती है, तो वे पहले मोबाइल को मोजे में डालकर रस्सी से बांध देते हैं। फिर कॉल डायल कर रस्सी के दूसरे छोर को खींच लेते हैं। अब मोबाइल ऊपर चला जाता है। वह पेड़ के नीचे कान में ब्लूटूथ लगाकर घंटों खड़े रहते हैं। ऊंचाई पर जाने से सिग्नल आ जाता है और वे पत्नी-बच्चों से बात कर पाते हैं।

2009 से तैनात हैं यहां जवान
यहां के बिरनासिल्ली कैंप में तैनात जवान बताते हैं कि मोबाइल में नेटवर्क नहीं आने से वे परिवार वालों से हफ्तों बात नहीं कर पाते हैं। ऐसे में घरवालों की चिंता उन्हें हमेशा सताती रहती है। खासकर तब जब घर पर कोई खास मौका हो या किसी की तबीयत खराब हो। नक्सली हमलों की खबरें पढ़कर भी घरवाले हमेशा परेशान रहते हैं। ऐसे में यह जुगाड़ ही हम लोगों का सहारा है।  रिसगांव में 2009 में नक्सली हमला होने के बाद बिरनासिल्ली, मेचका और बोरई में कैंप बनाकर सीआरपीएफ जवानों को तैनात किया गया। नेटवर्क न होने से सर्चिंग के दौरान जवानों को एक-दूसरे और थानों से कॉन्टैक्ट करने में भी परेशानी होती है, हालांकि अब नेटवर्क समस्या को दूर करने के 22 स्थानों का सर्वे किया गया है।

 

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.